×

UN तक पहुंची दिल्ली हिंसा: कही ऐसी बात, हर भारतीय को आ जाएगी शर्म

दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हो रही हिंसा से जहां कहीं न कहीं पूरा देश प्रभावित हैं तो वहीं अब इसकी गूंज संयुक्त राष्ट्र (United Nation) तक पहुंच गयी है।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 26 Feb 2020 11:43 AM GMT

UN तक पहुंची दिल्ली हिंसा: कही ऐसी बात, हर भारतीय को आ जाएगी शर्म
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

दिल्ली: भारत की राजधानी दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हो रही हिंसा से जहां कहीं न कहीं पूरा देश प्रभावित हैं तो वहीं अब इसकी गूंज संयुक्त राष्ट्र (United Nation) तक पहुंच गयी है। लगातार हिंसा के बढ़ रहे मौतों के आंकड़े और जन आंदोलन को देखते हुए संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस (António Guterres) ने बयान जारी किया है। उनकी नजर लगातार इस मामले में पर बनी हुई है।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा हमारी दिल्ली हिंसा पर नजर:

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली में जारी हिंसा के मामले में संयुक्त राष्ट्र की नजर हैं। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने इस बारे में प्रदर्शनकारियों को शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करने और सुरक्षाबलों को संयम बरतने की सलाह दी है। इसके साथ ही उन्होंने भारत के सभी राजनीतिक दलों को मामले में शांति अपील की है।

ये भी पढ़ें: अभी-अभी 5 अफसरों के तबादले: दिल्ली हिंसा पर रोक लगाने के लिए सरकार का प्लान

कहा-बनाएं रखें शांति, सयंम बरते सुरक्षा बल:

इस बारे में महासचिव के ओर से जारी बयान में कहा गया कि मुझे लगता है कि यह बेहद जरूरी है कि प्रदर्शनकारियों को शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन करने दिया जाए और सुरक्षाबल सयंम बरतें। उन्होंने इस बात को कबूला कि वह दिल्ली की हर स्थिति पर पर नजर बनाये हुए हैं।

ये भी पढ़ें: ऐसे होते हैं दंगाई: जानें क्यों प्रदर्शन को देते हैं आग, करते हैं हिंसा

अमेरिकी सांसदों ने की निंदा:

इतना ही नहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के जाने के बाद वहां से भी दिल्ली हिंसा पर बयानबाजी शुरू हो गयी है। अमेरिकी सांसदों ने मामले में चिंता जताते हुए कहा कि लोकतांत्रिक देशों को विभाजन और भेदभाव बर्दाशत नहीं करना चाहिए या ऐसे कानून को बढ़ावा नहीं देना चाहिए जो धार्मिक स्वतंत्रता को कमजोर करता हो। वहीं सांसद एलन लोवेन्थाल ने कहा कि हमें भारत में मानवाधिकार पर खतरे के बारे में बोलना चाहिए।

दो दिनों में हिंसा से 22 की मौत

बता दें कि दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ बीते दो दिनों में विरोध इतना हिंसक हो गया कि 22 लोगों की मौत का सबब बन गया। वहीं सैंकड़ों लोग घायल हो गये। पुलिस को आदेश दिया गया है कि देखते ही उपद्रवियों को गोली मार दो। इसके अलावा एनएसए अजीत डोभाल ने दिल्ली के हालातों का जायजा लिया। गृह मंत्री समेत सीएम केजरीवाल और पुलिस अधिकारियों संग बैठक हुई।

ये भी पढ़ें: खुशी से पागल पाकिस्तान: ऐसा क्या बोला ट्रंप ने, जो खुश हो रहा पाक

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story