ट्रेन में बने आइसोलेशन कोच’, भारत में कोरोना के बढ़ते जा रहे केस

दुनियाभर में घातक कोरोना वायरस अपने पैर तेजी से पसार रहा है। स्वास्थय मंत्रालय द्वारा जारी ताजा रिपोर्ट के आंकड़ों से अनुसार, देश में अब संक्रमित मरीजों की संख्या 873 हो गई है। बीते 24 घंटे में 149 नए केस सामने आए हैं। इसी के साथ कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के लिए भारतीय रेलवे ने आइसोलेश कोच तैयार किए हैं।

ट्रेन में बने आइसोलेशन कोच', भारत में कोरोना के बढ़ते जा रहे केस

नई दिल्ली : दुनियाभर में घातक कोरोना वायरस अपने पैर तेजी से पसार रहा है। स्वास्थय मंत्रालय द्वारा जारी ताजा रिपोर्ट के आंकड़ों से अनुसार, देश में अब संक्रमित मरीजों की संख्या 873 हो गई है। बीते 24 घंटे में 149 नए केस सामने आए हैं। जिसमें 79 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। और 19 लोगों की मौत हो चुकी है। बता दें कि लॉकडाउन के बाद भी केस दिन प्रति दिन बढ़ ही रहे हैं। लोग घरों पर रुकनें का नाम नहीं ले रहे हैं। शासन द्वारा इतनी सख्ती के बावजूद लोग मानने को तैयार नहीं है।

ये भी पढ़ें… बड़ा बदलाव: बैंक ने ग्राहकों को लॉकडाउन में दी राहत साथ झटका भी

आधुनिक जांच किट मंगाने की घोषणा

बता दें कि हुंडई मोटर इंडिया की कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) इकाई ने कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच के लिए दक्षिण कोरिया से आधुनिक जांच किट मंगाने की घोषणा की है।

शनिवार को हुंडई मोटर इंडिया फाउंडेशन (एचएमआईएफ) ने कहा कि वह इस महामारी पर काबू पाने की पहल के तहत ये कदम उठा रही है। एचएमआईएल के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी एस एस किम ने कहा- कि हमारी वैश्विक पहल-मानवता की प्रगति के तहत हुंडई भारत सरकार की कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में सहयोग देने को प्रतिबद्ध है। आगे उन्होंने कहा कि आधुनिक जांच किट की आपूर्ति के जरिए 25,000 लोगों की जांच में योगदान कर सकेंगे।

ये भी पढ़ें… चिनहट चौराहे पर लगी लोगों की भीड़, सरकारी बसों ने दिल्ली से लाकर छोड़ा

भारतीय रेलवे ने आइसोलेश कोच तैयार

इसी के साथ कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के लिए भारतीय रेलवे ने आइसोलेश कोच तैयार किए हैं। संक्रमित मरीजों के लिए केबिन बनाने के लिए बीच वाले बर्थ को हटा दिया गया है ट्रेन में सामने वाले तीनों बर्थ को हटा दिया गया है। ऊपर वाले बर्थ पर जाने के लिए बनी सीढि़यां भी हटा दी गई है। आइसोलेशन कोच को तैयार करने के लिए बाथरूम, गलियारे के क्षेत्रों और अन्य कई क्षेत्रों को भी संशोधित किया जा रहा है।

बता दें कि अमेरिका इतना शक्तिशाली देश होने बाद भी मेडिकल सुविधाओं को पूरा नहीं कर पा रहा है। अमेरिका में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्‍या 1 लाख के पार पहुंच गई है। वहीं इटली में हर दिन सैकड़ों मौत हो रही हैं। वहां, वेंटिलेटर और आइसोलेशन वार्ड की भारी कमी महसूस की जा रही है।

ये भी पढ़ें… कोरोना के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने साइबर अपराधों के बारे में जारी की एडवाइजरी

सिर्फ बरते सावधानी और रहें घर पर

इन हालातों को देखते हुए भारत सरकार अपनी तरफ से कोरोना के खिलाफ जंग में तेजी से तैयारियां कर रही है। अगर भारत में भी हालात बिगड़ते हैं, तो आइसोलेशन वार्ड और अन्‍य चीजों की कमी न हो। हालांकि, भारत की समय रहते की गई तैयारियों को देखते हुए नहीं लगता कि कोरोना वायरस अपने पैर पसारने में सफल होगा। और ये तभी मुमकिन हो पाएगां, जब हमारे देश की जनता सरकार के निर्देशों का पालन करे और सावधानी बरतते हुए घर से बाहर नहीं निकले।

यह भी पढ़ें… कोरोना संकट से आर्थिक मंदी की चपेट में पूरी दुनिया, उबरने में लगेगा काफी वक्त

बता दें कि भारत में फैले कोरोना वायरस के मद्देनजर सभी यात्री ट्रेन सेवाओं को 14 अप्रैल तक रद कर दिया गया है। ऐसे में भारतीय रेलवे ने ट्रेन की बोगियों को आइसोलेशन वार्ड में बदल दिया गया है। रेलवे अधिकारियों ने कहा कि जरूरत आने पर वह ऐसे 3 लाख आइसोलेशन कोच बना सकता है।