इंडियन आर्मी पर ये क्या बोल गईं महिला नेत्री, कहा- कश्मीर में हालात बिगाड़ रही सेना

जहां कश्मीर में आर्टिकल 370 हटने के बाद वहां हालात सामान्य होने की खबरे आ रही हैं तो वही कुछ लोग स्थिति को बिगाड़ने के लिए कई तरह के झूठे अफवाहें फैला रहे हैं।

इंडियन आर्मी पर ये क्या बोल गईं महिला नेत्री, कहा- कश्मीर में हालात बिगाड़ रही सेना

इंडियन आर्मी पर ये क्या बोल गईं महिला नेत्री, कहा- कश्मीर में हालात बिगाड़ रही सेना

नई दिल्ली: जहां कश्मीर में आर्टिकल 370 हटने के बाद वहां हालात सामान्य होने की खबरे आ रही हैं तो वही कुछ लोग स्थिति को बिगाड़ने के लिए कई तरह के झूठे अफवाहें फैला रहे हैं। इसी बीच जम्मू-कश्मीर की पीपल मूवमेंट की नेता शेहला रशीद ने अपने ट्वीटर पर भारतीय सेना और इंडियन गवर्नमेंट को लेकर कुछ ट्वीट किए हैं। जिन्हें इंडियन आर्मी ने अफवाह बताया है। शेहला रशीद के इन ट्वीट्स के बाद उनकी गिरफ्तारी की मांग की गई है।

यह भी पढ़ें: कश्मीर में करीब 2 हफ्तों बाद हालात सामान्य, स्कूल हुए शुरु

इंडियन गवर्नमेंट और इंडियन आर्मी के खिलाफ अफवाहें फैला रही शेहला- आलोक श्रीवास्तव

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के वकील आलोक श्रीवास्तव ने शेहला के खिलाफ गिरफ्तारी की मांग की है। उन्होंने कहा कि शेहला रशीद इंडियन गवर्नमेंट और इंडियन आर्मी के खिलाफ अफवाहें फैला रही हैं। उन्हें तुरंत गिरफ्तार करना चाहिए। वकील आलोक श्रीवास्तव ने शेहला रशीद के खिलाफ अपराधिक मामला भी दर्ज कराया है।

शेहला रशीद ने रविवार 18 अगस्त को जम्मू-कश्मीर के हालात पर कई ट्वीट किए हैं। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है कि, आर्मी रात में लोगों के घर में घुस रही है, लड़कों को उठा रही है, और जानबूझ के जमीन पर राशन फैला रहे हैं। अपने आगे ट्वीट में शेहला ने लिखा कि, इंडियन आर्मी की वजह से पूरे इलाके में दहशत का माहौल है।

यह भी पढ़ें: कश्मीर में फिर बंद इंटरनेट सेवा, आर्टिकल 370 पर अफवाहों का बाजार गर्म

वहीं भारतीय सेना ने शेहला के इन आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि, शेहला द्वारा लगाये गए आरोप निराधार है और झूठे हैं। इस तरह के विरोधी खबरें केवल लोंगो को उत्तेजित करने के फैलाया जा रहा है।

आर्टिकल 370 के वक्त घाटी में टीवी, मोबाइल, इंटरनेट और स्कूल-कॉलेजों को बंद रखा गया था। करीब दो हफ्ते बाद घाटी में आज स्कूल खुल चुके हैं और घाटी में धीरे-धीरे लैंडलाइन को शुरु किया जा रहा है। इसको लेकर सोमवार को सुबह कश्मीर के गृह विभाग से बयान जारी हुआ है कि न तो अफवाहों पर ध्यान दें और न ही किसी तरह की गलत अफवाहें फैलाएं। इससे पहले झूठी अफवाहें फैलाने वाले अकाउंटस को बंद करवा दिया गया था।