जानिए क्यों केंद्रीय मंत्री ने BHU के कुलपति को लगाई जमकर फटकार

रमेश पोखरियाल निशंक ने देश भर के केंद्रीय विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। उन्होंने कोरोना से जुड़ी तैयारियों को लेकर बात की।

नई दिल्ली: कोरोना से निपटने के लिए देशभर में लॉकडाउन किया गया है। इस दौरान सरकार छात्रों के लिए घर बैठे आनलाइन पढ़ाई के साथ-साथ अब आनलाइन परीक्षा कराने की तैयारी कर रही है। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शनिवार को एक कमेटी बनाने की घोषणा की। यह कमेटी की अगुवाई इंदिरा राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) के कुलपति करेंगे। केंद्रीय मंत्री ने आनलाइन पढ़ाई और आनलाइन परीक्षा कराने से जुड़े सुझाव जल्द देने को कहा है।

रमेश पोखरियाल निशंक ने देश भर के केंद्रीय विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। उन्होंने कोरोना से जुड़ी तैयारियों को लेकर बात की। इस दौरान कोरोना की वजह से नए शैक्षणिक सत्र के शुरू होने में देरी के मद्देनजर सभी कुलपतियों से छात्रों की आनलाइन पढ़ाई शुरु कराने के निर्देश दिए है।

यह भी पढ़ें…लॉकडाउन पर ताबड़तोड़ एक्शन शुरू, यहां गिरफ्तार किए गए 78 हजार लोग

इसके साथ ही मानव संसाधन विकास मंत्री ने यूजीसी की अगुवाई में एक नया अकैडेमिक कैलेंडर तैयार करने का भी सुझाव दिया। जिससे कम समय में छात्रों का कोर्स पूरा कराया जा सके, ताकि सत्र में देरी न हो। उन्होंने इसे लेकर एक कमेटी गठित करने के भी निर्देश दिए हैं जिसकी अगुवाई यूजीसी करेगा।

BHU के कुलपति को जमकर फटकारा

रमेश पोखरियाल निशंक ने इसलिए नाराज थे कि कोरोना संकट में बीएचयू के कुलपति प्रो राकेश भटनागर अपने विश्वविद्यालय को छोड़कर दिल्ली में हैं। वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से केंद्रीय मंत्री ने सभी कुलपतियों से अपील की वह छात्रावासों में रह रहे बच्चों का ख्याल रखें। इस दौरान छात्रवासों में रह छात्रों के बारे में वह जानकारी ले रहे थे। वह पूछ रहे थे कि किस राज्य के कितने बच्चे हैं और कितने विदेशी।

यह भी पढ़ें…नहीं देखी होगी ऐसी देश भक्ति, खाना खाते हुए इंदौर TI की फोटो वायरल

इस दौरान निशंक ने भटनागर से पूछा कि वह अभी कहां है? वीसी ने बताया कि वह अभी दिल्ली में है। इस पर मंत्री ने सवाल किया कि कब से हैं। इस पर उन्होंने लॉकडाउन से पहले से ही दिल्ली में मौजूद हैं। इसके बाद निशंक नाराज हो गए। मिली जानकारी के मुताबिक उन्होंने कहा कि कुलपति की जिम्मेदारी नहीं है कि वह ऐसे वक्त में अपने विश्वविद्यालय में रहें। यह बहुत ही गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार है।

यह भी पढ़ें…सरकारी अफसर ने पीएम मोदी का उड़ाया मजाक, सरकार ने लिया ये बड़ा एक्शन

संदिग्ध की तुरंत जांच कराने के निर्देश

निशंक ने बातचीत के दौरान कोरोना के किसी भी संदिग्ध की तुरंत जांच कराने को कहा। केंद्रीय मंत्री ने इस दौरान कुलपतियों से प्रधानमंत्री के पांच अप्रैल को रात्रि नौ बजे नौ मिनट तक के लिए घरों की सभी लाइटों को बंद करके बालकनी में खड़े होकर दीया, मोमबत्ती, टार्च लाइट आदि जलाने के अनुरोध किया और सभी से बढ़-चढ़कर शामिल होने की अपील की। साथ ही छात्रों को भी इसके लिए प्रोत्साहित करने के लिए कहा।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App