Top

शाहीन बाग होगा बंद: ये तमाम सड़कें भी सील, प्रशासन के पास पंहुचा दमदार पत्र

अनलॉक-1 के शुरू होते ही सीएए (नागरिकता संशोधन कानून) और एनआरसी (राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर) के विरोध में फिर से धरना-प्रदर्शन शुरू होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं।

Vidushi Mishra

Vidushi MishraBy Vidushi Mishra

Published on 7 Jun 2020 11:52 AM GMT

शाहीन बाग होगा बंद: ये तमाम सड़कें भी सील, प्रशासन के पास पंहुचा दमदार पत्र
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। अनलॉक-1 के शुरू होते ही सीएए (नागरिकता संशोधन कानून) और एनआरसी (राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर) के विरोध में फिर से धरना-प्रदर्शन शुरू होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं। दिल्ली के शाहीन बाग में तो दोबारा फिर से धरना-प्रदर्शन किए जाने की कोशिश की भी जा चुकी है। ऐसे में सामने आई रिपोर्ट्स को लेकर दिल्‍ली पुलिस कमिश्नर को इस संबंध में एक पत्र लिखा गया है। इस पत्र में मांग की गई है कि शाहीन बाग प्रोटेस्ट के "दूसरे चरण" को रोकने के लिए पहले से ही महत्वपूर्ण कदम उठाए जाएं।

ये भी पढ़ें... दुनियाभर में कोरोना से मरने वालों की संख्या 4 लाख के पार, 69 लाख से ज्यादा बीमार

देश की छवि को दुनिया भर में खराब

दिल्ली पुलिस कमिश्नर को लिखे गये इस पत्र में मांग वकील एवं सामाजिक कार्यकर्ता अमित साहनी की तरफ से की गई है। इस पर उनका कहना है कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के बीच सार्वजनिक मार्ग अवरुद्ध करने वाले किसी भी विरोध को रोकने को लेकर दिल्‍ली पुलिस पहले से ही कार्रवाई करे।

अमित साहनी जोकि पेशे से वकील एवं सामाजिक कार्यकर्ता हैं। उन्होंने दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर को लिखे गए पत्र में कहा है कि रिपोर्ट के अनुसार, विरोध-प्रदर्शनों को सक्रिय कर सड़क को दोबारा अवरुद्ध करने के लिए शाहीन बाग और जामिया मिलिया इस्लामिया क्षेत्र में कई बंद दरवाजों के पीछे बैठकें हुई हैं, इसलिए विरोध शुरू होने, सार्वजनिक सड़क को रोके जाने से पहले ही ऐहतियातन उपाय किए जाएं।

इसी कड़ी में उन्‍होंने पत्र में लिखा कि इस बीच समाज को धर्म के नाम पर बांटने का काम कर रही बुरी शक्तियां सफल हुईं और फलस्वरूप हमने दिल्ली हिंसा का सामना किया।

ये भी पढ़ें... चीन का लुका-छिपी खेल: वैक्सीन बनाने के बाद अब खुद कर रहा मना, क्या है हकीकत

आगे लिखते हुए- इसके नतीजतन 53 लोगों ने अपनी जिंदगी को खो दिया (जैसा कि 06-03-2020 तक मीडिया में बताया गया है)। हिंसा ने न केवल कीमती मानव जीवन को छीन लिया, बल्कि हमारे देश की छवि को दुनिया भर में खराब किया।

रास्‍ता खाली कराए जाने की कानूनी लड़ाई

वकील साहनी ने पत्र में आगे लिखा, कोरोना महामारी के कारण दिल्ली और केंद्र सरकार ने सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए एडवाइजरी जारी की, लेकिन विरोध-प्रदर्शन को खत्‍म नहीं किया जा सका। हालांकि बाद में विरोध स्थल को 24 मार्च 2020 को खाली करा दिया गया।

ये भी पढ़ें... टल सकती है 8 जून से शुरू होने वाली वैष्णो देवी यात्रा

इसके साथ ही एक दिन पहले दिल्ली पुलिस कमिश्नर को पत्र लिखने वाले अमित साहनी ने ही शाहीन बाग में शुरु हुए धरना-प्रदर्शन के चलते दिल्ली, हरियाणा और यूपी को जोड़ने वाले कालिंदी कुंज मार्ग पर सड़क बंद किए जाने के खिलाफ दिल्‍ली हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक जनहित याचिकाएं दायर कर प्रदर्शनकारियों को वहां से हटाकर रास्‍ता खाली कराए जाने की कानूनी लड़ाई लड़ी थी।

ऐहतियातन कदम उठाएं

साहनी की तरफ से शनिवार शाम को दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर एसएस श्रीवास्‍तव के अलावा, केंद्रीय गृह सचिव, दिल्‍ली के मुख्‍य सचिव, डीसीपी (साउथ-ईस्‍ट) तथा डीसीपी ट्रैफिक (साउथ-ईस्‍ट) को भी को इस संबंध में पत्र लिखा गया है।

ये भी पढ़ें... शोपियां मुठभेड़ में अब तक तीन आतंकी ढेर, जारी है सर्च ऑपरेशन

साथ ही पत्र में यह भी कहा गया है कि अगर दोबारा धरना-प्रदर्शन शुरु होता है तो उससे निपटने में ज्‍यादा समस्‍याएं आ सकती हैं, लिहाजा पहले ही ऐहतियातन कदम उठा लिए जाएं।

ऐसे में दिल्ली पुलिस का कहना है कि नॉर्थ दिल्ली के कुछ इलाकों में सीएए-एनआरसी के खिलाफ फिर से धरना-प्रदर्शन शुरू हो सकते हैं। इस तरह का अलर्ट मिला है।

ये भी पढ़ें... Live: वर्चुअल रैली का चुनाव से लेना-देना नहीं, ये आत्मनिर्भर भारत की तैयारी है: अमित शाह

संवेनशील इलाको में भी फोर्स तैनात

आगे कहते हुए- इसी को देखते हुए साउथ ईस्ट ज़़िले के शाहीन बाग और आसपास के कुछ संवेनशील इलाको में भी फोर्स तैनात की गई है। यहां चार जून की दोपहर कुछ महिलाएं सीएए-एनआरसी के विरोध में धरना शुरू करने पहुंची थीं। दिल्ली के और दूसरे इलाकों में भी प्रदर्शनकारी जमा हो सकते हैं यह सूचना भी पुलिस को मिली है।

कोरोना महामारी के बीच दिल्ली की कानून व्यवस्था न बिगड़े इसके लिए दिल्ली समेत पैरामिलिट्री फोर्स की कुछ कंपनियों को अलर्ट पर रखते हुए दिल्ली के कुछ पुलिस स्टेशनों में तैनात किए गए हैं।

ये भी पढ़ें... राम मंदिर पर बड़ा ऐलान: इस दिन शुरू हो रहा निर्माण, तैयारियां हुई तेज

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Desk Editor

Next Story