कोरोना वायरस: जांच बिना दर-दर भटकने पर मजबूर हुआ मरीज, ऑफिस ने भी निकाला

Published by Ashiki Patel Published: March 16, 2020 | 1:49 pm
Modified: March 16, 2020 | 1:51 pm

नई दिल्ली: देश भर में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच दिल्ली के अस्पताल से एक शर्मनाक खबर आ रही। दिल्ली के अस्पताल में ऐसे लोगों की जांच नहीं कर रहे हैं जिनका विदेश जाने का कोई रिकॉर्ड नहीं है। भले ही उनमें कोरोना से जुड़े लक्षण क्यों न दिख रहे हों।

कोरोना जैसे लक्षण दिखने पर गया था चेक कराने-

दरअसल राम मनोहर लोहिया अस्पताल से बिना जांच के लौटे एक शख्स ने बताया कि मुझे पिछले कई दिनों से खांसी, जुकाम और बुखार है इसलिए मैं टेस्ट करवाने के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल गया था लेकिन उन्होंने मुझे बिना जांच के वापस लौटा दिया और कहा कि वे केवल उन्हीं लोगों की जांच कर रहे हैं जो विदेश गए हैं या फिर विदेश की यात्रा करने वाले लोगों से जुड़े हों।

ये भी पढ़ें: निर्भया केस: फांसी से तीन दिन पहले ही क्यों जल्लाद को रहना होगा जेल में मौजूद..?

कंपनी ने भी 14 दिनों तक के लिए अलग रहने को कहा है-

आगे व्यक्ति ने बताया कि राम मनोहर लोहिया अस्पताल से वापस आने के बाद, मैं दूसरे सरकारी अस्पताल गया लेकिन वहां से उसे फिर से राम मनोहर लोहिया जाने के लिए कहा गया। अगले दिन जब मैं फिर से आरएमएल गया तो मुझे फिर से वही पुराना जवाब ही मिला। व्यक्ति ने कहा, ‘मुझे अब भी कफ और सर्दी है। कंपनी ने एहतियात के तौर पर मुझे 14 दिनों के लिए अलग रहने को कहा है। मैं परेशान हो चुका हूं, अब मैं कहा जांऊ।’

ये भी पढ़ें:जानिये, किस राज्य के ‘गवर्नर पीते हैं सिर्फ दारु और खेलते हैं गोल्फ’

सरकार द्वारा भी लगातार दी जा रही है हिदायत-

बता दें कि देश में लगातार कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। एहतियान देश के राज्यों में भी अलर्ट जारी कर दिया गया है। स्कूल, कॉलेज और मॉल आदि को बंद कर दिया गया है। साथ ही सरकार द्वारा लगातार सार्वजनिक जगहों पर जाने से बचने के लिए हिदायत दी जा रही है।

ये भी पढ़ें: निर्भया के दोषियों ने बनाया नया प्लान, क्या फांसी से बचने का ये पैतरा आएगा काम ?