×

CAA पर ओवैसी का फिर बड़ा बयान, इस बार कहा कुछ ऐसा

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भी शनिवार को नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) के खिलाफ प्रदर्शन किया।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 22 Dec 2019 5:57 AM GMT

CAA पर ओवैसी का फिर बड़ा बयान, इस बार कहा कुछ ऐसा
X
CAA पर ओवैसी का फिर बड़ा बयान, इस बार कहा कुछ ऐसा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

हैदराबाद: पूरे देश में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं। इसी बीच ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भी शनिवार को नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) के खिलाफ प्रदर्शन किया। हैदराबाद के दारुस्सलाम में आयोजित इस प्रदर्शन में हजारों की तादाद में लोगों की भीड़ उमड़ी। इस प्रदर्शन में असदुद्दीन औवेसी ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि, जो लोग NRC और CAA के खिलाफ हैं, वे अपने घरों के बाहर तिरंगा लहराएं। उन्होंने कहा कि, इससे बीजेपी और सरकार को इस कानून के खिलाफ एक संदेश जाएगा।

यह भी पढ़ें: CAA: मायावती ने चंद्रशेखर पर बोला हमला, कहा- जबरन गया जेल

घर के बाहर तिरंगा लहराना चाहिए- ओवैसी

ओवेसी ने लोगों से कहा कि, जो भी एनआरसी और नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में है, उन्हें अपने घर के बाहर तिरंगा लहराना चाहिए। ताकि उन्हें (बीजेपी) को संदेश भेजा जा सके कि उन्होंने गलत किया और एक काला कानून बना दिया है।

लोगों से की शांति की अपील

इसके अलावा ओवैसी ने लोगों से शांति की अपील करते हुए कानून के खिलाफ अहिंसक विरोध प्रदर्शन जारी रखने को कहा है। हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने कहा कि, हिंसा बिल्कुल नहीं होनी चाहिए। कोई आपको छेड़े तब भी नहीं। उन्होंने कहा कि, हिंसा हुई तो किस्सा खत्म हो जाएगा। यह प्रदर्शन कम से कम 6 महीने तक चलना चाहिए। उसके लिए जरूरी है कि शांति वाला माहौल बना रहे। ओवैसी ने कहा कि हमें लोकतांत्रिक तरीके से मुकाबला करना है।

यह भी पढ़ें: CAA बवाल: कुछ देर में CM गहलोत निकालेंगे शांति मार्च, इंटरनेट समेत मेट्रो सेवा बंद

देशभर में हो रहे हिंसक प्रदर्शन

बता दें कि, नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हो रहे विरोध ने हिंसक रूप ले लिया है। दिल्ली समेत देश के कई जगहों पर प्रदर्शनकारियों ने हिंसक प्रदर्शन किया है। गुरुवार 19 दिसंबर को लेफ्ट पार्टियों ने देश बंद करवाया था। इस दिन संविधानवादियों ने दिल्ली में लाल किला, जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन किया। वहीं विरोध के चलते बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया।

उत्तर प्रदेश के 21 जिलों में इंटरनेट बंद

वहीं बात करें उत्तर प्रदेश की तो यूपी के 21 जिलों में इंटरनेट सेवा बंद कर दिया गया है। साथ ही उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस की कार्रवाई में अब तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है और साथ ही सैकड़ों की संख्या में लोग बुरी तरह से घायल हुए हैं।

प्रदेश में अब तक तकरीबन 705 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जबकि साढ़े 4 हजार से अधिक लोगों से पुलिस ने हिरासत में लिया था। जिन्हें बाद में छोड़ दिया गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, करीब साढ़े 10 हजार लोगों पर एफआईआर दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ें: शिवसेना को नहीं पच पा रही कांग्रेस की ये बात, एक बार फिर किया ‘वार’…

Shreya

Shreya

Next Story