भारत के समर्थन में दुनिया: देश में आईं Apple की कई फैक्ट्रियां, चीन को तगड़ा झटका

लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव चरम पर है। चीन की साजिश और चालबाजी की वजह से दुनिया बड़े देश उसके खिलाफ है। इसी का नतीजा है कि चीन को छोड़कर दिग्गज कंपनियां जा रही हैं।

Published by Dharmendra kumar Published: September 7, 2020 | 8:54 pm
Xijiping-Narendra Modi

भारत के समर्थन में अमेरिका समेत 4 बड़े देश (फोटो: सोशल मीडिया)

नई दिल्ली: लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव चरम पर है। चीन की साजिश और चालबाजी की वजह से दुनिया बड़े देश उसके खिलाफ है। इसी का नतीजा है कि चीन को छोड़कर दिग्गज कंपनियां जा रही हैं।

चीन के खिलाफ दुनिया के बड़े देश अमेरिका, ब्रिटेन, जापान और ऑस्ट्रेलिया जैसे देश भारत के साथ खड़े हो गए हैं। अब इसका नतीजा है कि दक्षिण एशिया में भारत मैन्युफैक्चरिंग का हब बनने वाला है।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार को बताया कि एप्पल (Apple) की आठ कंपनियां चीन को छोड़कर भारत में आ गई हैं। प्रसाद ने कहा कि भारत उत्पादन का हब बन रहा है। केंद्रीय मंत्री ने बिहार के एनआरआई से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की।

यह भी पढ़ें…भूल जाएं लड़कियों से छेड़छाड़: सोशल मीडिया पर बदतमीजी पड़ेगी भारी, हुई ये तैयारी

भारत को 4 बड़े देशों का समर्थन

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अमेरिका, ब्रिटेन, जापान और ऑस्ट्रेलिया ने समर्थन दिया है। उन्होंने कहा कि भारत बड़े विनिर्माण केंद्र के रूप में उभरता जा रहा है और ग्लोबल मैन्युफैक्चरर इकोसिस्टम यह महसूस कर रहा है कि इसे चीन के अलावा अन्य स्थानों पर भी होना चाहिए। उन्होंने बताया कि मुझे जानकारी मिली है कि एप्पल अपनी लगभग 8 फैक्ट्रियों को चीन से भारत में स्थानांतरित कर दिया है।

Ravi Shanker Prasad

रविशंकर प्रसाद ने एनआरआई से कहा कि जब लद्दाख में चीन के साथ कोई समस्या आती है तो हमारे प्रधानमंत्री हमेशा दृढ़ता से खड़े रहे और हमेशा कहा कि भारत कभी भी अपनी संप्रभुता से कभी कोई भी समझौता नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि भारत के इस साहसिक रुख पर अमेरिका, ब्रिटेन, जापान और अमेरिका ने भी समर्थन किया है।

यह भी पढ़ें…विधायकों पर खतरा: हर सरकार में होती है हत्या, नहीं हैं सुरक्षित

भारत के खिलाफ चीन की साजिश

बता दें कि गलवान घाटी में हिंसक झड़प के बाद भारत और चीन में तनाव चल रहा था। इसके बाद पूर्वी लद्दाख पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे पर स्थित भारतीय इलाके में चीन ने बीते महीने फिर घुसपैठ की कोशिश की जिसे भारतीय सैनिकों ने नाकाम कर दिया है। इसके बाद एक बार फिर दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है।

यह भी पढ़ें…सोने ने मारी उछाल: Gold-Silver के आ गए नए दाम, तुरंत चेक करें

पैंगोंग झील के दक्षिण में रणनीतिक रूप से कई अहम ऊंचाई वाले इलाके हैं। भारत ने इन क्षत्रों में सतर्कता बढ़ा दी है। चीन की घुसपैठ की कोशिश को देखते भारत ने अतिरिक्त जवानों को तैनात किया है। इसके साथ ही संवेदनशील इलाकों में हथियारों की भी तैनाती की है। भारत ने चीन की किसी साजिश का जवाब देने के लिए टैंक और टैंक रोधी मिसाइलों की तैनाती की है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App