×

अभी-अभी स्टेशन पर बड़ा हादसा: गिरा ओवरब्रिज, बचाव कार्य जारी

खबर मध्य प्रदेश के भोपाल से है, जहां पर रेलवे स्टेशन पर बड़ा हादसा हो गया। भोपाल के रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 3 पर ओवरब्रिज की सीढ़ियां गिर गई। इस हादसे में एक व्यक्ति की मौके पर ही मौत हो गई है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 13 Feb 2020 4:53 AM GMT

अभी-अभी स्टेशन पर बड़ा हादसा: गिरा ओवरब्रिज, बचाव कार्य जारी
X
अभी-अभी स्टेशन पर बड़ा हादसा: गिरा ओवरब्रिज, बचाव कार्य जारी
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

भोपाल: खबर मध्य प्रदेश के भोपाल से है, जहां पर रेलवे स्टेशन पर बड़ा हादसा हो गया। भोपाल के रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 3 पर ओवरब्रिज की सीढ़ियां गिर गई। इस हादसे में एक व्यक्ति की मौके पर ही मौत हो गई है और कई अन्य घायल बताए जा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, घायलों को पास के हमीदिया हॉस्पिटल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि घायलों की संख्या में इजाफा हो सकता है। हालांकि मौके पर रेलवे सुरक्षा बल मौजूद है और घायलों को हॉस्पिटल पहुंचाया गया है। फिलहाल बचाव कार्य जारी है।

यह भी पढ़ें: बढ़ता जा रहा मौत का आंकड़ा, एक दिन में 242 लोगों ने गवाई अपनी जान

इससे पहले मुंबई के रेलवे स्टेशन के पास गिरा था फुटओवर ब्रिज

बता दें कि इससे पहले पिछले साल मार्च, 2019 में मुंबई के सीएसटी रेलवे स्टेशन के पास से भी एक ही घटना सामने आई थी। यहां के सीएसटी रेलवे स्टेशन के पास फुटओवर ब्रिज गिरा था। जिस वजह से यहां पर कुछ लोग घायल हो गए थे, जबकि फुटओवर ब्रिज गिरने इस हादसे में 4 लोगों की मौत हो गई थी। हादसे में करीब 36 लोग घायल हो गए थ। ये ब्रिज सीएसटी रेलवे स्टेशन से जुड़ता है। प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक जब ब्रिज गिरा तो उसके नीचे कई लोग मौजूद थे। इसके अलावा वहां कई गाड़ियां भी ब्रिज मौजूद थीं। प्लेटफॉर्म 1 बीटी लेन के पास ब्रिज गिरा था।

यह भी पढ़ें: केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं शामिल होगा कोई भी CM, जानें क्या है वजह

इससे पहले भी हो चुकी है ऐसी घटना

वहीं इससे पहले 29 सितंबर 2017 में मुंबई के एलफिंस्टन रेलवे स्टेशन (अभी प्रभादेवी स्टेशन) पर भी फुट ओवर ब्रिज पर भगदड़ हुई थी। इसमें 23 लोगों की मौत हो गई थी। जबकि 50 लोग जख्मी हुए थे। हादसे के बाद कई जगहों पर चेतावनी बोर्ड लगाए गए थे। साथ ही लोगों के आने जाने के लिए सात महीने के रिकॉर्ड टाइम में नया पुल बनाया गया था।

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर: 25 देशों के प्रतिनिधि आज मिलेंगे उप राज्यपाल और मुख्य न्यायाधीश से

Shreya

Shreya

Next Story