×

नेपाल की भारतीय शख्स के साथ अमानवीयता, 20 घंटों में कर दिया ऐसा हाल

नेपाल पुलिस सीमा पर भारतीयों के साथ इतनी अमानवीयता के साथ पेश आ रही हैं, जो किसी भी पड़ोसी देश के साथ रिश्ते खराब करने की दिशा में काफी है। इसी कड़ी में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें बिहार के रहने वाले एक शख्स की नेपाल पुलिस ने बेरहमी से पिटाई कर दी।

Shivani Awasthi
Updated on: 13 Jun 2020 2:35 PM GMT
नेपाल की भारतीय शख्स के साथ अमानवीयता, 20 घंटों में कर दिया ऐसा हाल
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

पटना: एक ओर नेपाल विवादित नक्शे को मंजूरी देकर भारतीय क्षेत्रों को अपनी सीमा में शामिल कर दोनों देशों के बीच के सीमा विवाद को बढ़ाने में लगा है तो वहीं नेपाल पुलिस सीमा पर भारतीयों के साथ इतनी अमानवीयता के साथ पेश आ रही हैं, जो किसी भी पड़ोसी देश के साथ रिश्ते खराब करने की दिशा में काफी है। इसी कड़ी में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें बिहार के रहने वाले एक शख्स की नेपाल पुलिस ने बेरहमी से पिटाई कर दी।

भारत नेपाल बॉर्डर और भारतीयों की दुर्दशा

दरअसल, बिहार के सीतामढ़ी जिले में का कुछ हिस्सा भारत नेपाल सीमा पर हैं। इसके अंतर्गत जानकीनगर गांव में लगन राय नाम काशख्स रहा है। उसके बेटे की शादी नेपाल की रहने वाली एक लड़की हुई, जिसका गाँव नारायणपुर भी भारत नेपाल के बॉर्डर पर ही है।

नेपाल पुलिस की अमानवीयता, भारतीय की जमकर की पिटाई

बीते शुक्रवार को लग्न राय अपने संबंधी से मुलाकात के लिए बॉर्डर पहुंचा तो नेपाल पुलिस ने उससे सीमा पर रिश्तेदारों से मिलने के लिए दो हजार रुपये मांगे। लगन राय ने मना किया तो नेपाल पुलिस नाराज हो गयी और उसकी बर्बरता से पिटाई कर दी।

ये भी पढ़ेंः सिर्फ 85 रु में घर: इतना सस्ता हुआ यहां मकान, बला की खूबसूरत जगह

20 घंटे तक भारतीय को जबरन बंधक बनाया

नेपाल पुलिस की इस मानवीयता को देख कर भीड़ एकत्र हो गयी। इस पर पुलिस ने फायरिंग शुरू कर दी। जानकारी के मुताबिक, नेपाल पुलिस ने 15 से 20 राउंड फायरिंग की। इतना ही नहीं लगन राय को जबरन बंधक बना कर उसकी पिटाई की। 20 घंटों तक पुलिस ने उसे बंधक बना कर रखा।

विदेश मंत्रालय के हस्तक्षेप के बाद रिहाई

वहीं जब मामला भारत सरकार के विदेश मंत्रालय तक पहुंचा तो उन्होंने मामले में हस्तक्षेप करते हुए नेपाल सरकार पर दबाव बना तब जाकर आज सुबह 4 बजे पुलिस ने लगन राय को मुक्त किया।

ये भी पढ़ेंः गुजरात: 23 हीरा कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव, कारखानों को बंद करने का आदेश

नेपाल पुलिस की बर्बरता का शिकार हुए लगन राय ने बताया कि बंधक बना कर पुलिस ने उसपर मनाव तश्करी में शामिल होने का दबाव बनाया और उससे ये कबूल करने को कहा। ऐसा न करने पर काफी पीटा।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story