पाक का गंदा खेल: खुफिया एजेंसियों ने जारी किया अलर्ट, चीन का मिला है साथ

जानकारी सूत्रों का कहना है कि इन दिनों कोरोना संकट के कारण विभिन्न मोर्चों पर घिरा चीन ध्यान बंटाने के लिए शातिर चालें चलने में जुटा हुआ है।

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली:  लद्दाख में चीनी सैनिकों की तैनाती से बढ़ी तनातनी के बीच पाकिस्तान कश्मीर में आतंकवादी घटनाओं को बढ़ाने का गंदा खेल खेल सकता है। खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट किया है कि पहले ही आतंकियों को शह देने की कोशिश में जुटा पाकिस्तान चीन की इस आक्रामकता का कश्मीर में फायदा उठा सकता है। खुफिया एजेंसियों ने इस बात का अंदेशा भी जताया है कि चीन की ओर से भी पाकिस्तान को शह मिल सकती है। इसी कारण कश्मीर में सुरक्षाबलों को उच्च अलर्ट पर रखा गया है ताकि घाटी में पाक प्रायोजित आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सके।

घाटी में बढ़ सकती आतंकी घटनाएं, एलर्ट पर सुरक्षाबल

जानकारी सूत्रों का कहना है कि इन दिनों कोरोना संकट के कारण विभिन्न मोर्चों पर घिरा चीन ध्यान बंटाने के लिए शातिर चालें चलने में जुटा हुआ है। इस मकसद से वह पाकिस्तान को शह देकर कश्मीर में आतंकी घटनाओं को बढ़ाने की कोशिश कर सकता है। सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान की सेना और आईएसआई पहले ही इस कोशिश में जुटी हुई हैं। पिछले दिनों घाटी में आतंकी घटनाओं के दौरान चीनी हथियार भी बरामद किए गए थे। हालांकि इन हथियारों की चीन द्वारा सप्लाई की अभी तक पुष्टि नहीं हुई है। वैसे माना जा रहा है कि पाक सेना की ओर से आतंकियों को घातक हथियारों से लैस किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें-    तुर्की को पछाड़ने के करीब भारत, कोरोना मरीजों के मामले में इस पायदान पर होगा देश

सुरक्षा एजेंसियों को पाकिस्तानी सीमा पर किसी भी संभावित हरकत को लेकर विशेष तौर पर विफल बनाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही घाटी के भीतर भी आतंकी घटनाओं की आशंका को देखते हुए सुरक्षा बलों को अलर्ट किया गया है। सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान की सीमा पर लगातार हलचल बनी हुई है और पाक सेना और आईएसआई आतंकियों की घाटी में एंट्री कराने की कोशिश में जुटी हुई हैं। इसलिए इस मामले में विशेष सतर्कता की जरूरत है। चीन भी विभिन्न मुद्दों पर भारत को घेरने की कोशिश में जुटा हुआ है। लद्दाख में चीनी सैनिकों की बढ़ती हलचल इसी कड़ी की कार्रवाई माना जा रहा है। नेपाल द्वारा लिपुलेख का मुद्दा उठाए जाने के पीछे भी चीन का ही हाथ होने की आशंका है।

भारत ने की जवाबी कार्रवाई

चीन द्वारा लद्दाख में सैनिकों की तैनाती को उसकी सोची-समझी रणनीति का हिस्सा माना जा रहा है। भारतीय सेना सियाचिन ग्लेशियर में मोर्चा संभालकर चीन और पाकिस्तान को आपस में नहीं जुड़ने दे रही है। ऐसे में अगर चीन पूर्वी लद्दाख की गाल्वन घाटी पर कब्जा कर लेता है तो इससे भारतीय सेना के लिए उत्तर में स्थित अपने इलाकों तक पहुंचना काफी मुश्किल काम हो जाएगा। यही कारण है कि भारत ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए लद्दाख में अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है ताकि चीन को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सके।

ये भी पढ़ें-    क्वारनटीन नियमों का उल्लंघन करना पड़ेगा भारी, सरकार ने किया जुर्माने का प्रावधान

जानकार सूत्रों का कहना है कि भारत कश्मीर और लद्दाख दोनों स्थानों पर काफी फूंक-फूंक कर कदम रख रहा है। भारतीय सेना और सुरक्षा बल किसी भी साजिश को विफल बनाने के लिए पूरी तरह सतर्क हैं। भारतीय खुफिया एजेंसियों की नजर गाल्वन घाटी के साथ ही पाकिस्तान और नेपाल सीमा पर लगातार बनी हुई है। चीन की साजिश को देखते हुए भारतीय एजेंसियों ने कई अन्य देशों की एजेंसियों से भी संपर्क साधा है और सेटेलाइट इमेजेस साझा की जा रही हैं। सूत्रों का कहना है कि भारत सरकार भी विभिन्न मोर्चों पर रणनीति बनाते हुए चीन और पाकिस्तान की साजिशों को विफल करने में जुटी हुई है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App