Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

आसमान में पाकिस्तानी जहर: तेजी से बढ़ता जा रहा भारत की तरफ, बढ़ेगी मुसीबत

बीते कई दिनों से दिल्ली की हवा को दूषित करने के लिए केवल पंजाब ही कसूरवार नहीं है, बल्कि पाकिस्तान भी इसका जिम्मेदार है। पाकिस्तान के सीमावर्ती गांवों में जो पराली जलाई जाती है, उसका धुंआ पंजाब से होते हुए दिल्ली पहुंच रहा है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 28 Oct 2020 7:21 AM GMT

आसमान में पाकिस्तानी जहर: तेजी से बढ़ता जा रहा भारत की तरफ, बढ़ेगी मुसीबत
X
बीते कई दिनों से दिल्ली की हवा को दूषित करने के लिए केवल पंजाब ही कसूरवार नहीं है, बल्कि पाकिस्तान भी इसका जिम्मेदार है। पाकिस्तान के सीमावर्ती गांवों में जो पराली जलाई जाती है, उसका धुंआ पंजाब से होते हुए दिल्ली पहुंच रहा है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। बीते कई दिनों से दिल्ली की हवा को दूषित करने के लिए केवल पंजाब ही कसूरवार नहीं है, बल्कि पाकिस्तान भी इसका जिम्मेदार है। पाकिस्तान के सीमावर्ती गांवों में जो पराली जलाई जाती है, उसका धुंआ पंजाब से होते हुए दिल्ली पहुंच रहा है। ऐसे में पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड(PPCB) द्वारा ग्रामीण इलाकों में लगाई गई हाई वॉल्यूम सैंपलर (HVS) मशीन से सामने आए आंकड़ों में यह खुलासा हुआ है। साथ ही सूबे के सीमावर्ती इलाकों में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) के स्तर में 30 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है।

ये भी पढ़ें...पैसे कमाने का मौका: घर पर करें इस तरह खेती, होगी मोटी कमाई

ये भी पढ़ें...ताबड़तोड़ छापेमारी: आतंकी फंडिंग मामले में कई दफ्तरों की तलाशी, मचा हड़कंप

पंजाब सहित पाकिस्तान के सीमावर्ती गांवों में

दरअसल भारत-पाकिस्तान बॉर्डर 3323 किलोमीटर लंबा है। जिसमें से पंजाब से पाकिस्तान की सीमा 553 किलोमीटर जुड़ी हुई है। ऐसे में इन दिनों पंजाब सहित पाकिस्तान के सीमावर्ती गांवों में धान की कटाई का काम तेजी से चल रहा है। यहां पर भी किसान पराली के निस्तारण करने के लिए आग लगा रहे हैं।

parali फोटो-सोशल मीडिया

इस बारे में पंजाब रिमोट सेंसिंग सेंटर (पीआरएससी) द्वारा ली गई सैटेलाइट की तस्वीरों में भी इसका खुलासा हो चुका है। वहीं अब पीपीसीबी की हाई वाल्यूम सैंपलर मशीनों से भी पाकिस्तान से लगे सूबे के सीमावर्ती क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता सूचकांक का स्तर बढ़ रहा है।

ये भी पढ़ें...टेरर फंडिंग केस: NIA ने श्रीनगर, बांदीपोरा और बेंगलुरु के 10 ठिकानों पर की छापेमारी

ये भी पढ़ें...सुशांत की बहनों की गिरफ्तारी! एक्टर की मौत से जुड़ा नाम, रिया ने खोला बड़ा राज

पराली का धुआं उत्तर भारत के राज्यों में

सामने आए आंकड़ों के मुताबिक, इन इलाकों में एक्यूआई के स्तर में बीते सालों की तुलना में 30 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है। एक्यूआई का स्तर 150 से भी अधिक दर्ज किया गया है। पीपीसीबी इस गंभीर मुद्दे को लेकर रिपोर्ट तैयार कर रहा है।

इसके साथ ही पराली सिर्फ पंजाब ही नहीं, हरियाणा, उत्तर प्रदेश व दिल्ली से लगते हुए कई राज्यों में भी जलाई जा रही है। इस मौसम में पाकिस्तान से भी उत्तर पश्चिम की तरफ से चलने वाली हवाओं में पराली का धुआं उत्तर भारत के राज्यों में पहुंच रहा है।

तो ऐसे में केवल पंजाब को बदनाम करना ठीक नहीं है। क्योंकि पाकिस्तान के सीमावर्ती क्षेत्रों में जलने वाली पराली को लेकर केंद्रीय स्तर पर पहल की जानी चाहिए। जिससे दिल्ली में हवा को प्रदूषित होने से रोका जा सके।

ये भी पढ़ें...लखनऊ: बसपा के बागी प्रस्तावक- असलम चौधरी ,असलम राईनी, मुज्तबा सिद्दीकी, हाकम लाल बिंद, गोविंद जाटव

ये भी पढ़ें...NEET-2020 में पहला स्थान लाने वाली छात्रा आकांक्षा सिंह को सीएम योगी ने किया सम्मानित

Newstrack

Newstrack

Next Story