×

केंद्रीय मंत्री की निजी स्कूलों से अपील, फीस बढ़ाने के निर्णय पर करें पुनर्विचार

देशभर में कोरोना वायरस का कहर बढ़ता ही जा रहा है। जिसे लेकर देशव्यापी लॉक डाउन की भी घोषणा की गई है। इस बीच केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल..

Ashiki

AshikiBy Ashiki

Published on 17 April 2020 3:26 PM GMT

केंद्रीय मंत्री की निजी स्कूलों से अपील, फीस बढ़ाने के निर्णय पर करें पुनर्विचार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: देशभर में कोरोना वायरस का कहर बढ़ता ही जा रहा है। जिसे लेकर देशव्यापी लॉक डाउन की भी घोषणा की गई है। इस बीच केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शुक्रवार को देश के सभी निजी स्कूलों से अपील की है कि वे लॉकडाउन के दौरान सालाना स्कूल फीस वृद्धि और तीन महीने की फीस एक साथ लेने के निर्णय पर पुनर्विचार करें।

ये भी पढ़ें: कितना असरदार है कोरोना के खिलाफ बचपन में लगने वाला BCG का टीका? वैज्ञानिक ने बताया

उन्होंने ऐसे समय में ये बात कही है जब देश के विभिन्न हिस्सों में अभिभावकों द्वारा लॉकडाउन के दौरान कई स्कूलों द्वारा फीस में वृद्धि और तीन महीने की फीस एक साथ देने की मांग पर चिंता व्यक्त की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस वैश्विक आपदा के समय मेरा सभी स्कूलों से निवेदन है कि वे सालाना स्कूल फीस वृद्धि और तीन महीने की फीस एक साथ नहीं लेने पर विचार करें।

ये भी पढ़ें: भारत के इन 4 संस्थानों में हो रहा कोरोना वैक्सीन पर रिसर्च, जानिए इनके बारे में

अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जरिये केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देश भर से कई अभिभावकों द्वारा उनके संज्ञान में यह बात लाई गई है कि इस संकट के समय में भी कई स्कूल अपनी सालाना फीस में वृद्धि और तीन महीने की वर्तमान फीस एक साथ ले रहे हैं। मैं सभी राज्यों के शिक्षा विभागों से यह आशा करता हूं कि वे संतोषजनक तरीके से अभिभावकों और स्कूलों के हितों के संरक्षण की दिशा में बेहतर सामंजस्य स्थापित कर रहे होंगे।

ये भी पढ़ें: इरान में कोरोना वायरस ने ली 89 और लोगों की जान, मौत का आंकड़ा हुआ 4958

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस महामारी के समय मानवीय मूल्यों को प्राथमिकता देने का आग्रह किया है। ऐसे में आशा है कि सभी स्कूल अपने शिक्षकों और पूरे स्टाफ को समय पर वेतन उपलब्ध कराने की चिंता कर रहे होंगे। मुझे खुशी है कुछ राज्यों ने इस पर सकारात्मक कदम उठाए हैं। मैं उनकी इस पहल की सराहना करता हूं एवं आशा करता हूं कि सभी राज्य उपरोक्त अनुरोध पर सहानुभूति पूर्वक विचार करेंगे।

ये भी पढ़ें: कितना असरदार है कोरोना के खिलाफ बचपन में लगने वाला BCG का टीका? वैज्ञानिक ने बताया

Ashiki

Ashiki

Next Story