इस्लामिक संगठन के बयान पर नकवी बिफरे, फेक न्यूज से किया आगाह

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने इस्लामिक सहयोग संगठन (ओसीआई) के भारत में इस्लामोफोबिया का मुद्दा उठाने पर तीखी प्रतिक्रिया जताई है। उन्होंने कहा कि भारत अल्पसंख्यकों और मुसलमानों के लिए स्वर्ग है।

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने इस्लामिक सहयोग संगठन (ओसीआई) के भारत में इस्लामोफोबिया का मुद्दा उठाने पर तीखी प्रतिक्रिया जताई है। उन्होंने कहा कि भारत अल्पसंख्यकों और मुसलमानों के लिए स्वर्ग है। इसलिए हमें फेक न्यूज़ फैलाने वालों से सतर्क रहना होगा। कुछ लोग फेक न्यूज़ फैलाकर कोरोना के खिलाफ हमारी लड़ाई को कमजोर करने की साजिश रच रहे हैं।

भारत में मुस्लिमों के अधिकार सुरक्षित

उन्होंने कहा कि ऐसे संगठनों के भारत की सच्चाई नहीं पता है और व् बेसिर पैर की बातें कर रहे हैं। भारत में मुसलमानों को सामाजिक, आर्थिक और धार्मिक अधिकार पूरी तरह सुरक्षित हैं। भारत और भारतीयों के लिए धर्मनिरपेक्षता और सौहार्द पॉलिटिकल फैशन नहीं बल्कि परफेक्ट फैशन है। इसलिए ऐसे संगठनों को ओछी हरकतों से बाज आना चाहिए। ओसीआई ने रविवार को भारत में इस्लामोफोबिया का मुद्दा उठाया था। ओसीआई का कहना था कि देश में अल्पसंख्यकों के अधिकार सुनिश्चित करने के लिए समुचित कदम उठाए जाने चाहिए।

यह भी पढ़ें…मेरठ में अवैध तरीके से हो रहा था पीपीई किट का निर्माण, फैक्ट्री सील

पूरे देश को साथ लेकर चल रहे मोदी

नकवी ने कहा कि ऐसे संगठनोम की बातों में कोई दम नहीं है क्योंकि हम अपना पूरा काम समर्पण की भावना से कर रहे हैं। प्रधानमंत्री हमेशा 130 करोड़ भारतीयों की बात करते हैं। अगर किसी संगठन को यह बात नहीं दिखाई देती तो यह उसकी समस्या हो सकती है, हमारी नहीं।

बयान देने से पहले जमीनी हकीकत देखें

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि किसी को भी पूर्वाग्रह से ग्रस्त होकर भारत के बारे में कोई बयान नहीं देना चाहिए। कुछ भी करने से पहले यहां की जमीनी हकीकत को देखना होगा। कोई भी संगठन यहां माहौल खराब करने की कोशिश करता है तो वह कभी भी भारतीय मुसलमानों का दोस्त नहीं हो सकता। इस देश में मुसलमानों की बड़ी आबादी बड़े सुकून के साथ रहती है।

यह भी पढ़ें…पालघर हत्याकांड: पुलिस के बचाव में उतरे शरद पवार, साधुओं की लिंचिंग को बताया दुर्भाग्यपूर्ण

पाच वर्षों में मजबूत हुए मुस्लिम

इस बाबत कुछ भी कहने से पहले इसलिए पांच वर्षों के दौरान मुस्लिमों की शैक्षणिक, सामाजिक और आर्थिक स्थिति पर गौर फरमाना चाहिए। सच्चाई यह है कि पिछले पांच साल के दौरान सरकारी नौकरियों में मुस्लिमों की साझेदारी बढ़ी है और वे शैक्षणिक और आर्थिक तौर पर भी काफी मजबूत हुए हैं। किसी को हमारी सरकार को कटघरे में खड़ा करने का हक नहीं है। हम किसी भी धर्म के लोगों के साथ किसी प्रकार का भेदभाव नहीं कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें…लॉकडाउन में नहीं होगी पानी की समस्या, यूपी के इस डीएम ने किए ख़ास इंतज़ाम

गलत प्रचार करने वालों को दें जवाब

नकवी ने कहा कि हमें एक साथ मिलकर गलत प्रचार करने वालों को जवाब देना होगा। हर किसी को फेक न्यूज़ से सावधान रहना है क्योंकि ऐसी बेसिर पैर की बातों से कोरोना के खिलाफ हमारी लड़ाई को कमजोर करने की साजिश की जा रही है। इस समय पूरा देश मोदी के सशक्त नेतृत्व में कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है और हम निश्चित रूप से इस जंग में कामयाब होंगे। सभी को इस बात का ध्यान रखना होगा कि विविधता में एकता की हमारी भावना कभी कमजोर ना हो पाए।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App