×

खतरे में देश: ये रिपोर्ट कर देगी आपके रोंगटे खड़े, बढ़ रहा मौत का आंकड़ा

इस वक्त चीन समेत पूरी दुनिया पर कोरोना वायरस का खतरा मंडरा रहा है। दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस फैल चुका है। भारत में भी कोरोना वायरस की दस्तक हो चुकी है और केरल में कोरोना से संक्रमित तीसरा मरीज मिला है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 4 Feb 2020 7:01 AM GMT

खतरे में देश: ये रिपोर्ट कर देगी आपके रोंगटे खड़े, बढ़ रहा मौत का आंकड़ा
X
खतरे में देश: ये रिपोर्ट कर देगी आपके रोंगटे खड़े, बढ़ रहा मौत का आंकड़ा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

इस वक्त चीन समेत पूरी दुनिया पर कोरोना वायरस का खतरा मंडरा रहा है। दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस फैल चुका है। भारत में भी कोरोना वायरस की दस्तक हो चुकी है और केरल में कोरोना से संक्रमित तीसरा मरीज मिला है। अब इसी बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organistaion-WHO) ने भारत मे कैंसर को लेकर एक चिंताजनक रिपोर्ट जारी की है।

हर 10 में से एक आदमी को कैंसर का खतरा- रिपोर्ट

WHO की हालिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है कि आने वाले समय में भारत में हर 10 में से एक आदमी को कैंसर की बीमारी का खतरा होगा। रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि और हर 15 कैंसर मरीज में से एक मरीज की मौत हो जाएगी। हर साल आज ही के दिन यानि 4 फरवरी को लोगों के बीच कैंसर को लेकर जागरुकता फैलाने के लिए वर्ल्ड कैंसर डे मनाया जाता है। वहीं इस मौके पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने दो ग्लोबल रिपोर्ट जारी की है।

यह भी पढ़ें: दिग्गज एक्ट्रेस के मौत का सच: BJP के प्रचार में हुआ था ऐसा, कांप उठा था बॉलीवुड

बीते दिनों कैंसर के 11 लाख से ज्यादा नए मामले आए सामने

WHO की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में कैंसर के मरीज काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। बीते दिनों कैंसर के 11 लाख से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 7 लाख 84 हजार 800 लोगों की कैंसर के चलते मौत हो गई। रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 5 सालों से 22 लाख से ज्यादा लोग कैंसर से पीड़ित हैं। रिपोर्ट में कैंसर के ताजे आकंड़ें पेश किए गए हैं। भारत की सवा सौ करोड़ की आबादी में कैंसर सभी के लिए जानलेवा बनता जा रहा है। हर साल कैंसर से मरने वाले लोगों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है।

तमाम प्रयासों के बाद भी नहीं आई कमी

वहीं कैंसर की रोकथाम के लिए विश्व स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। लेकिन भारत में कैंसर के मामलों में कमी नहीं आई है। एक आंकड़े के मुताबिक, भारत में सबसे ज्यादा ब्रेस्ट कैंसर के मामले सामने आए हैं। आंकड़ों के मुताबिक, ब्रेस्ट कैंसर के 1 लाख 62 हजार 500 मामले सामने आए हैं। वहीं इसके बाद ओरल कैंसर के 1 लाख 20 हजार मामले, सर्वाइकल कैंसर के 97 हजार मामले, लंग कैंसर के 68 हजार मामले पेट के कैंसर के 57 हजार मामले, और उसके बाद कोलोरेक्टर कैंसर के 57 हजार मामले सामने आए हैं। बता दें कि कैंसर के ये सारे मामले कुल कैंसर के मामलों का 49 फीसदी है।

यह भी पढ़ें: गिरफ्तार होंगे आजम के लाड़ले: कोर्ट ने दिया ये आदेश, बढ़ेगी इनकी मुश्किलें

महिलाओं को कैंसर का ज्यादा खतरा

वहीं कैंसर से पीड़ित होने वाले मरीजों में पुरुषों से ज्यादा महिलाओं की संख्या है। आंकड़ों के मुताबिक, पुरुषों मे कैंसर के 5.70 लाख नए मामले सामने आए हैं। 5.70 लाख मामलों में 92 हजार ओरल कैंसर के, 49 हजार लंग कैंसर के, 39 हजार पेट के कैंसर के और 37 हजार कोलेरेक्टर कैंसर के मामले हैं। इसी तरह महिलाओं में कैंसर के 5.87 लाख नए मामले सामने आए हैं।

महिलाओं में पुरुषों की तुलना में कैंसर के 17 हजार नए मामले दर्ज किए गए हैं। 5.87 लाख नए मामलों में 1 लाख 62 हजार 500 ब्रेस्ट कैंसर के, 97 हजार सर्वाइकल कैंसर के, 36 हजार ओवेरियन कैंसर के, 28 हजार ओरल कैंसर के और 20 हजार कोलोरेक्टर कैंसर के मामले हैं।

यह भी पढ़ें: बीजेपी MLA के भाई ने दी, मुख्यमंत्री योगी को सरेआम गाली, जानिए क्या है मामला

तंबाकू से फैसला है सबसे ज्यादा तंबाकू

पुरुषों में कैंसर के मामले जो सामने आए हैं, उनमें 34 से लेकर 69 फीसदी मामले तंबाकू को लेकर हैं। वहीं 10 से 27 फीसदी तक महिलाओं में तंबाकू की वजह से कैंसर होता है। रिपोर्ट में सामने आया है कि सबसे ज्यादा कैंसर तबांकू की वजह से फैलता है। खासकर पुरुषों में तंबाकू की वजह से कैंसर के मामलों में काफी इजाफा दर्ज किया गया है। वहीं एक आंकड़े के मुताबिक करीब 22 फीसदी कैंसर में मौत के मामले तंबाकू के सेवन की वजह से हो रहे हैं।

हर 20 सालों में दोगुने होते हैं मामले

कैंसर को लेकर पिछले साल 2019 में जो रिपोर्ट सामेन आई थी, उसके मुताबिक भारत में कैंसर के मामले हर 20 साल में दोगुने हो जाते हैं। इस रिपोर्ट के मुताबिक आने वाले 10 से 20 सालों में उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और ओडिशा में कैंसर भयावह रूप ले सकता है। बता दें कि, इन राज्यों में कैंसर की बीमारी का इलाज करने वाले अस्पतालों की संख्या भी कम हैं।

यह भी पढ़ें: सेना पर बड़ा खुलासा! ऐसी है सैनिकों की हालत, कैग की ये रिपोर्ट बयां करती है दास्तां

Shreya

Shreya

Next Story