शिवसेना के इस बयान के बाद बढ़ा सस्पेंस, फिर लगे आदित्य ठाकरे के ये पोस्टर

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की मुलाकात को लेकर शिवसेना ने तंज कसा है। दोनों नेताओं की इस मुलाकात पर शिवसेना ने दिल्ली के प्रदूषण को आधार बनाकर निशाना साधा है।

मुंबई: बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की मुलाकात को लेकर शिवसेना ने तंज कसा है। दोनों नेताओं की इस मुलाकात पर शिवसेना ने दिल्ली के प्रदूषण को आधार बनाकर निशाना साधा है। बता दें कि सोमवार को देवेंद्र फडणवीस ने दिल्ली में अमित शाह से मुलाकात की थी।

शिवसेना ने सामना में लिखा है कि देवेंद्र फडणवीस ऐसी जगह से लाइफलाइन लेने की कोशिश कर रहे हैं, जहां के लोग खुद को बचाने के लिए मास्क पहन रहे हैं।

यह भी पढ़ें…अभी-अभी यहां हुआ बड़ा धमाका, एक आम नगारिक समेत 4 पुलिसकर्मी..

शिवसेना ने सामना में बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा है कि महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत पाना, दिल्ली एयरपोर्ट पर जीरो विजिबिलिटी में प्लेन लैंड कराने जैसा है।

 

इसके बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने एक तस्वीर ट्वीट की है। इसमें उन्होंने दुष्यंत कुमार की कविता लिखी हुई है- ‘सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं, मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए। मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही, हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए।’

यह भी पढ़ें…DHFL पीएफ घोटाला: UPPCL के पूर्व MD एपी मिश्रा गिरफ्तार

पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सिर्फ शिवसेना का होगा। महाराष्ट्र की सूरत और राजनीति का चेहरा बदल रही है, आप देखिएगा। आप जिसे हंगामा कहते हैं, वह हंगामा नहीं बल्कि न्याय और अधिकारों की लड़ाई है। जीत हमारी होगी।

मातोश्री के बाहर लगे पोस्टर

इससे पहले मुंबई में ठाकरे आवास मातोश्री के बाहर एक बार फिर आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाने वाले पोस्टर लगाए गए हैं। पोस्टर में आदित्य ठाकरे की तस्वीर के साथ मराठी में लिखा है, ‘मेरा विधायक मेरा मुख्यमंत्री।’ यह पोस्टर शिवसेना पार्षद हाजी हलीम खान ने लगवाए हैं।

यह भी पढ़ें…कांग्रेस का समर्थन: महाराष्ट्र में शिवसेना-NCP मिलकर बना सकती हैं सरकार

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में किसी भी पार्टी को अकेले बहुमत नहीं मिला है। बीजेपी और शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिला है। लेकिन दोनों पार्टियां अपनी-अपनी शर्तों पर अड़ी हुई हैं जिसकी वजह से प्रदेश में अभी तक सरकार का गठन नहीं हो पाया है।