Uber करेगी दुनियाभर से कर्मचारियों की छंटनी, भारत में इतनों की जाएगी नौकरी

देश में ऑनलाइन कैब सर्विस प्रोवाइडर कंपनी उबर इंडिया (Uber India) जल्द ही 10 से 15 प्रतिशत कर्मचारियों की छंटनी करने वाली है।

Uber करेगी दुनियाभर से कर्मचारियों की छंटनी, भारत में इतनों की जाएगी नौकरी

Uber करेगी दुनियाभर से कर्मचारियों की छंटनी, भारत में इतनों की जाएगी नौकरी

नई दिल्ली: देश में ऑनलाइन कैब सर्विस प्रोवाइडर कंपनी उबर इंडिया (Uber India) जल्द ही 10 से 15 प्रतिशत कर्मचारियों की छंटनी करने वाली है। सैन फ्रांसिसको की राइडर हेलिंग कंपनी उबर दुनियाभर से 350 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने वाली है। बताया जा रहा है कि कर्मचारियों की ये छंटनी बढ़ रहे घाटे और ग्लोबल स्लोडाउन की वजह से की जा रही है।

10 से 15 फीसदी कर्मचारियों की होगी छंटनी-

एक रिपोर्ट के मुताबिक, मामले से जुड़े जानकारों का कहना है कि उबर इंडिया अपने 10 से 15 फीसदी कर्मचारियों की छंटनी करेगी। वहीं इस छंटनी से देशभर में उबर का बिजनेस प्रभावित होगा। साथ ही इस छंटनी का असर उबर ऑनलाइन फूड-डिलीवरी वर्टिकल उबर इट्स पर भी पड़ेगा।

यह भी पढ़ें: इस करवाचौथ खुद से ऐसे लगाएं ये सिंपल मेहंदी डिजाइन्स

दुनियाभर में 350 कर्मचारियों की होगी छंटनी-

उबर के दुनियाभर में 350 से 400 कर्मचारी हैं। कंपनी ने सोमवार को कर्मचारियों को मेल के जरिए सूचित किया है कि कंपनी दुनियाभर में 350 कर्मचारियों की छंटनी कर रही है। वहीं अमेरिका और कनाडा में 70 फीसदी कर्मचारियों की छंटनी की जाएगी। उबर के सीईओ दारा खुसरोशाही इस महीने के आखिरी तक भारत आने वाले हैं। लेकिन जानकारी है कि उनकी ये यात्रा छंटनी से संबंधित नहीं होगी।

उबर इंडिया का 2 फीसदी योगदान-

मामले के जानकारी एक शख्स ने बताया कि, उबर के बिजनेस में उबर इंडिया का 2 फीसदी का योगदान है। हालांकि देश में ज्यादा खर्च बढ़ने की वजह से कॉस्ट कटिंग की जा सकती है। अगर वैश्विक स्तर की बात की जाए तो उबर को साल 2019 की पहली तिमाही में उबर को 370 करोड़ डॉलर यानि 26,270 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। वहीं दूसरी तिमाही में 520 करोड़ डॉलर यानि 36,920 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है।

यह भी पढ़ें: यदि आपके पास है 2,000 रुपये के नोट तो जान लें ये जरूरी बात

उबर कंपनी ने इस घाटे के लिए ड्राइवर एप्रिसिएशन पर खर्च किए गए 29.8 करोड़ डॉलर यानि 2,115.8 करोड़ रुपये के समेत कंपनी के इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग के साथ स्टॉक आधारित मुआवजे के खर्च के लिए 390 करोड़ डॉलर यानि 27,690 करोड़ रुपये को जिम्मेदार करार दिया है।

बिजनेस में हर साल हो रही है गिरावट-

बता दें कि उबर के बिजनेस में हर साल लगातार गिरावत आ रही है। कंपनी ने जुलाई में पहली बार छंटनी की थी। उस वक्त छंटनी में मार्केटिंग और एनालिटिक्स टीम के लोगों को हटाया गया था। उसके बाद कंपनी ने सितंबर में दूसरी बार छंटनी की थी लेकिन इस छंटनी का असर भारत पर नहीं पड़ा था। इस दौरान प्रोडक्ट और टेक्नोलॉजी टीम के लोगों को हटाया गया था।

यह भी पढ़ें: ऐसा क्या होने जा रहा यूपी में? योगी सरकार ने पुलिस की छुट्टियां की रद्द