लाॅकडाउन में गर्भवती महिला के लिए पुलिस बनी फरिश्ता, ऐसे की मदद, करेंगे तारीफ

कोरोना वायरस के मामले देशभर में तेजी से बढ़ रहे हैं। इस जानलेवा वायरस से निपटने के लिए भारत में लॉकडाउन किया गया है। सभी सार्वजनिक वाहन भी बंद हैं। सड़कों पर पुलिस लगातार पहरा दे रही है।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के मामले देशभर में तेजी से बढ़ रहे हैं। इस जानलेवा वायरस से निपटने के लिए भारत में लॉकडाउन किया गया है। सभी सार्वजनिक वाहन भी बंद हैं। सड़कों पर पुलिस लगातार पहरा दे रही है। पुलिसकर्मी कानून का पालन कराने के साथ ही लोगों की मदद भी कर रहे हैं जिसकी तस्वीरें रोज आ रही हैं। किसी को अस्पताल पहुंचा रहे हैं, तो किसी को खाना दे रहे हैं।

इस संकट में दिल्ली की एक महिला के लिए पुलिस फरिश्ता बनकर आई और उसकी सहायता की। दरअसल बुधवार शाम 28 वर्षीय मंजरी खातून की डिलीवरी होनी थी, लेकिन उसे एंबुलेंस नहीं मिला। इसके बाद सूचना पर पहुंची दिल्ली पुलिस इस महिला को इमरजेंसी रिस्पांस व्हीकल से लेकर हॉस्पिटल जा रही थी, तभी रास्ते में महिला ने एक बच्ची को जन्म दिया।

यह भी पढ़ें…सील इलाकों में लोगों पर पड़ेगा ये प्रभाव: जानें, क्या कर सकते हैं- क्या नहीं

पुलिस ने मुताबिक कोटला मुबारकपुर में पीसीआर पर बुधवार शाम करीब साढ़े सात बजे एक कॉल आई। परिजनों ने महिला को हॉस्पिटल ले जाने के लिए एंबुलेंस उपलब्ध कराने की मांग की। इस पर पुलिस टीम तुरंत दिल्ली के किदवई नगर इलाके में स्थित महिला के घर पहुंची और महिला को सफदरजंग हॉस्पिटल ले जाने लगी। हालांकि महिला ने रास्ते में ही पुलिस वैन के अंदर बच्ची को जन्म दे दिया।

यह भी पढ़ें…ICMR ने जारी किया डेटा, देश में अब तक इतने लोगों का हुआ कोरोना टेस्ट

इसके बाद महिला और बच्ची को पुलिस ने अस्पताल पहुंचाया गया। फिलहाल महिला और बच्ची स्वस्थ बताए जा रहे हैं। आपको बता दें कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने देशव्यापी लॉकडाउन किया है। कोरोना के मरीजों की बढञती संख्या के इसके चलते दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के कई इलाकों को सील कर दिया गया है।