मोदीजी ने कहा- चुप रहना ही है तुम्हारी ताकत नाकि ढाई किलो का हाथ: सनी देओल

सनी देओल कहते हैं कि वह मोदीजी को जिताने के लिए आए हैं, अब इसके लिए उन्हें 48 घंटे भी लगातार काम करना पड़े तो करेंगे, वह बोलने से ज्यादा लोगों की सुनेंगे और उनका काम बोलेगा।

मुम्बई: अभिनेता से नेता बने बॉलीवुड स्टार सनी देओल ने पंजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट से अपना नामांकन दाखिल कर चुनाव के मैदान में उतर गए हैं।

आमतौर पर सनी देओल किसी भी तरह के विवादित मामले पर कुछ भी कहने से दूर रहे हैं, लेकिन अब वह समय है, जब लोग उनसे सवाल करेंगे और जनता का प्रतिनिधित्व करने के नाते उन्हें जवाब भी देना पड़ेगा।

यह भी देखें… सोशल मीडिया पर भाईजान के नाम पर ठगी, फैंस हो जाए सतर्क

इन दिनों वह मीडिया के सवालों द्वारा जनता से जुड़ने का काम कर रहे हैं। एक बातचीत में सनी ने प्रधानमंत्री मोदी से पहली मुलाकात, चुनावी रणनीति सहित और भी सवालों के जवाब दिए।

अपने शांत स्वभाव के लिए मशहूर सनी कहते हैं, ‘मेरा मानना यह है कि यहां बात अपने क्षेत्र को समय देने की नहीं, बल्कि काम करने की है, जो काम है उसके लिए मुझे 24 की जगह 48 घंटे भी देना पड़े तो मैं मन लगा कर काम करूंगा। मैं यहां सिर्फ काम करने आया हूं।’

चुनावी सवालों और विपक्ष के तीखे बयानों को किस तरह हैंडल करेंगे? इस सवाल पर सनी कहते हैं, ‘जैसे मैंने खुद को फिल्म इंडस्ट्री में हैंडल किया है, ठीक उसी तरह यहां भी मैं काम करके की हैंडल करूंगा। मेरा मानना है कि आपका काम ही बोलता है। मेरा काम ही बताएगा कि मैं कैसा व्यक्ति हूं।’

यह भी देखें…जानिए ऐसा क्या कह दिया नवजोत सिद्धू ने पीएम मोदी को लेकर ?

जनता को अपना बनाने के लिए और खुद पर विश्वास दिलाने के लिए क्या करेंगे? जवाब में सनी कहते हैं, ‘मैं लोगों से मिलूंगा, अपने क्षेत्र में जाकर लोगों से मिलना और उनकी बातें सुनना जरूरी है।

लोग चाहते हैं कि कोई उनकी बातें सुने और मैं लोगों को सुनने में माहिर हूं। लोग जो समस्या बताएंगे, उसे काम करके खत्म करूंगा। मैं बहुत ज्यादा बोल नहीं सकता हूं।

एक ऐक्टर के तौर पर भी मैंने ज्यादातर वही किरदार निभाया है, जो मैं खुद हूं। यहां भी मेरा काम ही बोलेगा।’

प्रधानमंत्री मोदी से पहली मुलाकात के बारे में सनी बताते हैं, ‘जब मैं प्रधानमंत्री मोदी से पहली बार मिलने गया तो उन्होंने मुझे पहले ही बहुत कम्फर्टबल कर दिया। वह समझ गए थे कि मैं थोड़ा असहज या नर्वस महसूस कर रहा हूं।

उन्होंने मुझे यकीन दिलाया और कहा कि बेटा तुम्हारी जो चुप रहने की ताकत है, वही सही ताकत है। हमें भरोसा है कि तुम वही काम करोगे, जो सही होगा क्योंकि तुम उसी परिवार से आ रहे हो।’मैंने मोदीजी को बताया कि मैं स्पीच देने के मामले में उतना कुशल नहीं हूं

यह भी देखें… मध्य प्रदेश की विभिन्न रियासतों के वारिस उतरे मैदान में

सनी आगे बताते हैं, ‘जब मैंने मोदीजी को बताया कि मैं स्पीच देने के मामले में उतना कुशल नहीं हूं, तब उन्होंने मुझे कहा कि तुम उसकी फिक्र मत करो, जो तुम्हारे दिल में है, वही लेकर आओ। मैंने मोदीजी के बारे में जैसा सोचा था, वैसा ही पाया।

मैं इसी वजह से उनके करीब भी आया हूं। पिछले पांच सालों में मोदीजी ने जो काम किया है, मैं उससे प्रभावित रहा हूं।

मुझे ड्रामा करके अपनी जगह नहीं बनाना है, काम करने आया हूं। मैं यहां मोदीजी को जिताने आया हूंकम बोलने वाले सनी कहते हैं, ‘मुझे बार-बार अपनी तारीफ करना पसंद नहीं है, मुझे काम करना है और काम करके दिखाना है। मुझे ड्रामा करके अपनी जगह नहीं बनाना है, काम करने आया हूं। मैं यहां मोदीजी को जिताने आया हूं।

इस समय हमारे देश में एक वही लीडर हैं, जो देश को और आगे ले जाएंगे। मोदीजी का जीतना बहुत जरूरी है। मैं दिल से चाहता हूं कि हमारा देश आगे बढ़े। लोग ऊट-पटांग बातों से कुछ नहीं होगा, जो होगा काम से होगा। मैं लोगों से अपील करूंगा कि वह मुझे जिताएं, तो मोदीजी जीतेंगे, मोदीजी जीतेंगे तो सब काम होगा, लोग खुश रहेंगे।’