चीन की दिक्कतें अब बढ़ी: नेपाल ने उठाया बड़ा कदम, ड्रैगन को दिया जोरदार झटका

नेपाल अब चीन के प्रति काफी सख्त रूख अपनाते हुए दिखाई दे रहे हैं। केपी शर्मा ओली ने चीन के दखल पर आपत्ति जाहिर की है। नेपाल के प्रधानमंत्री ने काठमांडू में तैनात चीन के राजदूत हाओ यांकी से साफ शब्दों में कहा है कि वे किसी दूसरे देश की सहायता के बिना ही अपनी पार्टी के भीतर की चुनौतियों से निपट सकते हैं।

NEPAL CHINA

फोटो-सोशल मीडिया

काठमांडू। नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली(KP Sharma Oli) अब चीन के प्रति काफी सख्त रूख अपनाते हुए दिखाई दे रहे हैं। केपी शर्मा ओली ने चीन के दखल पर आपत्ति जाहिर की है। नेपाल के प्रधानमंत्री ने काठमांडू में तैनात चीन के राजदूत हाओ यांकी से साफ शब्दों में कहा है कि वे किसी दूसरे देश की सहायता के बिना ही अपनी पार्टी के भीतर की चुनौतियों से निपट सकते हैं। आपको बता दें कि नेपाल में पीएम ओली के खिलाफ सत्तारूढ़ नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी के चेयरमैन पुष्प कमल दहल प्रचंड ने फिर से मोर्चा खोला हुआ है।

ये भी पढ़ें… युद्ध चीन-ऑस्ट्रेलिया में: इस हथकंडे से बना रहा अपना शिकार, अब चली ये चाल

नेपाल के संबंध बहुत नाजुक

नेपाल के पीएम केपी ओली की छवि बीते दो साल में भारत के बिल्कुल विरोध की रही है। ऐसे में देश का विवादित नक्शा संसद से पास करवाने के बाद से भारत के साथ नेपाल के संबंध बहुत नाजुक दौर से गुजर रहे हैं।

इस दौरान भारत ने भी कालापानी, लिंपियाधुरा और लिपुलेख को लेकर जारी मतभेदों पर वार्ता के इशारे दिए हैं। इससे कुछ दिनों पहले ही भारतीय विदेश सचिव, सेना प्रमुख और खुफिया एजेंसी रॉ चीफ ने भी नेपाल का दौरा किया है।

nepal china deal
फोटो-सोशल मीडिया

ऐसे में चीनी राजनयिकों की नई पीढ़ी से मतलब रखने वाली ‘वुल्फ वॉरियर’ हाओ की नेपाल के सत्‍ता गलियारों में जोरदार पकड़ है। इस बीच उनकी कोशिश बनी हुई है कि किसी भी तरीके से नेपाल कम्‍युनिस्‍ट पार्टी को ओली के समर्थन में खड़ा रखा जाए, जो इन भारत के खिलाफ लगातार कई फैसले ले चुके हैं।

ये भी पढ़ें…चीन कभी भी कर सकता है भारत पर बड़ा हमला!, जिनपिंग के इस आदेश से उठे सवाल

ओली सरकार नहीं ले पाई कोई निर्णय

इसके साथ ही ओली सरकार ने चीनी राजदूत के इशारे पर अमेरिका से मिलने वाली 50 करोड़ डॉलर की मदद को भी ठंडे बस्‍ते में डाल दिया है। बीते दिनों अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ के बाद भी ओली सरकार इस फंड पर अब तक कोई निर्णय नहीं ले पाई है।

बता दें, हाओ चीन की वुल्फ वॉरियर’ राजनयिकों की नई पीढ़ी से संबंध रखती हैं। चीनी राजनयिकों को ये नाम एक ब्लॉकबास्टर फिल्म के नाम पर दिया गया है। इस फिल्म में एक चीनी कमांडो अफ्रीका और दक्षिणपूर्व एशिया में बुरे ‘अमेरिकियों’ की हत्या करता है।

ये भी पढ़ें…नेपाल में बस दुर्घटना में कम से कम 9 की मौत और 34 अन्य घायल

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App