ये है किसान आंदोलन हाईजैक करने की असली कहानी, जो आपको झकझोर देगी

ट्रैक्टर रैली पर किसान नेताओं का कोई नियंत्रण नहीं रह गया था। वह सिर्फ मूकदर्शक बनकर रह गए थे। इन युवाओं ने ट्रैक्टर रैली का अपने मंसूबों को पूरा करने के लिए उपयोग किया और वह काफी हद तक अपने इरादों को अमलीजामा पहनाने में कामयाब रहे।

Published by SK Gautam Published: January 27, 2021 | 12:21 pm
traictor railly-5

ये है किसान आंदोलन हाईजैक करने की असली कहानी, जो आपको झकझोर देगीये है किसान आंदोलन हाईजैक करने की असली कहानी, जो आपको झकझोर देगी-(courtesy-social media)

रामकृष्ण वाजपेयी

लखनऊ: ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में हुई व्यापक हिंसा और उत्पात के बाद अब ये खबरें छनकर आ रही हैं कि किसान आंदोलन को ट्रैक्टर रैली से कुछ घंटे पहले युवाओं के समूह द्वारा हाईजैक कर लिया गया था। ट्रैक्टर रैली पर किसान नेताओं का कोई नियंत्रण नहीं रह गया था। वह सिर्फ मूकदर्शक बनकर रह गए थे। इन युवाओं ने ट्रैक्टर रैली का अपने मंसूबों को पूरा करने के लिए उपयोग किया और वह काफी हद तक अपने इरादों को अमलीजामा पहनाने में कामयाब रहे। जिसके तहत ट्रैक्टर रैली का कुछ पंजाबी चैनलों ने सीधा प्रसारण विदेशों में किया।

ट्रैक्टर रैली को युवाओं के समूह द्वारा किया गया हाईजैक

इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर के मुताबिक ट्रैक्टर रैली से पहले पुलिस से बनी सहमति को खारिज करते हुए युवाओं के एक गुट ने “हमारा मार्ग, रिंग रोड” कहते हुए किसानों से नामित मार्गों से दूर होने का आह्वान किया था, कई किसान नेताओं ने कहा, यह नारा कुछ बाहरी तत्वों द्वारा दिया गया था, जिन्होंने सोमवार रात को सिंघू सीमा पर संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) के मंच पर कब्जा कर लिया था।

Lakhbir Singh Sidhana

कुछ चर्चित चेहरों ने भीड़ को संबोधित किया

बताया गया है कि किसानों का मंच शाम 6 बजे से आधी रात तक, युवाओं के एक समूह के कब्जे में रहा। ये लोग एसकेएम नेताओं और दिल्ली पुलिस के बीच सहमति पर विरोध जता रहे थे और कुछ पंजाबी वेब चैनलों के साथ-साथ कुछ व्यक्तिगत सोशल मीडिया खातों पर इसका लाइव वेबकास्ट हो रहा था। प्रारंभ में, मंच पर कुछ अज्ञात चेहरे थे जो ये मांग कर रहे थे कि एसकेएम नेता मंच पर आएं और ट्रैक्टर परेड के लिए तय किए गए मार्ग के बारे में उनके सवालों के जवाब दें।

ये भी देखें: किसान हिंसा का दोषी: यही हैं वो असली जिम्मेदार, जिसने दिल्ली में मचा दिया तांडव

 लेकिन बाद में, कुछ चर्चित चेहरे, जैसे गैंगस्टर से नेता बने लखबीर सिंह सिधाना उर्फ लाखा सिधाना (40), और मालवा यूथ फेडरेशन के अध्यक्ष और पंजाबी फिल्म अभिनेता दीप सिद्धू, जिन्होंने 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा के सनी देओल के लिए प्रचार किया था मंच पर आ गए और भीड़ को संबोधित किया।

सिद्धू ने अपने भाषण में कहा “हमारा नेतृत्व दबाव में है। हमें उन पर अधिक दबाव नहीं डालना चाहिए। लेकिन हम उन्हें ऐसा निर्णय लेने के लिए कह सकते हैं जो सभी को स्वीकार्य हो। उन्हें मंच पर आना चाहिए। यदि वे नहीं आते हैं, तो हम एक निर्णय लेंगे। आप सभी को यह तय करना चाहिए कि उस मामले में फैसला किसको लेना चाहिए।

हजारों युवा रिंग रोड पर ट्रैक्टर रैली चाहते हैं-सिधाना

सिधाना ने कहा “हजारों युवा रिंग रोड पर ट्रैक्टर रैली चाहते हैं। किसान मजदूर संघर्ष समिति ने रिंग रोड को लेने का फैसला किया है। वे हमारे आगे विरोध करेंगे। इसलिए हमारे ट्रैक्टर उनके पीछे होंगे। इसलिए अगर कोई रिंग रोड पर जाना चाहता है, तो वे किसान मजदूर संघर्ष समिति का अनुसरण कर सकते हैं।

मंगलवार को जब सिद्धू लाल किले में थे, तब सिधाना की उपस्थिति की पुष्टि नहीं की जा सकी। लाल किले की घटना के तुरंत बाद सोशल मीडिया पर जारी एक वीडियो में, सिद्धू ने हिंदी में बोलते हुए कहा कि यह आंदोलन का परिणाम है जो कई महीनों से चल रहा है, और एक व्यक्ति पर दोष नहीं लगाया जा सकता है।

traictor railly-5

ये भी देखें: ट्रैक्टर परेड हिंसा: दिल्ली पुलिस की चिट्ठी में ऐसा क्या है, मच गया बवाल

उन्होंने कहा कि निशान साहिब और किसान यूनियन के झंडे “भावनाओं के प्रवाह में” फहराए गए। “मैंने चेतावनी दी थी कि हमारे नेताओं ने एक निर्णय लिया है जो फिर से युवाओं की भावना है।”

जब संयुक्त किसान मोर्चा को एक निर्णय लेने के लिए कहा गया जो सभी के लिए स्वीकार्य हो तो उन्होंने इस अनुरोध को अस्वीकार कर दिया। उन्होंने कहा दीप सिद्धू अकेले इतनी भारी भीड़ को कैसे उकसा सकते हैं … आपको मेरा एक भी वीडियो नहीं मिलेगा जो किसी को लाल किले तक ले जाए। हर कोई इस पल भावना में बह गया था।

“हमारे मार्ग, रिंग रोड”, “परेड रोड, रिंग रोड” के नारे लगाए गए

सिद्धू और उनके भाई, मंदीप सिंह राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा की जा रही जांच में शामिल थे। यह जांच सिख फॉर जस्टिस के खिलाफ दायर एक मामले के सिलसिले में की जा रही थी। सिद्धू ने युवाओं के बीच, “हमारे मार्ग, रिंग रोड”, “परेड रोड, रिंग रोड” के नारे लगाए।

इन लोगों का यह भी कहना था कि किसान संघों ने सबसे पहले गणतंत्र दिवस पर संसद पहुंचने का आह्वान किया था। बाद में किसान नेता पीछे हट गए फिर उन्होंने इसे रिंग रोड तक पहुंचा दिया। लेकिन, दिल्ली पुलिस के साथ अपने समझौते में, वे रिंग रोड से भी पीछे हट गए। इसे लेकर युवाओं में आक्रोश भड़का।

traictor railly-4

ये भी देखें: अभी-अभी आतंकी हमला: सेना पर गोलीबारी से दहला जम्मू-कश्मीर, कुलगाम में दहशत

सोमवार सुबह, किसान मजदूर संघर्ष समिति (KMSC) ने रिंग रोड पर मार्च करने के अपने निर्णय की घोषणा की थी। सूत्रों ने बताया कि जब तक एसकेएम ने निर्धारित मार्ग पर अपना मार्च शुरू किया, तब तक कई प्रदर्शनकारी रिंग रोड पर जा चुके थे। संपर्क करने पर, केएमएससी के नेताओं ने कहा कि उनकी लाल किले में जाने की कोई योजना नहीं। हालांकि, प्रदर्शनकारियों के समूहों ने मजनू का टीला से लाल किले की ओर जाने का फैसला किया, और स्थिति हाथ से निकल गई।

दोस्तों देश दुनिया की और  को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App