भारत-भूटान में 9 समझौते, PM मोदी बोले, भूटान जैसा पड़ोसी होना सौभाग्य की बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दो दिवसीय दौरे पर भूटान पहुंचे हैं। पीएम ने कहा कि 130 करोड़ भारतीयों के दिलों में भूटान एक विशेष स्थान रखता है। मेरे पिछले कार्यकाल के दौरान, प्रधानमंत्री के रूप में मेरी पहली यात्रा के लिए भूटान का चुनाव स्वाभाविक था। इस बार भी, अपने दूसरे कार्यकाल के शुरू में ही भूटान आकर मैं बहुत खुश हूं।

थिंपू: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दो दिवसीय दौरे पर भूटान पहुंचे हैं। पीएम ने कहा कि 130 करोड़ भारतीयों के दिलों में भूटान एक विशेष स्थान रखता है। मेरे पिछले कार्यकाल के दौरान, प्रधानमंत्री के रूप में मेरी पहली यात्रा के लिए भूटान का चुनाव स्वाभाविक था। इस बार भी, अपने दूसरे कार्यकाल के शुरू में ही भूटान आकर मैं बहुत खुश हूं।

उन्होंने कहा कि भूटान की पंचवर्षीय योजनाओं में भारत का सहयोग आपकी इच्छाओं और प्राथमिकताओं के आधार पर आगे भी जारी रहेगा। पीएम ने कहा कि भारत और भूटान के संबंध दोनों देशों के लोगों की प्रगति, सम्पन्नता और सुरक्षा के साझा हितों पर आधारित है।

यह भी पढ़ें…दिल्ली: एम्स में लगी भीषण आग, बीजेपी नेता अरुण जेटली हैं भर्ती

पीएम मोदी ने कहा कि ऐसा पड़ोसी कौन नहीं चाहेगा जहां विकास आंकड़ों से नहीं बल्कि हैपिनेस से आंका जाता हो। पीएम मोदी शनिवार सुबह भूटान पहुंचे जिस दौरान नई दिल्ली और थिंपू के बीच हाइड्रो पावर और शिक्षा सहित पांच क्षेत्रों से जुड़े एमओयू पर हस्ताक्षर किया गया।

उन्होंने कहा कि मुझे बहुत खुशी है कि आज हमने भूटान में RuPay कार्ड को लॉन्च किया है। इससे डिजिटल भुगतान और व्यापार तथा पर्यटन में हमारे संबंध और बढेंगे। पीएम ने कहा कि भूटान नरेशों की बुद्धिमत्ता और दूरदर्शिता ने लंबे समय तक हमारे द्विपक्षीय संबंधों का मार्गदर्शन किया है। उनके विजन ने भूटान को दुनिया के सामने एक ऐसे उदाहरण की तरह प्रस्तुत किया है जहां विकास को आंकड़ों से नहीं, खुशियों से नापा जाता है।

यह भी पढ़ें…हर-हर मोदी से गूंज उठा भूटान, कुछ इस तरह हुआ पीएम का स्वागत

पीएम मोदी ने कहा कि भूटान के सामान्य लोगों की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत से एलपीजी की आपूर्ति को 700 से बढ़ाकर 1000 मिट्रिक टन प्रतिमाह करने का फैसला किया है। इससे क्लीन फ्यूल गांवों तक पहुंचाने में मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा कि हाइड्रोपावर दोनों देशों के बीच सहयोग का महत्वपूर्ण क्षेत्र है। दोनों देशों ने भूटान की नदियों की शक्ति को बिजली में ही नहीं, पारस्परिक समृद्धि में भी बदला है। दोनों देशों के सहयोग से भूटान में हाइड्रो पावर उत्पादन क्षमता 200 मेगावाट को पार कर आगे बढ़ रही है।

यह भी पढ़ें…बेहद नाजुक हालत में अरुण जेटली, देखने के लिए लगने लगा तांता

भूटान के पीएम डॉ. लोटे शेरिंग ने कहा कि मैं आज इस गर्व के अहसास से खुश हूं कि दोनों देश मित्रता की सच्ची परिभाषा पर खरे उतर रहे हैं। उन्होंने पीएम मोदी के भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य का संदर्भ लेते हुए कहा कि मुझे उम्मीद है कि हमारा हाइड्रो पावर भारत के इस सपने को पूरा करने में सहयोग करेगा।

भारत और भूटान के बीच हाइड्रो पॉवर प्रोजेक्ट, नॉलेज नेटवर्क, मल्टी स्पेशलिएटी हॉस्पिटल, स्पेस सैटेलाइट, रूपे कार्ड के इस्तेमाल समेत 9 समझौते पर हस्ताक्षर हुए।

इससे पहले शनिवार सुबह पारो इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंचे पीएम मोदी का भव्य तरीके से स्वागत किया गया। खुद पीएम शेरिंग ने एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी की। उन्हें एयरपोर्ट पर ही गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।