मुंबई में वुुहान जैसे हालात: बढ़ते मामलों से लोगों में खौफ, पेट की भी चिंता

बता दें कि देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में ही अकेले सिर्फ 14500 से अधिक लोग कोरोना से संक्रमित हैं। और सिर्फ मुंबई में अब तक 528 लोगों की मौत हो चुकी है।

नई दिल्ली। देश में महामारी कोरोना को सबसे ज्यादा कहर महाराष्ट्र में मचा हुआ है। 25 मार्च से लगे लॉकडाउन के बाद भी मामला तेजी से बढ़ रहे हैं। यहां पर संक्रमितों की संख्या 23000 के पार जा चुकी है और अब तक 860 से ज्यादा मौत हो चुकी हैं। बता दें कि देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में ही अकेले सिर्फ 14500 से अधिक लोग कोरोना से संक्रमित हैं। और सिर्फ मुंबई में अब तक 528 लोगों की मौत हो चुकी है।

ये भी पढ़ें…चीन की साजिश नाकाम: भारतीय वायुसेना ने दिया करारा जवाब, जारी हुआ अलर्ट

संक्रमितों की संख्या सिर्फ मुंबई में ही 70000 के पार

महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्रियों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों के लिए लोकल ट्रेन सेवा शुरू करने की मांग की। ऐसे में ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि कोरोना संक्रमितों की संख्या सिर्फ मुंबई में ही 70000 के पार पहुंच सकती है।

हालातों से निपटने के लिए अब मुंबई में भी चीन के वुहान शहर की तर्ज पर अस्पताल बनाया जा रहा है। बीकेसी मैदान में 28 अप्रैल से बनाए जा रहे अस्पताल को 15 दिन में (14 मई से पहले) चालू करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

साथ ही ये भी कहा जा रहा है कि आवश्यकता पड़ने पर 1000 की बेड के इस अस्पताल की क्षमता में 5000 बेड तक का इजाफा किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें…स्पेशल ट्रेन में मजदूर की मौत, घंटों पड़ा रहा शव, पुलिस का रहा ऐसा रवैया

कोरोना के केस मई में और अधिक

संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए ये अंदाजा भी लगाया जा रहा है कि मुंबई में कोरोना के केस मई में और अधिक बढ़ सकते हैं। इसीलिए सरकार यह मेकशिफ्ट हॉस्पिटल बना तो रही है, लेकिन अब बस कुछ ही दिन बाद मॉनसून की चुनौती भी मुंबई के सामने होगी।

राज्य सरकार की ओर से रहने-खाने के इंतजाम और ट्रेन से सुरक्षित घर पहुंचाने के आश्वासन भी प्रवासियों को पैदल घर जाने से रोकने के प्रयास में असफल हो रहे हैं।

वहीं मुंबई में रहकर खाने की डिलीवरी करने वाले शत्रुघ्न चौहान ने बताया कि लॉकडाउन के कारण काम बंद हो गया। जो भी थोड़ी बहुत बचत थी, वो भी चली गई। उन्होंने अब अपने परिवार को लेकर गोंडा जाने की जानकारी दी और कहा कि अब बस भगवान ही सहारा हैं।

ये भी पढ़ें…ममता बनर्जी ने आखिर क्यों अपने ही अधिकारी के खिलाफ उठा लिया इतना बड़ा कदम!