×

दहेज के लिए सरकारी नौकरीः स्वास्थ्य सचिव का विवादित बयान, भड़के लोग

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन झारखंड चैप्टर ने स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी के बयान को लेकर आंदोलन की चेतावनी दी है। राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को लिखे गए पत्र में आईएमए ने विभागीय सचिव पर कार्रवाई की मांग की है।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 3 Jan 2021 4:56 AM GMT

दहेज के लिए सरकारी नौकरीः स्वास्थ्य सचिव का विवादित बयान, भड़के लोग
X
दहेज के लिए सरकारी नौकरीः स्वास्थ्य सचिव का विवादित बयान, भड़के लोग (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

रांची: झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री नितिन मदन कुलकर्णी के एक बयान ने राजनीतिक गलियारों में गर्माहट ला दी है। नवनियुक्त डॉक्टरों को नियुक्ति पत्र देने के दौरान उन्होने ऐसा बयान दिया कि, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन झारखंड चैप्टर भी नाराज़ हो गया। स्वास्थ्य सचिव ने कार्यक्रम में कहा था कि, लोग सरकारी नौकरी में दो कारणों से आना चाहते हैं। पहला उन्हे काम नहीं करना पड़ा और दूसरा उन्हे ज्यादा दहेज़ मिले। हेल्थ सेक्रेट्री के इस बयान ने विपक्षी भाजपा को भी सरकार पर हमला करने का मौका दे दिया है।

ये भी पढ़ें:शिवराज कैबिनेट का विस्तार: इन नेताओं को मिलेगा मंत्री पद, सिंधिया की बढ़ेगी ताकत

LETTER LETTER (PC: social media)

IMA की नाराज़गी

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन झारखंड चैप्टर ने स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी के बयान को लेकर आंदोलन की चेतावनी दी है। राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को लिखे गए पत्र में आईएमए ने विभागीय सचिव पर कार्रवाई की मांग की है। IMA का कहना है कि, हेल्थ सेक्रेट्री के इस बयान से डॉक्टरों का मनोबल टूटेगा। कोरोना महामारी के दौर में चिकित्सकों ने अपनी जान की बाज़ी लगाकर सेवा की है। लिहाज़ा, विभागीय सचिव को डॉक्टरों को उनकी हौसला अफ़ज़ाई करनी चाहिए न कि, उनका हौसला तोड़ना चाहिए। IMA अध्यक्ष डॉ. अरुण कुमार सिंह ने कहा है कि, विभागीय सचिव खुद एक चिकित्सक रहे हैं। लिहाज़ा, उन्हे ऐसी बयानबाज़ी नहीं करनी चाहिए।

LETTER LETTER (PC: social media)

भाजपा ने बयान की निंदा की



भाजपा विधायक दल के नेता एवं झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने भी स्वास्थ्य सचिव के बयान की आलोचना की है। अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से उन्होने लिखा है कि, कोरोना काल में लोगों की सेवा करने वाले डॉक्टरों पर ऐसी हल्की टिप्पणी से बचना चाहिए। महामारी के दौरान कई चिकित्सकों की जान भी गई है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने भी विभागीय सचिव के बयान की निंदा करते हुए इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। अपने बयान में उन्होने कहा कि, कोरोना काल में कई चिकित्सकों ने अपनी जान गंवाई है। हमें उन्हे नहीं भूलना चाहिए।

ये भी पढ़ें:रांची की सड़कों पर सरपट दौड़ता है लालू रथ, 24 वर्षों से है विजय यादव की पहचान

भाजपा कर रही है राजनीति

झारखंड की सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस ने स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी के बयान को लेकर भाजपा पर राजनीति करने का आरोप लगाया है। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता राजेश गुप्ता ने कहा कि, हेल्थ सेक्रेट्री का बयान सही नहीं है लेकिन इसे राजनीति का विषय नहीं बनाना चाहिए। अपने बयान में उन्होने कहा कि, भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी हल्की बयानबाज़ी कर रहे हैं। कोरोना काल में भाजपा के नेताओं ने लोगों की कितनी सेवा की है। खुद बाबूलाल मरांडी अपने विधानसभा क्षेत्र में कितनी बार गए हैं। लिहाज़ा, डॉटक्टरों को राजनीति से अलग रखा जाना चाहिए।

रिपोर्ट- शाहनवाज़

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story