खुशखबरी! कम हुए पेट्रोल-डीजल के रेट, ऐसे कर सकते हैं यहां चेक

देश की राजधानी दिल्ली से पेट्रोल-डीजल के दामों को लेकर एक अच्छी खुशखबरी आ रही है। हम बात कर रहें हैं अंतरराष्ट्रीलय बाजार में कच्चे तेल के भाव नरम हो गए हैं।

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली से पेट्रोल-डीजल के दामों को लेकर एक अच्छी खुशखबरी आ रही है। हम बात कर रहें हैं अंतरराष्ट्रीलय बाजार में कच्चे तेल के भाव नरम हो गए हैं। जिसके चलते पेट्रोल और डीजल के दाम में थोड़ी कटौती देखने को मिली है। 15 अक्टूबर मंगलवार को देश के चार प्रमुख महानगर-दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, चेन्नई में पेट्रोल और डीजल के दाम 5 पैसे प्रति लीटर कम हो गए। लेकिन इससे पहले दो दिनों तक पेट्रोल और डीजल के भाव में कोई बदलाव नहीं किया गया था।

ये भी देखें:धारा 370 के खिलाफ विरोध प्रदर्शन, उमर अब्दुला की बहन साफिया हुई गिरफ्तार

जाने यहां नए रेट

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार दिल्ली, कोलकता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल के दाम घटकर क्रमश: 73।27 रुपए, 75।92 रुपए, 78।88 रुपए और 76।09 रुपए प्रति लीटर हो गए हैं वहीँ डीजल के दाम भी घटकर क्रमश: 66।41 रुपए, 68।77 रुपए, 69।61 रुपए और 70।15 रुपए प्रति लीटर हो गए हैं। आपको बता दें कि अमेरिका और चीन के बीच आंशिक व्यापार करार के बीच में अटकने की आशंकाओं के बीच अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में कमी आई है।

क्याा जीएसटी के दायरे में आएंगे पेट्रोल-डीजल?

इस बीच, पेट्रोल-डीजल के GST के दायरे में आने की चर्चा एक बार फिर शुरू हो गई है। कुछ समय पहले में केंद्रीय पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस एवं इस्पात मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण से पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के दायरे में लाने की अपील की।

ये भी देखें:रूखी त्वचा को ऐसे कहिए बाय-बाय, घरेलू उपाय से पाएं ग्लोइंग स्किन

उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) के निर्णायक नेतृत्व में दो साल पहले ऐतिहासिक कर सुधार के रूप में जीएसटी व्यवस्था शुरू की गई थी, लेकिन पेट्रोलियम क्षेत्र की जटिलता तथा इस क्षेत्र में राज्य सरकारों की राजस्व निर्भरता को देखते हुए पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया। अब पेट्रोलियम उद्योग की ओर से इसे जीएसटी के दायरे में लाने की लगातार मांग की जा रही है।” धर्मेंद्र प्रधान के इस बयान के बाद पेट्रोल और डीजल के जीएसटी स्लैकब में आने की उम्मीीद बढ़ गई है।