अब यहां सामने आई कांग्रेस में आन्तरिक कलह, मंत्री ने उठाए सरकार पर सवाल

राजस्थान के भरतपुर में कोरोना वायरस की वजह से मुस्लिम महिला की डिलीवरी नहीं कराने का मामला कांग्रेस की आंतरिक सियासत का मुद्दा बन गया है।

कोरोना का प्रकोप पूरे देश में लगातार जारी है। लेकिन राजस्थान में कोरोना का एक मामला अब सियासत का मोड़ लेता जा रहा है। राजस्थान के भरतपुर में कोरोना वायरस की वजह से मुस्लिम महिला की डिलीवरी नहीं कराने का मामला कांग्रेस की आंतरिक सियासत का मुद्दा बन गया है।

सरकार के मंत्री ने लगाए सरकार पर आरोप

पूरा मामला ये है कि भारतीय जनता पार्टी के नेता इरफान की पत्नी के नवजात बच्चे की भरतपुर अस्पताल के बाहर एम्बुलेंस में चढ़ने के वक्त मौत हो गई थी। अब इस मुद्दे पर कांग्रेस में आतंरिक कलह के आसार बनते जा रहे हैं। राजस्थान सरकार के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने अब इस मुद्दे पर अपनी राय रखते हुए नाराजगी जताई है।

ये भी पढ़ें-  बहुत जरूरी सूचना: सरकार ने बदली ये तारीखें, जुड़ी हैं आपके पैसों से

पर्यटन मंत्री ने ट्वीट कर इस घटना को डॉक्टरों की लापरवाही का मामला बताया। पर्यटन मंत्री ने ट्वीट कर सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि गहलोत सरकार के अधिकारी महिला को धमका रहे हैं और सरकार के पक्ष में बयान देने के लिए कह रहे हैं। अब ऐसा सुनने में आ रहा है कि मंत्री विश्वेंद्र सिंह मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से नाराज़ चल रहे हैं।

जांच रिपोर्ट में भी हुआ खुलासा

दरअसल घटना के बाद आई जांच रिपोर्ट में भी ये ही सामने आया कि ब्लीडिंग रोकने के लिए चिकित्सकों ने इंजेक्शन दिए थे और महिला एम्बुलेंस पर चढ़ ही रही थी कि उसी दौरान प्रसव हो गया और प्रीमेच्योर डिलीवरी की वजह से नवजात की मृत्यु हो गई। जिसके बाद ज्यादा खून बह जाने की वजह से महिला को खूब चढ़ाया भी गया।

ये भी पढ़ें-  नन्ही गुड़िया का इतना बड़ा दान, देख हो गए बड़े-बड़े फेल

इस घटना के बाद से राजस्थान सरकार लगातार सवालों के घेरे में है। सरकार पर आम जनता और और विपक्ष तो सवाल उठा ही रहे हैं। लेकिन सरकार पर अब उसके ही अपने मंत्री भी आरोप लगा रहे हैं। ऐसे में एक तो गहलोत सरकार की लगातार किरकिरी हो रही है। ऊपर से एक बार फिर कांग्रेस में आपसी कलह का मामला भी जोर पकड़ रहा है।

कांग्रेस की आंतरिक कलह आई सामने

इस मामले से एक और राज्य में भी कांग्रेस के आतंरिक कलह और मनमुटाव का मामला सामने आता दिख रहा है। क्योंकि इस मामले में सरकार के मंत्री विश्वेंद्र सिंह लगातार सरकार पर अपना हमला बोल रहे हैं। जांच रिपोर्ट सामने आने के बाद एक बार फिर सरकार के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने अपनी ही सरकार पर हमला बोला। मंत्री ने हमला बोलते हुए कहा, मामला यह बताया जा रहा है कि मुसलमानों में कोरोना वायरस ज्यादा हो रहा है, इसलिए डॉक्टरों ने मुसलमान महिला को अस्पताल में नहीं देखा।

ये भी पढ़ें-  तेज़ी से जा रहा आपका डेटा, इंटरनेट पर भी कोरोना वायरस का बढ़ा प्रकोप   

दरअसल ये मामला अब कांग्रेस के आतंरिक मामला बनता जा रहा है। ऐसा माना जा रहा है कि भरतपुर से आने वाले चिकित्सा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेहद चहेते हैं, जिसकी वजह से पर्यटन मंत्री और भरतपुर के पूर्व महाराज विश्वेंद्र सिंह उन्हें फूटी आंख नहीं सुहाते हैं। इसीलिए पर्यटन मंत्री द्वारा लगातार सरकार पर आरोप लगाए जा रहे हैं।

बात है पुरानी

दरअसल अगर शुरू से पूरे मामले पर नजर डाले तो उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने प्रदेश अध्यक्ष की हैसियत से सुभाष गर्ग का टिकट काट दिया तो अशोक गहलोत ने लोकदल का टिकट दिलवा कर सुभाष को विधायक बनवा दिया और फिर लोकदल के विधायक के रूप में मंत्री पद की शपथ भी दिलवा दी।

ये भी पढ़ें- शर्मनाक: कोरोना की जांच करने पहुंची टीम को लोगों ने खदेड़ा, रास्ता किया बंद

जैसे ही यह वाकया हुआ और मामला चिकित्सा विभाग से जुड़ा हुआ था तो पिछले कई दिनों से लगातार सुभाष गर्ग और अशोक गहलोत सरकार पर हमला बोलते विश्वेंद्र सिंह ने तुरंत ही अपनी सरकार के खिलाफ ट्वीट भी कर दिया और बयान भी दे दिया।