×

कश्मीर को बड़ी सौगात: पंडितों और हिंदुओं को भी मिलेगा कोटे का लाभ

एकेटीयू प्रदेश के इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट व फार्मेसी संस्थानों में प्रवेश के लिए एसईई का आयोजन करता है। इसके बाद प्रवेश में कश्मीरी माइग्रेंट कोटे के तहत प्रत्येक तकनीकी व व्यावसायिक शिक्षण संस्थान में मेरिट पर इन्हें एक सीट आवंटित किया जाता है।

SK Gautam

SK GautamBy SK Gautam

Published on 26 Jan 2020 10:43 AM GMT

कश्मीर को बड़ी सौगात: पंडितों और हिंदुओं को भी मिलेगा कोटे का लाभ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: यह खबर कश्मीर के उन युवाओं के लिए बहुत ही महत्तवपूर्ण है जो संसाधनों की कमी की वजह से उच्च शिक्षा नहीं प्राप्त कर पाते हैं। बता दें कि कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के साथ ही वहां के युवाओं को उच्च शिक्षा के बेहतर अवसर दिलाने की कवायद भी तेज हुई है।

एकेटीयू के सत्र 2020-21 की परीक्षा में मिलेगा लाभ

मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) ने उच्च शिक्षण संस्थानों व तकनीकी शिक्षण संस्थानों में कश्मीरी विस्थापितों के साथ-साथ कश्मीर में रहने वाले कश्मीरी पंडितों व कश्मीरी हिंदुओं को भी पूर्व में दिए जा रहे कोटे का लाभ देने को कहा है। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (एकेटीयू) सत्र 2020-21 के लिए होने जा रही राज्य प्रवेश परीक्षा (एसईई) में इसे लागू करने जा रहा है।

ये भी देखें : इस सिंगर पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर मचा घमासान, अपने-सामने MNS BJP

एकेटीयू प्रदेश के इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट व फार्मेसी संस्थानों में प्रवेश के लिए एसईई का आयोजन करता है। इसके बाद प्रवेश में कश्मीरी माइग्रेंट कोटे के तहत प्रत्येक तकनीकी व व्यावसायिक शिक्षण संस्थान में मेरिट पर इन्हें एक सीट आवंटित किया जाता है।

इन्हें प्रवेश परीक्षा में भी शामिल नहीं होना होता है। प्रवेश से पहले आवेदन लेकर मेरिट के आधार पर इन विद्यार्थियों को कोटे के तहत प्रवेश दिया जाता है। इसके लिए उन्हें अपना निवास प्रमाण पत्र देना होता है।

अब इसी कोटे में कश्मीर में रहने वाले कश्मीरी पंडितों व कश्मीरी हिंदुओं को भी लाभ दिया जाएगा। अभी तक यह लागू नहीं था। एमएचआरडी ने स्पष्ट किया है कि इसके लिए अलग से कोई कोटा लागू नहीं किया जाएगा। एकेटीयू की केंद्रीय प्रवेश समिति की बैठक में मंत्रालय के इस निर्देश को नए सत्र के प्रवेश में लागू करने का निर्णय किया गया है।

ये भी देखें :असम को अलग करने वाले को SSP ने दी चुनौती, जल्द करुंगा गिरफ्तार

एसईई समन्वयक प्रो. विनीत कंसल ने कहा कि कश्मीरी माइग्रेंट की तरह ही इस कोटे का लाभ लेने वाले विद्यार्थियों को अपना स्थायी निवास प्रमाण पत्र देना होगा।

लेह-लद्दाख पर निर्देश का इंतजार

अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद कश्मीर और लेह-लद्दाख अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश हो गए हैं। ऐसे में लेह-लद्दाख के विद्यार्थियों को भी इस कोटे का लाभ मिलेगा या नहीं, इस पर एकेटीयू को मंत्रालय के निर्णय का इंतजार है। एकेटीयू प्रशासन का कहना है कि मंत्रालय का जो भी निर्णय होगा, उसे लागू किया जाएगा।

ये भी देखें : सिर पर ‘दुपट्टा’, फोन में ‘अल्लाह’ लिखने पर प्लेन से तीन मुस्लिम यात्रियों को उतारा

कल से शुरू होंगे आवेदन

एसईई के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया 27 जनवरी को दोपहर 2 बजे से शुरू होकर 15 मार्च तक चलेगी। प्रवेश परीक्षा 10 मई को होगी। प्रवेश आवेदन शुल्क दिव्यांगजन, सभी वर्ग की महिला अभ्यर्थियों, एससी-एसटी वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए 650 रुपये व अन्य सभी वर्ग के लिए 1300 रुपये है।

SK Gautam

SK Gautam

Next Story