लॉकडाउन की चर्चा से घबराए यहां के लोग, यूपी-बिहार लौटने वालों की संख्या तेजी से बढ़ी

दिल्ली में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है और अब तक करीब साढे़ करीब साढ़े तेरह हजार लोग इस खतरनाक वायरस की चपेट में आ चुके हैं।

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है और अब तक करीब साढे़ करीब साढ़े तेरह हजार लोग इस खतरनाक वायरस की चपेट में आ चुके हैं। कोरोना से मरने वालों की संख्या 12 सौ से ऊपर पहुंच गई है। इसके साथ ही दिल्ली में जांच कम होने, बेहतर इलाज की सुविधा न होने के साथ ही प्राइवेट अस्पतालों में काफी महंगा इलाज होने की शिकायतें भी हैं। दिल्ली में गहराते कोरोना संकट के बीच 15 जून से एक बार फिर लॉकडाउन लगाने की अफवाह फैल गई है। इस अफवाह के फैलने के बाद यूपी और बिहार लौटने वालों की तादाद फिर बढ़ गई है।

ये भी पढ़ें: यहां बढ़ी अनलॉक में छूट: सरकार ने किया एलान, 15 जून से मिलेगी ये सुविधा

दिल्ली में फिर लॉकडाउन की चर्चा

कोरोना पर विजय हासिल करने के लिए घोषित लंबे लॉकडाउन के बाद अनलॉक वन के दौरान दिल्ली में कोरोना के केस लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं। मुंबई के बाद दिल्ली में यह संकट काफी गहरा गया है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 व 17 जून को एक बार फिर देश के विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग करने वाले हैं।
इसके साथ ही रविवार को देश के गृह मंत्री अमित शाह की दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपराज्यपाल अनिल बैजल के साथ महत्वपूर्ण बैठक भी होने वाली है। इन सब कारणों से एक बार फिर दिल्ली में लॉकडाउन की अफवाह ने तेजी पकड़ ली है। दिल्ली के बॉर्डर को एक बार फिर सील किए जाने की चर्चाएं हैं। ऐसे में यूपी और बिहार लौटने वालों की संख्या फिर बढ़ गई है।

ये भी पढ़ें: कोरोना: आपकी एक गलत आदत से मुसीबत में पड़ सकता है परिवार, तुरंत कर लें सुधार

तीन दिनों में पचास हजार वाहन निकले

जानकारों का कहना है कि पिछले तीन दिनों के दौरान यमुना एक्सप्रेस वे से करीब 50,000 से ज्यादा वाहन यूपी और बिहार की ओर निकले हैं। इनमें 70 फ़ीसदी से ज्यादा वाहन दिल्ली की तरफ से आने वालों के थे। यमुना एक्सप्रेस वे पर स्थित खंदौली टोल प्लाजा के प्रभारी तुलसीराम गुर्जर ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान वाहनों की आवाजाही न के बराबर थी। अनलॉक के दौरान वाहनों की संख्या बढ़ी मगर 11 जून से अचानक वाहनों की संख्या में काफी तेज बढ़ोतरी हुई है। उनका कहना है कि 11 जून से 13 जून के बीच करीब 50000 वाहन गुजर चुके हैं। उन्होंने कहा कि यह गणना 13 जून को रात दस बजे तक की है और उसके बाद भी दिल्ली की ओर से काफी संख्या में वाहन आ रहे हैं।

कोरोना संकट गहराने से फैली अफवाह

एक्सप्रेस वे पर दिल्ली से लौट रहे लोगों का कहना है कि दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। वहां इलाज कराना भी काफी महंगा है। कोरोना की बेकाबू रफ्तार के कारण वहां दोबारा लॉकडाउन लगाया जा सकता है। इस कारण दिल्ली में रुकने पर लॉकडाउन के दौरान एक बार फिर फंसने का खतरा पैदा हो सकता है। इसीलिए लोग यूपी और बिहार में स्थित अपने घरों की ओर लौटने में ही भलाई समझ रहे हैं।

ये भी पढ़ें: पुलिस हिरासत में बाहुबली एक्ट्रेस राम्या कृष्णन, कार से बरामद हुई ऐसी चीज

इस आधार पर लोग लगा रहे अनुमान

दिल्ली से लौट रहे लोगों के मुताबिक पिछली बार भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रदेश के मुख्यमंत्रियों से चर्चा के बाद लॉकडाउन की अवधि को बढ़ा दिया था। पीएम मोदी एक बार फिर सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत करने वाले हैं और इस बातचीत का मुख्य बिंदु कोरोना संकट ही होगा। लोग अनुमान लगा रहे हैं कि उन प्रदेशों में तो अनलॉक जारी रह सकता है जहां केस कम है मगर जिन जगहों पर केस बढ़ रहे हैं वहां फिर लॉकडाउन लगाया जा सकता है।

ये भी पढ़ें: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव: ट्रंप से इतना आगे निकले बिडेन, तीन बड़े सर्वे में निकला ये नतीजा