सात समंदर पार से आई प्रेमिका, जानिए मारिया और मलकीयत सिंह की कहानी

लेकिन इससे पहले कि मारिया को हताशा और निराशा होती  उसने मलकीयत सिंह के इस नशे  को छुड़ाने की ठान ली। पति का नशा छोड़ने के लिए मारिया अपने ही अंदाज में प्रेरित कर रही हैं। यहां तक कि मरिया नशामुक्ति केंद्र में भी अपने पति के साथ ही रह रही।

लखनऊ : सोशल साईट के जरिये हई दोस्ती कब प्यार में बदल गयी, डेनमार्क की मारिया और गुरदासपुर के मलकीयत सिंह को पता ही नहीं चला इनके प्रेम की कहानी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। आपको जानकर हैरानी होगी कि मारिया अपना प्यार पाने के लिए सात समंदर पार करके भारत चली आई । और यहां आकर मरिया ने प्रेमी मलकीयत सिंह से शादी भी कर ली। लेकिन मरिया को थोडा दुःख तब हुआ जब पता चला कि मलकीयत नशे का आदी है ।

लेकिन इससे पहले कि मारिया को हताशा और निराशा होती उसने मलकीयत सिंह के इस नशे  को छुड़ाने की ठान ली। पति का नशा छोड़ने के लिए मारिया अपने ही अंदाज में प्रेरित कर रही हैं। यहां तक कि मरिया नशामुक्ति केंद्र में भी अपने पति के साथ ही रह रही।

ये भी देखें : हैवान पुलिस की शर्मनाक करतूत: पति के एनकाउंटर का डर दिखा 3 महीने किया रेप

गुरदासपुर जिले के गांव संदल के निवासी मलकीयत सिंह ने बताया कि वह बहुत शराब पीता था लेकिन शराब छोड़ना भी चाहता था और इसलिए वह डॉक्टर से भी मिला तो डाक्टर ने  एलप्रेक्स की गोलियां खाने के लिए दे दी लेकिन उसको इन गोलियों की भी लत लग गयी और वह पूरा पत्ता गोलियों का खाने लग गया। इतना ही नहीं, फ्लूड का नशा भी करना शुरू कर दिया। जमीन काफी होने के कारण पैसे की कमी नहीं थी, जिसके चलते वह नशे की दलदल में धंसता चला गया।

मरिया और मलकीयत सिंह की दोस्ती इटेलियन चैट प्लेटफॉर्म पर हुई और 22 दिन बाद ही मुलाकात

गुरदासपुर के संदल गांव के निवासी मलकीयत सिंह की दोस्ती 1 जनवरी 2019 को इटेलियन चैट के प्लेटफार्म पर डेनमार्क निवासी मारिया के साथ हुई और दिलचस्प बात यह है कि 22 दिन के बाद ही 23 जनवरी को मारिया मलकीयत से मिलने के लिए भारत आ गईं। यहां आकर वैलेंटाइन डे के अगले ही दिन मारिया और मलकीयत ने शादी भी कर ली।

बकौल, मलकीयत शादी के बाद जब घर से ज्यादा पैसे मिलने लगे तो हेरोइन का नशा करना शुरू कर दिया। हालांकि, मलकीयत ने  पत्नी को भारत आने से पहले ही बता चुका था कि मैं नशा करने का आदी हूं। इसके बाद पत्नी मारिया ने नशा न करने के लिए प्रेरित करना शुरू कर दिया।

ये भी देखें : जानिए क्या हुआ, जब सातवें फेरे के समय बच्ची गोद में लेकर पहुंच गई गर्लफ्रेंड?

पत्नी के साथ सर्बिया गया, वहां भी इलाज कराया

मलकीयत ने बताया कि उसकी पत्नी का वीजा खत्म होने पर 12 मार्च को वह उसके साथ सर्बिया चला गया। वहां नशे की वजह से उसकी हालत खराब हो गई तो पत्नी मारिया उसका सहारा बनकर डॉक्टर के पास लेकर गईं। कुछ समय तक इलाज कराने के बाद जब कोई फर्क नहीं पड़ा तो दोनों 7 मई को भारत लौट आए। इस बीच वह लगातार नशा करता रहा।

पत्नी मरिया के कहने पर नशा छोड़ने का किया फैसला, हर पल साथ रहने का किया वादा

मलकीयत कहते हैं कि अब वह पत्नी के कहने पर नशा छोड़ने की ठान चुके हैं। मारिया भी उसका हर पल साथ देने का वादा कर चुकी हैं। इस समय मारिया नशा छुड़वाने के लिए हर प्रयास कर रही हैं।

इस बारे में सेंटर के प्रोजेक्ट डायरेक्टर रोमेश महाजन ने बताया कि मारिया न सिर्फ पति का नशा छुड़वाने के लिए उसका पूरा साथ दे रही हैं, बल्कि सेंटर में दाखिल दूसरे मरीजों को भी इसके लिए प्रेरित कर रही हैं।

इन दोनों का प्यार अपने आप में एक बहुत बड़ी मिसाल है। और प्रेरणादायक भी है ।