जानिये, किस राज्य के ‘गवर्नर पीते हैं सिर्फ दारु और खेलते हैं गोल्फ’

Published by Ashiki Patel Published: March 16, 2020 | 10:54 am
Modified: March 16, 2020 | 10:56 am

नई दिल्ली: गोवा के वर्तमान और जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने अपने एक बयान में कहा कि कश्मीर के राज्यपाल के पास कोई काम नहीं होता है। आगे उन्होंने कहा कि कश्मीर का राज्यपाल केवल दारू पीता है और गोल्फ खेलता है।

दारू पीते हैं और गोल्फ खेलते हैं कश्मीर के गवर्नर-

सत्यपाल मलिक उत्तर प्रदेश में अपने गृहनगर बागपत के दौरे पर थे। गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने यहां पर एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, ”राज्यपाल आराम से रहते हैं और वे किसी झगड़े में नहीं पड़ते हैं। कश्मीर में राज्यपाल का कोई काम नहीं होता है। कश्मीर का राज्यपाल अक्सर दारू पीता है और गोल्फ खेलता है। बाकी जगह जो राज्यपाल होते हैं वो आराम से रहते हैं और किसी भी झगड़े में नहीं पड़ते हैं।”

ये भी पढ़ें: क्यों पोस्टर न हटाने पर अड़ी योगी सरकार, आज हाईकोर्ट को देगी जवाब

आर्टिकल-370 को खत्म करने के समय रहे जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल-

स्पष्ट है कि पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले आर्टिकल-370 को जब खत्म किया गया था, उस वक्त सत्यपाल मलिक वहां के राज्यपाल थे। जम्मू-कश्मीर में इस बदलाव के बाद किसी भी तरह की कोई घटना न हो इसके लिए राज्य की प्रशासनिक मशीनरी और सुरक्षा की जिम्मेदारी उनके हाथ में थी। सत्यपाल मलिक के कार्यकाल में जम्मू कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर और लद्दाख में बांटा गया।

 

ये भी पढ़ें: सार्क के बाद अब इन देशों से PM करेंगे चर्चा, कोरोना से निपटने की बनायेंगे रणनीति

बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर भी उठाये सवाल-

बागपत में अपने संबोधन के दौरान गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बिहार की शिक्षा व्यवस्था के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा कि जब वह बिहार के राज्यपाल थे तब राज्य में 100 कॉलेज ऐसे थे, जो नेताओं के थे। इन कॉलेजों में एक भी अध्यापक नहीं था। वहां हर साल बीएड में एडमिशन करवाया जाता था और काफी पैसे लेकर परीक्षाएं कराई जाती थीं और डिग्रियां दी जाती थीं। मैंने सारे कॉलेज खत्म किए और एक केंद्रीयकृत परीक्षा प्रणाली विकसित की।

ये भी पढ़ें: वक्फ की प्रॉपर्टी पर मोदी सरकार का एक्शन, लिया ये बड़ा फैसला