Teachers Day Special: इन 4 गुरुओं ने बदल दिया देश का इतिहास

आज भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन है। उनके जन्मदिन के मौके पर ही पूरा देश टीचर्स डे मनाता है। ऐसे में आज हम आपको देश के कुछ ऐसे शिक्षकों के बारे में बताएंगे, जिन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में अमूल्य योगदान दिया है।

Teachers Day Special: इन 5 गुरुओं ने बदल दिया देश का इतिहास

Teachers Day Special: इन 5 गुरुओं ने बदल दिया देश का इतिहास

नई दिल्ली: आज पांच सितंबर यानि टीचर्स डे है। वैसे तो हमे रोज ही अपने टीचर्स को धन्यवाद देना चाहिए लेकिन आज का दिन ही कुछ खास है। दरअसल, आज भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन है। उनके जन्मदिन के मौके पर ही पूरा देश टीचर्स डे मनाता है। ऐसे में आज हम आपको देश के कुछ ऐसे शिक्षकों के बारे में बताएंगे, जिन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में अमूल्य योगदान दिया है।

यह भी पढ़ें: INX MEDIA CASE: चिदंबरम को बेल या जेल, फैसला आज

डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम

  • डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम का पूरा नाम अबुल पाकिर जैनुलअब्दीन अब्दुल कलाम है।
  • वह अब हमारे बीच न हों लेकिन डॉ. कलाम ने शिक्षा के क्षेत्र में काफी अमूल्य योगदान दिया है।
  • ‘मिसाइल मैन’ के नाम से फ़ेमस डॉ. कलाम देश के भूतपूर्व राष्ट्रपति भी रहे।
  • डॉ. कलाम को पढ़ने और पढ़ाने का काफी शौक रहा। वह पढ़ाने का मौका कभी नहीं छोड़ते थे।

यह भी पढ़ें: कश्मीर के बाद इमरान खान की नई चाल, अब दुनिया संग कर रहे ये काम

आनंद कुमार

  • बिहार के जाने-माने शिक्षक हैं आनंद कुमार।
  • फिल्म सुपर-30 आनंद के ऊपर ही आधारित है।
  • बिहार की राजधानी पटना में सुपर-30 नाम से आईआईटी की तैयारी कर रहे बच्चों को कोचिंग देते हैं।
  • आनंद रामानुज स्कूल ऑफ मैथेमेटिक्स नाम से संस्थान भी चलाते हैं।

यह भी पढ़ें: ‘जियो गीगा फाइबर’ आज से शुरू, मुफ्त फोन कॉल के साथ मिलेगी ब्रॉडबैंड सेवा   

स्वामी दयानंद गिरि

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से स्वामी दयानंद गिरि का रिश्ता काफी पुराना रहा।
  • जब पीएम मोदी 16 साल के थे तब वह ऋषिकेश के दयानंद आश्रम में आए थे।
  • इसके अलावा जब-जब पीएम मोदी को अपने जीवन में किसी तरह की मुश्किल का सामना करना पड़ा तब उन्होंने स्वामी दयानंद गिरि को याद किया।

यह भी पढ़ें: बड़ा बम धमाका! 23 की मौत, कई इमारतें तबाह, हिल गया पंजाब

चाणक्य

  • चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे चाणक्य।
  • वह ‘कौटिल्य’ नाम से भी विख्यात हैं।
  • चाणक्य तक्षशिला विश्वविद्यालय के आचार्य भी थे।
  • वह चाणक्य ही थे, जिन्होंने चन्द्रगुप्त मौर्य को राजा बनाया था।