×

शाहीन बाग का रास्ता होगा साफ! सुप्रीम कोर्ट आज करेगा सुनवाई

दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन को हटाने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट आज यानि सोमवार को सुनवाई करेगा।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 10 Feb 2020 3:15 AM GMT

शाहीन बाग का रास्ता होगा साफ! सुप्रीम कोर्ट आज करेगा सुनवाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन को हटाने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट आज यानि सोमवार को सुनवाई करेगा। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली विधानसभा चुनाव होने के चलते इस मामले की सुनवाई टाल दी थी और 10 फरवरी आज का दिन तय किया था। पहले इस मामले की सुनवाई शुक्रवार को होनी थी। बता दें कि पिछले करीब 2 महीने से चल रहे धरना-प्रदर्शन के चलते कालिंदी कुंज-शाहिन बाग का रास्ता बंद है।

यह भी पढ़ें: तरस रहे कान, सुनी गोद से है परेशान तो अब करें ये ज्योतिषीय उपाय, मिलेगा समाधान

स्थानीय लोगों को हो रही दिक्कतें

जिस वजह से स्थानीय लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। सुप्रीम कोर्ट में जो याचिका दाखिल की गई है, उसमें दिल्ली को नोएडा से जोड़ने वाली सड़क से होने वाली दिक्कत की बात कही गई है और रास्ते को खोले जाने की अपील की गई है। इस याचिका पर ही SC आज सुनवाई करेगा।

यह भी पढ़ें: आज से प्यार, उल्लास के साथ जीवन की शुरूआत का मास, जानिए इसकी खास बात

बता दें कि दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में पिछले करीब 2 महीने से लोग नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शन कर रहे लोगों की मांग है कि जब तक केंद्र सरकार CAA वापस नहीं ले लेती, तब तक वो वहां से नहीं उठेंगे।

15 दिसंबर से जारी है विरोध प्रदर्शन

15 दिसंबर से ही सैकड़ों की संख्या में महिलाएं और बच्चे CAA और NRC के खिलाफ धरने पर बैठे हुए हैं। तब से ही कालिंदी कुंज-शाहिन बाग का रास्ता बंद है। जिससे लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। एक ओर जहां प्रदर्शनकारी सीएए को वापस लेने की मांग कर रहे तो वहीं दूसरी ओर केंद्र सरकार ने भी सीएए को वापस लेने से साफ इंकार कर दिया है। अब देखना ये होगा कि सुप्रीम कोर्ट इस पर क्या निर्णय लेता है।

यह भी पढ़ें: BJP राज में कॉरपोरेट घरानों के लिए किसान हित की बलि: अखिलेश

Shreya

Shreya

Next Story