नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी ने कहा- बहुत बुरी हालत में भारत की अर्थव्यवस्था

भारत में जन्मे और जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय(JNU) से पढ़ाई करने वाले अभिजीत बनर्जी, उनकी पत्नी एस्टेयर ड्युफलो और माइकल क्रेमर को 2019 के अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार दिया गया है।

नई दिल्ली: भारत में जन्मे और जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय(JNU) से पढ़ाई करने वाले अभिजीत बनर्जी, उनकी पत्नी एस्टेयर ड्युफलो और माइकल क्रेमर को 2019 के अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार दिया गया है। अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्नी ड्युफलो अमेरिका के मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी में प्रोफेसर हैं।

यह भी पढ़ें…डेंगू मरीजों से मिलने गए थे केंद्रीय मंत्री, फेंकी गई स्याही

नोबेल पुरस्कार की घोषणा होने के बाद अभिजीत बनर्जी अपनी पत्नी के साथ पत्रकारों के सवालों के जवाब दे रहे थे। इस दौरान जब एक पत्रकार ने उनसे भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि बहुत बुरी स्थिति है। उन्होंने कहा कि मौजूदा डेटा से यह आश्वासन नहीं मिलता कि अर्थव्यवस्था की सेहत में जल्द सुधार आएगा।

यह भी पढ़ें…PMC घोटाले ने ली खाताधारक की जान, बैंक में फंसे हैं 90 लाख रुपए

नोबेल पुरस्कार विजेता ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था डगमगाई हुई है। मौजूदा (ग्रोथ) डेटा को देखने के बाद इसको (निकट भविष्य में इकॉनमी रिवाइवल) लेकर भरोसा नहीं किया जा सकता है। पिछले 5-6 साल में हमने कुछ गति देखी, लेकिन अब यह भरोसा भी जा चुका है।

अभिजीत बनर्जी ने नेशनल सैंपल सर्वे के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि 2014-15 और 2017-18 के दौरान ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में उपभोग में कमी आई है। यह पहली बार है जब कई कई वर्षों में ऐसा हुआ है तो यह बहुत ही चेतावनी भरा संकेत है।

यह भी पढ़ें…पाकिस्तान की तबाही शुरू: FATF में लगा तगड़ा झटका, नहीं दिया किसी ने साथ

बता दें कि अर्थशास्त्र का प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार भारतीय मूल के अमेरिकी अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी, उनकी पत्नी एस्तेय डिफ्लो और अर्थशास्त्री माइकल क्रेमर को संयुक्त रूप से मिला है। 58 साल के अभिजीत बनर्जी अभी अमेरिका में मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी में अर्थशास्त्र पढ़ाते हैं।