JMM का दावा 45 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, 8 नवंबर को होगी गठबंधन की तस्वीर साफ

झारखंड में अगामी विधानसभा चुनाव में जेएमएम 45 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने साफ कहा है कि उनकी पार्टी राज्य में कम से कम 45 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।और  बीजेपी के खिलाफ बनने वाले महागठबंधन का पूरजोर जवाब देगी।

जयपुर: झारखंड में अगामी विधानसभा चुनाव में जेएमएम 45 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने साफ कहा है कि उनकी पार्टी राज्य में कम से कम 45 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।और  बीजेपी के खिलाफ बनने वाले महागठबंधन का पूरजोर जवाब देगी।

जेएमएम का महागठबंधन

पूर्व सीएम हेमंत सोरेन ने जेएमएम के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद कहा कि उनकी पार्टी आधे से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ेगी। बाकी सीटें महागठबंधन के सहयोगियों के लिए है। वे पहले भी कह चुके हैं कि उनकी पार्टी बहुमत के आकंड़ों से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

 

यह भी पढ़ें…अस्थाई जेल में तब्दील अयोध्या, सुरक्षा को लेकर फैसले से पहले हाई अलर्ट

हेमंत सोरेन ने कहा कि गुरुवार से शुक्रवार (7-8 नवंबर) तक गठबंधन की तस्वीर साफ हो जाएगी। 8 नवंबर को उम्मीदवारों की पहली सूची जारी होगी। इस मसले पर कांग्रेस और राजद से बातचीत हो रही है। जेवीएम को महागठबंधन में शामिल करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बाबूलाल मरांडी ने उन्हें मिलने का समय ही नहीं दिया। हेमंत सोरेन कुछ ही दिन पहले रांची में लालू यादव से मिले थे।

यह भी पढ़ें..कुर्सी की लड़ाई: शिवसेना ने अपनाया नया हथियार, हल्ला बोल कर रही सरकार

 

भाजपा प्रत्याशियों के नाम की घोषणा 8 नवंबर की शाम

भाजपा संसदीय बोर्ड अपने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा 8 नवंबर की शाम तक करेगी। झारखंड में पांच चरणों में चुनाव होंगे। लेकिन सभी उम्मीदवारों की घोषणा एक साथ होगी। पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा है कि झारखंड में बीजेपी अपने सहयोगी ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी। प्रदेश चुनाव समिति की अहम बैठक के दौरान सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम पर चर्चा भी हो गई है।

झारखंड विधानसभा के 81 सीटों के लिए चुनाव 30 नवंबर से 20 दिसंबर के बीच पांच चरणों में होगा।  23 दिसंबर को चुनाव परिणाम आएंगे। इससे पहले  2014 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 37 सीटें पाई थी। जो बाद में जेवीएम अलग होने के बाद पहली बार राज्य में बहुमत की सरकार बनाई थी और पांच साल का कार्यकाल पूरा  भी किया।

यह भी पढ़ें..अयोध्या मामले पर मायावती बोलीं- सुप्रीम कोर्ट जो भी फैसला दे, सब करें सम्मान