×

ईरानी रक्षामंत्री से राजनाथ सिंह ने की मुलाकात, इन मुद्दों पर हुई बात

भारत ने रूस से अपील की थी कि वह पाकिस्तान को आर्म सप्लाई नहीं करे। भारत की इस अपील को स्वीकार करते हुए रूस ने एक बार फिर से पाकिस्तान को हथियार नहीं सप्लाई करने की अपनी नीति को दोहराया है।

Newstrack
Published on: 6 Sep 2020 8:34 AM GMT
ईरानी रक्षामंत्री से राजनाथ सिंह ने की मुलाकात, इन मुद्दों पर हुई बात
X
इंडो-चाइना सीमा विवाद के बीच ईरान के दौरे पर पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को ईरानी रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल आमिर हातमी से मुलाकात की।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव बना हुआ है। दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं। सीमा पर युद्ध जैसे हालात बने हुए हैं। भारतीय सेना चीन की हरक्तों पर नजर बनाये हुए हैं।

अगर चीन किसी भी तरह की कोई गलती करता है तो उसे मुंहतोड़ जवाब सेना की तरफ से दिया जाएगा। उधर चीन पर दवाब बनाने के लिए भारत के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ईरान के दौरे पर आए हुए हैं।

यह भी पढ़ें…चुनाव से पहले नीतीश कुमार का दांव, किया ये बड़ा एलान, इन्हें मिलेगी नौकरी

ईरानी रक्षा मंत्री से राजनाथ ने की मुलाकात

इंडो-चाइना सीमा विवाद के बीच ईरान के दौरे पर पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को ईरानी रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल आमिर हातमी से मुलाकात की।

इस दौरान दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय रक्षा संबंधों पर बातचीत हुई। राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर मुलाकात को सफल बताया है। बता दें कि रूस में शंघाई सहयोग संगठन के रक्षा मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के बाद शनिवार को राजनाथ सिंह ईरान पहुंचे थे।

इससे पहले राजनाथ सिंह ने रूस का भी दौरा किया था और मास्को में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की मीटिंग में भी भाग लिया था।

याद दिला दें कि एससीओ में कुल आठ देश हैं, जिनमें रूस, भारत, पाकिस्तान, चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, तजाकिस्तान और उज्बेकिस्तान शामिल हैं।

Army एलएसी पर पहरा देते सैनिक की फोटो(साभार-सोशल मीडिया)

एससीओ की मीटिंग में राजनाथ ने लिया हिस्सा

राजनाथ सिंह ने शनिवार को मास्को में उज्बेकिस्तान, कजाकिस्तान और ताजिकिस्तान के अपने समकक्षों से भेंट किया था। इस दौरान उन्होंने मध्य एशिया के इन प्रमुख देशों के साथ द्विपक्षीय रक्षा संबंधों को और अधिक मजबूत करने के तरीकों पर भी बातचीत की थी।

रूसी रक्षा मंत्री से मुलाकात करने के बाद राजनाथ सिंह ने कहा था कि हमारी मीटिंग सकारात्मक रही, AK-203 फैक्ट्री को लेकर भी बातचीत आगे बढ़ी है। दोनों के बीच जो सबसे अहम बात हुई वह पाकिस्तान को आर्म सप्लाई को लेकर हुई।

भारत ने रूस से अपील की थी कि वह पाकिस्तान को आर्म सप्लाई नहीं करे। भारत की इस अपील को स्वीकार करते हुए रूस ने एक बार फिर से पाकिस्तान को हथियार नहीं सप्लाई करने की अपनी नीति को दोहराया है।

यह भी पढ़ें…शोविक-मिरांडा खोलेंगे रिया की पोल, आज कोर्ट में पेशी, हो सकती है गिफ्तारी

China चीन के ध्वज की फोटो(साभार-सोशल मीडिया)

यथास्थिति को बदलने की कोशिश ना करे चीन: राजनाथ

इससे पहले राजनाथ सिंह की पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ तनाव घटाने को लेकर चीनी समकक्ष जनरल वेई फेंग के साथ बातचीत हुई थी।

इस बातचीत में राजनाथ ने चीनी रक्षा मंत्री को साफ़ कह दिया कि चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा का सम्मान करे और यथास्थिति को बदलने की एकतरफा कोशिश ना करे।

रक्षामंत्री ने चीन को स्पीष्टी कर दिया है कि दोनों पक्षों को राजनयिक और मिलिट्री चैनल्सर के जरिए बातचीत जारी रखनी चाहिए।

यह भी पढ़ें…राज्य में मातम: बिछ गए लाशों के ढेर, भयानक हादसे से मचा कोहराम

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story