इस एनसीपी नेता ने पब्लिक मंच से लगा दिया PM मोदी को फोन, फिर जो हुआ….

एनसीपी नेता और महाराष्ट्र की कर्जत विधानसभा सीट से विधायक रोहित पवार की एक ‘फोन कॉल’ काफी चर्चा में है। रोहित पवार महाराष्ट्र के संगमनेर में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे। इस दौरान उनके साथ मंच पर शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे भी मौजूद थे। इसी मंच से रोहित पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र को एक ‘कॉल’ किया

मुंबई  : एनसीपी नेता रोहित पवार की एक ‘फोन कॉल’ काफी चर्चा में है।एनसीपी नेता और महाराष्ट्र की कर्जत विधानसभा सीट से विधायक रोहित पवार महाराष्ट्र के संगमनेर में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे। इस दौरान उनके साथ मंच पर शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे भी मौजूद थे। इसी मंच से रोहित पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र को एक ‘कॉल’ किया और कहा कि मोदीजी किसानों पर थोड़ा ध्यान दीजिए और पॉलिसी में भी कुछ बदलाव कीजिए।

 

रोहित पवार ने स्टेज पर माइक पकड़े-पकड़े कान पर फोन लगाकर कहा, ‘नमस्ते मोदीजी, रोहित पवार बोल रहां हूं। नाम तो सुना ही होगा। कुछ नहीं साहब, थोराट साहब ने (कांग्रेस नेता और मंत्री बाला साहब थोराट) संगमनेर मे प्रोग्राम रखा था। वहीं पर ही हूं, बहुत से युवा यहां पर हैं। महाराष्ट्र में अब महाविकास आघाड़ी सत्ता में है। पिछले पांच साल में जो विकास महाराष्ट्र में नहीं हुआ था, वह अब हम करके दिखाएंगे।’

यह पढ़ें…यूपी में पुलिस कमिश्नर सिस्टम: जनसंख्या बढ़ती गई, घटता गया मेरठ का रुतबा

 

 

 

संगमनेर के अमृतवाहिनी कॉलेज में रोहित पवार और गठबंधन के कई युवा नेता युवाओं के साथ बात कर रहे थे। इस दौरान शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे मंच पर और मंत्री बाला साहब थोराट मंच के नीचे पहली पंक्ति में बैठे थे। रोहित पवार ने आगे कहा, ‘युवाओं को रोजगार मिलने के लिए जो इंडस्ट्रियल पॉलिसी है, वह पिछले कुछ साल में अच्छी नहीं रही है।

यह पढ़ें…दबंगों ने तमंचे के बल पर किशोरी को घर से किया अगवा, फिर बारी-बारी से किया रेप

 

आपसे अपेक्षा करते हैं कि उसमें आवश्यक बदलाव होंगे। अगर आप यह बदलाव करते हैं तो युवाओ कों रोजगार मिलेगा। किसानो की तरफ भी ध्यान दिजीएगा। यहां पर हम सब तो खुश हैं लेकिन केंद्र सरकार की तरफ से पॉलिसी में कुछ बदलाव चाहिए। आपके चार साल ही बचे हैं। अपेक्षा करते हैं कि आप ध्यान देंगे और जनता की आवाज सुनेंगे। आप बिजी होंगे, आपका ज्यादा समय नहीं लेना चाहता। धन्यवाद!’