×

मोदी सरकार ने कब-कब और कैसे उड़ाई इमरान सरकार की रातों की नींद, यहां जानें

कोरोना महामारी के बीच नरेंद्र मोदी सरकार 30 मई को अपने दूसरे कार्यकाल का एक साल पूरा कर लेगी। इस एक साल में मोदी सरकार ने कई नई उपलब्धियां हासिल की हैं। कई मोर्चा पर ये सरकार सफल तो कुछ पर भी असफल भी रही है।

Aditya Mishra
Published on: 24 May 2020 12:25 PM GMT
मोदी सरकार ने कब-कब और कैसे उड़ाई इमरान सरकार की रातों की नींद, यहां जानें
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के बीच नरेंद्र मोदी सरकार 30 मई को अपने दूसरे कार्यकाल का एक साल पूरा कर लेगी। इस एक साल में मोदी सरकार ने कई नई उपलब्धियां हासिल की हैं। कई मोर्चा पर ये सरकार सफल तो कुछ पर भी असफल भी रही हैं।

इसे मोदी सरकार की कूटनीतिक जीत ही कहा जाएगा कि पाकिस्तान भारत की वजह से आतंकवाद के मुद्दे पर दुनिया भर से मुंह छिपाते फिर रहा है। तो आइये एक नजर डालते हैं ऐसे ही कई अन्य उपलब्धियों पर, मोदी सरकार कहां पर सफल और कहां असफल रहीं।

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के पहले एक साल में सबसे महत्वपूर्ण कार्य जो किया वो ये कि पांच अगस्त 2019 को भारत सरकार ने आर्टिकल 370 को समाप्त कर दिया और जम्मू-कश्मीर राज्य को दो केंद्र शासित राज्यों में विभाजित कर दिया। जिसको लेकर भारत ही नहीं पाकिस्तान तक में हो हल्ला में मचा था।

पाकिस्तान ने कश्मीरी संघर्ष को फिलिस्तीन से जोड़कर उसे इस्लाम के चश्मे से दिखाने की भरपूर कोशिश की लेकिन इसके बाद भी उसे मुस्लिम देशों का का समर्थन हासिल नहीं हो पाया।

मोदी सरकार के पांच ऐतिहासिक फैसले, एक साल में इतना बदल दिया भारत

भारत की वजह से इन देशों ने पाकिस्तान का नहीं दिया साथ

यहां तक कि मुस्लिम देशों में मजबूत पकड़ रखने वाले सऊदी अरब ने कश्मीर मुद्दे पर भारत के खिलाफ बयान देने तक से इनकार कर दिया।

यूएई और मालदीव ने कश्मीर को भारत का निजी मामला बताया। यूएई ने कुछ दिनों बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने यहां के सर्वोच्च नागरिक सम्मान से भी नवाजा था।

2019 लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जो घोषणा पत्र रिलीज किया था उसमें ये पहले ही साफ़ कर दिया था कि उसका रुख पाकिस्तान को लेकर आक्रामक रहने वाला है। अनुच्छेद 370 को हटाने की बात बीजेपी के एजेंडे में हमेशा से रही है।

बीजेपी जब पूर्ण बहुमत से सत्ता में दोबारा आई और राजनाथ सिंह की जगह अमित शाह गृह मंत्री बने तो 370 संविधान से हटकर इतिहास का हिस्सा बन गया।

मोदी सरकार ने पाकिस्तान पर अपनी आक्रामक रणनीति का संदेश पहले कार्यकाल में ही दे दिया था। अब तक भारत अपनी सीमा की सुरक्षा अपनी सीमा के भीतर से ही करता था लेकिन पहली बार पाकिस्तान की सीमा में घुसकर सैन्य ऑपरेशन को अंजाम दिया।

कोरोना को लेकर विपक्ष की बड़ी बैठक, मोदी सरकार को घेरने की बनेगी रणनीति

आतंकी ठिकानों पर सर्जिकल स्ट्राइक

पाकिस्तान में स्थित आतंकी ठिकानों को नष्ट करने के लिए एक बार सर्जिकल स्ट्राइक की तो दूसरी बार एयर स्ट्राइक। मोदी सरकार ने पहले साल ही चुनावी मैनिफेस्टो पर आगे बढ़ते हुए पाकिस्तान को अलग-थलग करने की तमाम कूटनीतिक कोशिशें कीं जो सफल भी रहीं।

बीजेपी ने अपने 2019 के मैनिफेस्टो में कहा था, "हम आतंकवाद का समर्थन करने वाले देशों और संगठनों के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय मंच पर ठोस कदम उठाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और ऐसे देशों तथा संगठनों को वैश्विक मंच पर अलग-थलग करने के लिए हम सभी जरूरी उपायों पर कार्य करेंगे।

मोदी सरकार के पैकेज पर मूडीज ने उठाए सवाल: नहीं दूर होंगी कोरोना संकट की दिक्कतें

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story