मोदी सरकार की इस बड़ी योजना पर उद्दव का प्रहार, लिया ये बड़ा फैसला

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की तुलना ‘सफेद हाथी’ से की है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह इस प्रोजेक्ट…

मुंबई।  महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की तुलना ‘सफेद हाथी’ से की है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह इस प्रोजेक्ट पर निर्णय तभी लेंगे, जब उन्हें विश्वास हो जाएगा कि इससे राज्य के औद्योगिक विकास को बढ़ावा मिलेगा।

ये भी पढ़ें- कोरोना पर सरकार का बड़ा ऐलान: उठाया ये सख्त कदम

शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ को दिए इंटरव्यू के दूसरे हिस्से में महाराष्ट्र मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य को केंद्र कोष से उसका ‘सही हिस्सा’ नहीं मिल रहा है, जिससे किसानों की मदद की जा सकती है।

किसान कर्ज माफी की योजना अगले महीने से लागू होगी

शिवसेना प्रमुख ने कहा कि सरकार द्वारा घोषित किसान कर्ज माफी की योजना अगले महीने से लागू होगी। उन्होंने साथ ही आश्वासन दिया कि एक भी उद्योग राज्य से बाहर नहीं जाने दिया जाएगा।

संविधान पर उद्धव सरकार का बड़ा फैसला: अब स्कूलों में होगा प्रस्तावना का पाठ

केंद्र की महत्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन परियोजना का जिक्र करते हुए ठाकरे ने कहा कि इसकी व्यवहार्यता पर एक व्यापक चर्चा होनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘बुलेट ट्रेन से किसको फायदा होगा? महाराष्ट्र में व्यापार और उद्योग को इससे कैसे फायदा मिलेगा? अगर यह लाभदायक है, मुझे इसका विश्वास दिलाएं और फिर लोगों के समक्ष जाएं और निर्णय लें कि क्या करना है।’

उन्होंने कहा, ‘बुलेट ट्रेन भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी परियोजना हो सकती है लेकिन जब आप नींद से जागते हैं तो पता चलता है कि यह कोई सपना नहीं है। आपको हकीकत का सामना करना होता है।’

संजय राउत को दिए इंटरव्यू में ठाकरे ने कही ये बात

 

बुलेट ट्रेन : मोदी का 2022 तक सपना होगा पूरा, रेलवे कर रहा ओवर टाइम वर्क

‘सामना’ के कार्यकारी संपादक संजय राउत को दिए इंटरव्यू में ठाकरे ने कहा कि राज्य की आर्थिक स्थिति देखते हुए विकासात्मक परियोजनाओं की प्राथमिकता तय की जानी चाहिए।

ये भी पढ़ें- दलित का किया ऐसा हाल: समर्थन में उतरे इस पार्टी के कार्यकर्ता, सरकार से की ये मांग 

उन्होंने कहा, ‘हमें देखना होता है कि जरूरी क्या है, बस केवल इस आधार पर कुछ भी नहीं किया जा सकता कि हमें शून्य ब्याज या कम ब्याज पर ऋण मिल रहा है। बिना किसी कारण किसानों की जमीन लेना सही नहीं है।’