×

तबाह होगा चीन: भारत की मिसाइल हो गई तैयार, अलर्ट हो गए सारे दुश्मन देश

दुश्मनों को छक्के छुड़ाने के लिए भारत ने बड़ी सफलता हासिल करते हुए मंगलवार को यानी आज क्विक रिएक्शन सर्फेस टू एयर मिसाइल्स (Quick Reaction Surface-to-Air Missile (QRSAM) का एक बार फिर सफल परीक्षण किया गया है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 17 Nov 2020 1:48 PM GMT

तबाह होगा चीन: भारत की मिसाइल हो गई तैयार, अलर्ट हो गए सारे दुश्मन देश
X
भारत ने बड़ी सफलता हासिल करते हुए मंगलवार को यानी आज क्विक रिएक्शन सर्फेस टू एयर मिसाइल्स का एक बार फिर सफल परीक्षण किया गया है।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: भारत ने बड़ी सफलता हासिल करते हुए मंगलवार को यानी आज क्विक रिएक्शन सर्फेस टू एयर मिसाइल्स (Quick Reaction Surface-to-Air Missile (QRSAM) का एक बार फिर सफल परीक्षण किया गया है। मिसाइल के इस ट्रायल के दौरान मिसाइल सिस्टम ने बिल्कुल सटीक निशाना लगाया। ऐसे में देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस सफल परीक्षण के लिए DRDO को बधाई दी है।

ये भी पढ़ें... पति को बेडरूम में बंद करके पत्नी ने सातवीं मंजिल से छलांग लगाकर दे दी जान

मिसाइस की क्षमताओं का सफल परीक्षण

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट में लिखा है-एक के बाद QRSAM का सफल परीक्षण करने के लिए DRDO को शुभकामनाएं। 13 नवंबर को इस मिसाइल सिस्टम के परीक्षण के दौरान रडार और मिसाइस की क्षमताओं का सफल परीक्षण हुआ। आज के परीक्षण में युद्ध के दौरान मिसाइल सिस्टम के सटीक निशाने का प्रदर्शन हुआ।

ऐसे में इस मिसाइल को डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) ने तैयार किया है। आज से पहले 13 नबंवर को भी सफल परीक्षण किया गया था। इस मामले में जानकारी देते हुए बताया गया था कि कि मिसाइल ने अपने लक्ष्य को पूरी तरफ खत्म कर दिया था। बेहद खास बात तो ये है कि ये मिसाइल हवा में उड़ते हुए टार्गेट को आसमान में 30 किमी तक मार सकती है।

ये भी पढ़ें...पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, वाहन चेकिंग के दौरान चार अभियुक्त गिरफ्तार

Air-launched missile फोटो-सोशल मीडिया

मोबाइल वाहन पर यह मिसाइल

महत्वपूर्ण बात ये भी है कि जिस मोबाइल वाहन पर यह मिसाइल रखी गई थी, उसमें एक पर मिसाइल होती है और दूसरे पर एक रडार होता है। इसी कारण से इसे हमले के वक्त एक जगह से दूसरी जगह आसानी से ले जाया जा सकता है। वहीं QRSAM का पहला ट्रायल 4 जून 2017 को किया गया था।

पिछले डेढ़ महीनों में डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) ने कम से कम 12 मिसाइलों के टेस्ट किए हैं। ऐसा माना जा रहा है कि आने वाले समय में कुछ और टेस्ट भी किए जाने हैं।

ये भी पढ़ें...लटकाए 21 आतंकी: आत्मघाती हमलों से दहला था देश, अब लिया ऐसे बदला

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

Newstrack

Newstrack

Next Story