ये नम्बर पाकिस्तान का है, गौर से देख लें, कभी भी आ सकती है जासूसी के लिए कॉल

फोन करने वाले शख्स ने महिला सिपाही से कहा, फोन मत काटना, लॉटरी से संबंधित तुमसे बात करनी है। इसके बाद वह बोला, उसके पास कई दूसरे बेनिफिट हैं। अगर तुम अपने कैंपस और फोर्स के बारे में जानकारी दो तो हम मुंह मांगी रकम दी जाएगी।

नई दिल्ली: कोरोना काल में भी पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। जब पूरी दुनिया कोरोना की दवा बनाने में जुटी हुई है। ऐसे समय में भी अपनी जनता को उसके हाल पर छोड़कर सारा ध्यान भारत के खिलाफ साजिशें रचने में लगाया रहा है।

ताजा मामला जासूसी से जुड़ा हुआ है,  पाकिस्तान की तरफ से आया एक व्हाट्सएप कॉल इसकी वजह है। जो पाकिस्तान के किसी शख्स ने किया था। ये कॉल सीआरपीएफ की एक महिला सिपाही के पास आई थी।

डरपोक पाकिस्तान ने भारत को दहलाने की रची साजिश, यहां बिछाई बारूदी सुरंग

जानकारी देने के बदले मुंह मांगी कीमत देने की कही बात

फोन करने वाले शख्स ने महिला सिपाही से कहा, फोन मत काटना, लॉटरी से संबंधित तुमसे बात करनी है। इसके बाद वह बोला, उसके पास कई दूसरे बेनिफिट हैं। अगर तुम अपने कैंपस और फोर्स के बारे में जानकारी दो तो हम मुंह मांगी रकम दी जाएगी।

उसकी मंशा इससे भी दो कदम आगे की थी इसलिए उसने अपनी बात को आगे बढाते हुए कहा कि ये मत सोचना कि हम तुम्हारे बारे में कुछ नहीं जानते। हमें सब मालूम है कि तुम यूपी की रहने वाली हो। मैं कराची से बोल रहा हूं। फोन काटने से पहले वह व्यक्ति कहता है कि अभी हम काम नहीं बता रहे हैं, पहले तुम अपनी डिमांड बताओ।

महिला सिपाही ने मामले की जानकारी अपने शीर्ष अधिकारियों को दी। जिसके बाद सीआरपीएफ ने इस बारे में दिल्ली पुलिस में कम्प्लेन दर्ज करा दी है। ये केस सीधा राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा है, इसलिए विकासपुरी पुलिस स्टेशन ने यह मामला स्पेशल सेल को हैण्डओवर कर दिया गया है।

पाकिस्तान नहीं जाएगा भारत का पानी: तैयारी पूरी, ये है देश की प्लानिंग

इस नम्बर से आई थी कॉल

महिला सिपाही ने जो नम्बर दिया था वो 923055752119 है। इसी नम्बर से वाट्सएप कॉल आई थी।  अभी तक जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक सीआरपीएफ की महिला सिपाही दिल्ली आर्म्ड पुलिस ‘डीएपी’ के विकासपुरी स्थित कैंपस में संतरी की ड्यूटी पर थी। दो दिन पहले उसके पास 923055752119 नंबर से व्हाट्सएप कॉल आई थी।

यहां आपको ये भी बता दें कि भारतीय सेना ने पिछले साल नवंबर में अपने सभी जवानों के लिए व्हाट्सएप को लेकर एक एडवाइजरी जारी की थी। इसमें कहा गया था कि सभी जवान अपने व्हाट्सएप अकाउंट की सेटिंग्स तुरंत बदल लें। इससे कोई भी पाकिस्तानी जासूस उन्हें किसी ग्रुप में नही जोड़ सकेगा।

कोरोना संकट के बीच खतरे में इमरान सरकार, पाकिस्तानी सेना ने कर दी ये बड़ी मांग

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App