बैंक घोटाले में फंसे सीएम कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी, ईडी ने किया गिरफ्तार

बैंक का ये भी आरोप है कि कंपनी और उसके निदेशकों ने सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया से फंड जारी कराने के लिए नकली और जाली दस्तावेजों का प्रयोग किया। बैंक ऐसा इसलिए कह रहा क्योंकि जब कंपनी कर्ज का भुगतान करने में असमर्थ रही तो एक फरेन्सिक ऑडिट किया गया और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने खाते को 20 अप्रैल को ‘फर्जी’ घोषित कर दिया।

बैंक घोटाले में फंसे सीएम कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी, ईडी ने किया गिरफ्तार

बैंक घोटाले में फंसे सीएम कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी, ईडी ने किया गिरफ्तार

नई दिल्ली/भोपाल: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को गिरफ्तार कर लिया है। मोजरबेयर के पूर्व कार्यकारी निदेशक रतुल पुरी पर 300 करोड़ से ज्यादा के बैंक घोटाले का आरोप है। इस मामले में सीबीआई ने रतुल पुरी और अन्य के खिलाफ दो दिन पहले ही मामला दर्ज किया था। मालूम हो, 354 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले का मामला तो सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने ही दर्ज कराया है।

यह भी पढ़ें: जौहर यूनिवर्सिटी: पत्नी और बेटे संग बुरा फंसे आजम खान, केस दर्ज

रतुल पुरी के अधिकांश परिजनों पर मामला दर्ज हुआ है। इसमें उनके पिता और प्रबंध निदेशक दीपक पुरी, निदेशकों- नीता पुरी (रतुल की मां और कमलनाथ की बहन), संजय जैन और विनीत शर्मा शामिल हैं। वहीं, इस मामले में अधिकारियों का कहना है कि पुरी परिवार पर आपराधिक षड्यंत्र रचने, धोखाधड़ी, फर्जीवाड़ा और भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं।

यह भी पढ़ें: इस बाहुबली विधायक का हुआ निधन शोक में डूबा पूरा देश

रतुल ने दे दिया था इस्तीफा

बैंक ने एक बयान में बताया कि रतुल ने 2012 में कार्यकारी निदेशक के पद से इस्तीफा दे दिया था, जबकि उनके माता-पिता निदेशक मंडल में रहे। सीबीआई ने सोमवार को 6 स्थानों पर छापेमारी भी की थी। सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की शिकायत पर ही ये मामला दर्ज किया गया है। बैंक का आरोप है कि कंपनी 2009 से विभिन्न बैंकों से लोन ले रही थी और कई बार पुनर्भुगतान की शर्तों में बदलाव करा चुकी थी।

यह भी पढ़ें: जयंती विशेष: आखिर पूर्व पीएम राजीव गांधी का एक फैसला कैसे बना उनकी हत्या का कारण

बैंक के लगाए आरोप

बैंक का ये भी आरोप है कि कंपनी और उसके निदेशकों ने सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया से फंड जारी कराने के लिए नकली और जाली दस्तावेजों का प्रयोग किया। बैंक ऐसा इसलिए कह रहा क्योंकि जब कंपनी कर्ज का भुगतान करने में असमर्थ रही तो एक फरेन्सिक ऑडिट किया गया और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने खाते को 20 अप्रैल को ‘फर्जी’ घोषित कर दिया।

कौन हैं रतुल पुरी?

  • रतुल पुरी हिंदुस्तान पॉवरप्रोजेक्ट के निदेशक मंडल के अध्यक्ष हैं।
  • हिंदुस्तान पावरप्रोजेक्ट ऊर्जा क्षेत्र में भारत के अग्रणी एकीकृत बिजली प्लांट्स में से एक है।
  • स्टार स्पोर्ट्स प्रो कबड्डी लीग 2016 में दबंग दिल्ली कबड्डी क्लब को सपोर्ट करने के लिए रतुल पुरी ने DoIT प्रबंधन (भारत) के साथ पार्टनरशिप भी की थी।