मोदी के साथ भगवान: जमकर ललकारा चीन को, लद्दाख पहुँचते ही किया ये काम

लद्दाख सीमा पर तैनात जवानों का हौसला बुलंद करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अचानक से शुक्रवार सुबह लेह से लगभग 25 किलोमीटर दूर न्योमा पहुंचे थे।

मोदी के साथ भगवान: जमकर ललकारा चीन को, लद्दाख पहुँचते ही किया ये काम

नई दिल्ली : लद्दाख सीमा पर तैनात जवानों का हौसला बुलंद करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अचानक से शुक्रवार सुबह लेह से लगभग 25 किलोमीटर दूर न्योमा पहुंचे थे। पीएम मोदी ने फॉरवर्ड ब्रिगेड में नीमू पहुंचने पर सिंधु नदी के दर्शन किए और पूजा-अर्चना की। लद्दाख के इस दौरे में पीएम मोदी के साथ चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत और आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे भी उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें… जमकर बरसेंगे बादल, इन राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट, जानें अपने शहर का हाल

इतिहास के साथ जुड़ी सिंधु नदी

न्योमा पहुंचने पर नॉर्दर्न कमांड के कमांडिंग ऑफिसर लेफ्टिनेंट जनरल वाई. के. जोशी ने पीएम मोदी को लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर चीन के साथ चल रहे मतभेदों को लेकर सारी जानकारी दी।

बता दें, लद्दाख में एक तरफ जहां न्योमा में भारतीय सेना की ब्रिगेड हेडक्वॉर्टर के साथ-साथ कई सैन्य रेजिमेंट के बटालियन हेडक्वॉर्टर हैं, वहीं यह जगह भारत के इतिहास के साथ जुड़ी सिंधु नदी के किनारे पर है।

ये भी पढ़ें… कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे की कॉल डिटेल से बड़ा खुलासा, पुलिस के उड़े होश

सिंधु नदी के किनारे

इसके साथ आपको बता दें, यही कारण है कि पीएम मोदी को लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) के सभी हालात की जानकारी सैन्य कमांडर द्वारा सिंधु नदी के किनारे पर दी गई।

इसके साथ ही हर साल जून या जुलाई के महीने में सिंधु दर्शन के मेले का आयोजन भी होता है, जिसकी शुरुआत नब्बे के दशक में भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने की थी। हालांकि इस साल कोरोना वायरस महामारी और चीन सीमा विवाद के चलते इस मेले का आयोजन नहीं हो सका है।

ये भी पढ़ें… TikTok पर बैन: चीनी कंपनी को 45000 करोड़ का नुकसान, चीन की हालत खराब

बिना नाम लिए ताबड़तोड़ निशाना

यहां पर जवानों का हौसला बुलंद करते हुए पीएम मोदी ने चीन पर बिना नाम लिए ताबड़तोड़ निशाना साधा। पीएम मोदी ने कहा कि विस्तारवाद का युग खत्म हो चुका है। अब विकासवाद का समय आ गया है। तेजी से बदलते हुए समय में विकासवाद ही प्रासंगिक है। विकासवाद के लिए अवसर है और विकासवाद ही भविष्य का आधार है।

सीमा पर जवानों को संबोधित करने के बाद पीएम मोदी वहां से रवाना हुए। इसके बाद देर रात तक पीएम मोदी ने बैठक की। जिससे देशवासी ने अदम्य साहस और कर्तव्यनिष्ठा की वाह-वाई कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें… धर्म चक्र दिवस पर पीएम मोदी ने किया देश को संबोधित, सुने संदेश

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।