Top

अभी-अभी शाहीन बाग में प्रदर्शन बंद करवाने पिस्तौल लेकर पहुंचा शख्स, भागने लगे लोग

दिल्ली के शाहीन बाग में जारी प्रदर्शन का एक वीडियो सामने आया है जिसमें एक शख्स पिस्टल लेकर वहां पहुंचा। उसे  देखकर लोग इधर-उधर भागने लगे। उन्हें ये समझ में नहीं आ रही था कि आखिर हो रहा क्या हो रहा है?

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 28 Jan 2020 2:10 PM GMT

अभी-अभी शाहीन बाग में प्रदर्शन बंद करवाने पिस्तौल लेकर पहुंचा शख्स, भागने लगे लोग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: दिल्ली के शाहीन बाग में जारी प्रदर्शन का एक वीडियो सामने आया है जिसमें एक शख्स पिस्टल लेकर वहां पहुंचा। उसे देखकर लोग इधर-उधर भागने लगे।

उन्हें ये समझ में नहीं आ रही था कि आखिर हो रहा क्या हो रहा है? इसी दौरान कुछ लोगों ने हिम्मत दिखाई और आगे बढ़कर उस युवक के पास पहुंच गये।

प्रदर्शनकारियों ने उसे पकड़ लिया और उसकी पिस्टल छीन ली। लोगों की उससे मारपीट भी हुई। बताया जा रहा है कि युवक प्रदर्शन को बंद कराने के लिए आया था। लेकिन वह अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो पाया।

पुलिस सूत्रों का कहना है कि इस संबंध में उसको कोई जानकारी नहीं दी गई और न ही जिस शख्स से मारपीट हुई उसने संपर्क किया है। बताया जा रहा है कि पिस्टल लाइसेंसी हो सकती है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों ने शाहीन बाग में चेकिंग के दौरान पिस्टल लेकर घुसने की कोशिश कर रहे शख्स को पकड़ा और उसे वहां से भगा दिया।

शाहीन बाग में करीब 40 दिनों से प्रदर्शन

शाहीन बाग में करीब 40 दिन से सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चल रहा है। यहां सड़कों पर प्रदर्शनकारी डटे हैं और सीएए वापस लेने की मांग कर रहे हैं। इसमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं।

इस प्रदर्शन में विपक्षी पार्टी के भी कई नेता शामिल हो चुके हैं। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि जब तक सीएए वापस नहीं लिया जाता तब तक प्रदर्शन खत्म नहीं होगा।

ये भी पढ़ें...दिल्ली: LG से मिलने के बाद शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने कहा- स्कूल बसों को देंगे रास्ता

दो घंटे में शाहीन बाग़ खाली कराने का प्लान तैयार

शाहीन बाग, जिस मुद्दे ने दिल्ली की राजनीति में तहलका मचा रखा है, वहां चल रहा विरोध प्रदर्शन दो घंटे में खत्म हो सकता है। दिल्ली पुलिस ने इसके लिए पूरी तैयारी कर रखी है। आदेश मिलते ही दो घंटे में शाहीन बाग को खाली करा दिया जाएगा।

कौन अफसर दिल्ली पुलिस के विशेष ऑपरेशन को लीड करेगा, कुल कितने जवान होंगे और दिल्ली पुलिस की मदद के लिए केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की कितनी बटालियन रहेंगी, ये सब तय हो चुका है।

ऑपरेशन में महिला पुलिसकर्मियों की संख्या कितनी होगी, इसका हिसाब किताब लगा लिया गया है। वाटर कैनन, आंसू गैस और फायर सर्विस, ये सब पुलिस की तैयारी का हिस्सा हैं। दिल्ली पुलिस को इंतजार है तो केवल आदेश मिलने का।

शाहीन बाग़ मामले पर नियमित भेजी जा रही रिपोर्ट

दिल्ली पुलिस के एक उच्च पदस्थ सूत्र के अनुसार, शाहीन बाग जैसे लंबे चलने वाले प्रदर्शन के दौरान ऑपरेशनल रणनीति बदलती रहती है। यह सब कुछ निर्भर करता है कि प्रदर्शन में लोगों की संख्या कितनी है।

प्रदर्शन को लेकर खुफिया रिपोर्ट क्या कहती है। यह रिपोर्ट भी किसी एक एजेंसी से नहीं, बल्कि दो-तीन एजेंसियों से जानकारी लेकर किसी आखिरी नतीजे पर पहुंचा जाता है। जैसे दिल्ली है तो यहां पर पुलिस की अपनी खुद की इंटेलीजेंस विंग है।

इसके अलावा टॉप अफसर खुद भी ग्राउंड पर काम करने वाले कर्मियों एवं दूसरे सूत्रों से सूचनाएं लेते हैं। आईबी रिपोर्ट क्या कहती है, सबसे ज्यादा फोकस इसी पर रहता है। सूत्र के मुताबिक, शाहीन बाग में जो प्रदर्शन चल रहा है, उसकी खुफिया रिपोर्ट नियमित तौर पर एकत्रित की जा रही है।

ये भी पढ़ें...नौकरी पर ऐसा ऑफर: एक हजार रुपये और भरपेट बिरयानी शाहीन बाग़ में

संदिग्धों पर पहले से रखी जा रही नजर

ऑपरेशन शुरू करने से पहले यह देखा जाता है कि प्रदर्शन वाली जगह पर संदिग्ध लोग कितने हो सकते हैं। क्या उनके पास घातक हथियार हैं, पेट्रोल एवं दूसरे हानिकारक केमिकल या विस्फोटक सामग्री तो नहीं है।

आसपास के इलाके में ऐसे कितने लोग हैं, जो पुलिस कार्रवाई का विरोध कर सकते हैं। पथराव और घातक हथियार, इस बाबत पहले ही पुख्ता जानकारी जुटा ली जाती है।

शाहीन बाग में इन सब बातों की पुख्ता रिपोर्ट तैयार कर ली गई है। अर्धसैनिक बलों को पहले ही सूचित कर दिया गया है। किस फोर्स के कितने जवान रिजर्व में रहेंगे और कितने ऑपरेशन का हिस्सा होंगे, यह सब तय कर लिया गया है।

40 बसों की व्यवस्था

अगर शाहीन बाग में बीस हजार लोग मौजूद हैं, तो आदेश मिलने के बाद उन्हें दो घंटे में वहां से हटाया जा सकता है। कुछ प्रदर्शनकारियों, जिनमें महिलाएं एवं बच्चे शामिल हैं, उन्हें सुरक्षित तरीके से बाहर निकालने के लिए करीब 40 बसों की व्यवस्था कर ली गई है।

वाटर कैनन और आंसू गैस का कितना इस्तेमाल होगा, यह सब तैयार है। पुलिस का प्रयास रहेगा कि प्रदर्शनकारियों को बिना किसी शारीरिक नुकसान के शाहीन बाग को खाली करा दिया जाए।

ये भी पढ़ें...राहुल-केजरीवाल जुड़वा भाई, कब के बिछड़े शाहीन बाग में आके मिले-भाजपा

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story