कश्मीर: पाकिस्तान घुसपैठ कर माहौल बिगाड़ने की तैयारी में, इतने आतंकी सक्रिय

इसी बीच सुरक्षा एजेंसियों ने पिछले हफ्ते एक रिपोर्ट तैयार की है। जिसके अनुसार घाटी में में लगभग 273 आतंकी सक्रिय हैं। बताया जा रहा है कि 158 आतंकी दक्षिण कश्मीर से, 96 आतंकी उत्तर कश्मीर से और 19 आतंकी मध्य कश्मीर से हैं।

नयी दिल्ली: कश्मीर से विशेषाधिकार खत्म किए जाने के बाद से ही पाकिस्तान कश्मीर के मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बनाने की कोशिश में जुटा है। इस बीच घाटी का माहौल बिगाड़ने के लिए पाकिस्तान लगातार घुसपैठ की कोशिश में लगा हुआ है।

इसी बीच सुरक्षा एजेंसियों ने पिछले हफ्ते एक रिपोर्ट तैयार की है। जिसके अनुसार घाटी में लगभग 273 आतंकी सक्रिय हैं। बताया जा रहा है कि 158 आतंकी दक्षिण कश्मीर से, 96 आतंकी उत्तर कश्मीर से और 19 आतंकी मध्य कश्मीर से हैं। जहां 107 विदेशी आतंकियों की तुलना में स्थानीय आतंकियों की संख्या लगभग 166 है।

यह भी पढ़ें….UNHRC में भारत की बड़ी जीत, कश्मीर पर समर्थन हासिल करने में पाकिस्तान नाकाम

सक्रिय आतंकी जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा, हिजबुल मुजाहिदीन और अल बद्र आतंकी संगठनों से संबद्ध हैं। सूची के अनुसार लश्कर-ए-तैयबा 112 आतंकियों के साथ सबसे ऊपर है। इसके बाद हिजबुल 100, जैश-ए-मोहम्मद 58, और अल बद्र के 3 आतंकी इसमें शामिल हैं।

यह भी पढ़ें….UNHRC: कश्मीर पर समर्थन हासिल करने में नाकाम हुआ पाकिस्तान

सूत्रों के अनुसार, मोबाइल और इंटरनेट सुविधा को बंद किये जाने के बाद से पाकिस्तानी आतंकियों को उनके सरगना से निर्देश नहीं मिल पा रहा है। वहीं इस वजह से भारतीय सेना को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल, इसकी वजह से आतंकवाद रोधी अभियान में भी दिक्कतें आ रही हैं। 5 अगस्त के बाद से कुछ आतंकवाद रोधी अभियान चलाए गए हैं लेकिन इनमें से ज्यादातर अभियान स्थानीय सूचना के माध्यम से अधिक रहे हैं।

यह भी पढ़ें….मोदी के कश्मीर में, योगी के यूपी में काम को सही बताएंगे उपचुनाव

सूत्रों के अनुसार, घाटी में शांति होने के कारण आतंकियों को एकत्रित होने और घाटी में फैलने लिए समय मिल गया है। उन्होंने कहा कि आतंकियों को जैसे ही सीमा पार से निर्देश मिलेंगे, वे तुरंत सुरक्षाबलों पर कोई बड़ा हमला कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें….हॉट सीट पर कश्मीरी! कुछ ऐसा रहा KBC का ये शानदार सीजन

वहीं सूत्रों ने बताया है कि आने वाले कुछ ही दिनों में सुऱक्षाबलों और आतंकियों के बीच कई मुठभेड़ देखने को मिल सकती है। ये बताया गया है कि आतंकी पुलवामा हमले की ही तरह किसी बड़े हमले को अंजाम देने की कोशिश कर सकते हैं।