Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

किसान रैली में पवार बोले- राज्यपाल के पास कंगना से मिलने का वक्त, किसानों से नहीं

पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार ने कहा कि आज देशभर में शांतिपूर्ण तरीके से किसानों का आंदोलन चल रहा है। राज्यपाल के पास कंगना रनौत से मिलने का वक्त है, लेकिन आंदोलन कर रहे किसानों से मिलने का वक्त नहीं है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 25 Jan 2021 11:12 AM GMT

किसान रैली में पवार बोले- राज्यपाल के पास कंगना से मिलने का वक्त, किसानों से नहीं
X
एनसीपी नेता शरद पवार ने आजाद मैदान की रैली में कहा कि महाराष्ट्र में कभी ऐसा राज्यपाल नहीं आया, जिसके पास किसानों से मिलने का वक्त नहीं है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुंबई: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के आन्दोलन का आज 61 वां दिन है। सिंघु बॉर्डर पर किसान अपनी मांगों को लेकर आज भी आन्दोलनरत हैं।

किसानों के समर्थन में आज मुंबई के आजाद मैदान में हजारों की संख्या में किसान जमा हुए हैं। महाराष्ट्र के अलग-अलग जिलों से किसान यहां पहुंचे हैं। एनसीपी नेता शरद पवार समेत महाराष्ट्र के कई बड़े नेता इस कार्यक्रम में मौजूद हैं।

किसानों की इस सभा को सम्बोधित करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार ने कृषि कानूनों को लेकर केंद्र पर जमकर बोला। शरद पवार ने कहा कि इन कानूनों को बिना चर्चा के पास किया गया।



राज्यपाल का किसानों से न मिलना संविधान के साथ मजाक : शरद पवार

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आज देशभर में शांतिपूर्ण तरीके से किसानों का आंदोलन चल रहा है। राज्यपाल के पास कंगना रनौत से मिलने का वक्त है, लेकिन आंदोलन कर रहे किसानों से मिलने का वक्त नहीं है।

जो संविधान के साथ मजाक है। अगर सिर्फ बहुमत के आधार पर कानून पास करेंगे तो किसान आपको खत्म कर देंगे, ये सिर्फ शुरुआत है। महाराष्ट्र में कभी ऐसा राज्यपाल नहीं आया, जिसके पास किसानों से मिलने का वक्त नहीं है।

किसानों के विरोध से डरे CM खट्टर, गणतंत्र दिवस पर बदला कार्यक्रम स्थल

23 किसानों का प्रतिनिधिमंडल राजभवन जाएगा

आजाद मैदान में रैली के बाद किसानों को राजभवन तक मार्च निकालना था। लेकिन सभी किसानों को वहां तक जाने की इजाजत नहीं मिली है। ऐसे में अब कुल 23 किसानों का प्रतिनिधिमंडल ही राजभवन जाएगा और अपनी मांगों को सामने रखेगा।

वहीं महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि कुछ लोग किसानों को गुमराह कर रहे हैं। एनसीपी ने 2006 में कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग को मंजूरी दी। ऐसे में अगर अब केंद्र भी यही कानून लाया है, तो बुराई क्या है। कांग्रेस को इस दोहरेपन पर जवाब देना चाहिए।

किसान Tractor Rally के जरिए कल करेंगे शक्ति प्रदर्शन, इन रास्तों से जाने से बचें

Sharad किसान रैली में पवार बोले- राज्यपाल के पास कंगना से मिलने का वक्त, किसानों से नहीं(फोटो: सोशल मीडिया)

नासिक, लातूर, भिवंडी, पुणे समेत महाराष्ट्र के कई जिलों से यहां पहुंचे किसान

बता दें कि मुंबई के आजाद मैदान में किसान रविवार से ही डेरा डाल चुके हैं। रविवार की रात किसानों ने आजाद मैदान में भी गुजारी। यहां नासिक, लातूर, भिवंडी, पुणे समेत महाराष्ट्र के अलग-अलग इलाकों से हजारों किसान आजाद मैदान पहुंचे हैं।

आज यहां आयोजित रैली को राज्य कांग्रेस अध्यक्ष व राजस्व मंत्री बालासाहेब थोराट और पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे सहित वामपंथी दलों के नेता भी संबोधित करेंगे।

माना जा रहा है कि महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों में अपना सियासी आधार मजबूत करने के लिए राज्य के तीनों सत्ताधारी दल खुलकर किसानों के समर्थन में आ गए हैं।

किसान आंदोलन LIVE: ट्रैक्टर रैली पर दिल्ली पुलिस ने कहा- नियम तोड़े गए तो पुलिस लेगी एक्शन

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story