नेट बैंकिंग का बदला नियम, ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करने वालों को मिलेगा ज्यादा समय

पिछले दिनों रिजर्व बैंक ने एनईएफटी और आरटीजीएस से पेमेंट ट्रांसफर करने पर चार्ज खत्म करने का फैसला किया था । इसके बाद दिसंबर से एनईएफटी को 24 घंटे शुरू करने के बारे में कहा गया है। अब आरबीआई ने रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) के समय में बदलाव कर दिया है। इससे ग्राहकों को पहले से ज्यादा समय मिलेगा।

नई दिल्ली: ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करने वालों को अब ज्यादा समय मिलेगा इसी के साथ इसमें आज कुछ बड़े बदलाव किये गए हैं। अगर आप भी बच्चों की फीस का भुगतान करने या फिर अन्य पेमेंट करने के लिए नेट बैंकिंग करते हैं तो यह खबर आपके लिए है। नेट बैंकिंग के नियमों को आसान बनाने के लिए आरबीआई की तरफ से लगातार बदलाव किए जा रहे हैं।

ये भी देखें : चिदंबरम की कोर्ट में होगी पेशी, SC में जमानत अर्जी पर क्या आयेगा फैसला

पिछले दिनों रिजर्व बैंक ने एनईएफटी और आरटीजीएस से पेमेंट ट्रांसफर करने पर चार्ज खत्म करने का फैसला किया था । इसके बाद दिसंबर से एनईएफटी को 24 घंटे शुरू करने के बारे में कहा गया है। अब आरबीआई ने रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) के समय में बदलाव कर दिया है। इससे ग्राहकों को पहले से ज्यादा समय मिलेगा।

RTGS का समय बढ़ाया गया

आरबीआई ने RTGS सिस्टम का समय बढ़ा दिया है। अब सुबह 8 बजे के बजाय 7 बजे से RTGS शुरू होगा। नई सर्विस 26 अगस्त 2019 से लागू होगी। आपको बता दें कि RTGS ट्रांजेक्शन (इंटरनेट बैंकिंग से पैसों का लेन-देन) रियल टाइम बेसिस पर होती है। आरटीजीएस का इस्तेमाल बड़े अमाउंट के ट्रांजेक्शन के लिए होता है। ट्रांजेक्शन करते ही दूसरे अकाउंट में पैसा ट्रांसफर हो जाता है। दूसरे-चौथे शनिवार को बैंक की छुट्टी के साथ-साथ यह सर्विस बंद रहती है। वहीं, रविवार और बैंक की जब-जब छुट्टी होती है ये सर्विस बंद रहती है।

ये भी देखें : 26 अगस्त: इन राशियों को रखना होगा जुबान पर कंट्रोल, जानिए पंचांग व राशिफल

इतना अमाउंट कर सकते हैं ट्रांसफर

आरटीजीएस (RTGS) से कम से कम 2 लाख रुपए या उससे ज्यादा की रकम ट्रांसफर की जाती है। इसकी कोई अधिकतम लिमिट नहीं है। हालांकि, इसके लिए खास समय निश्चित है। रिजर्व बैंक (RBI) ने आरटीजीएस ट्रांसफर की टाइमिंग में डेढ़ घंटा बढ़ाया है।