बीइंग भगीरथ टीम का स्वच्छता अभियान, समाज विभाग में हुआ करोड़ों का घोटाला   

कार्यशाला में विभाग के आईटी एक्सपर्ट ने छात्रवृत्ति में आवेदन करने के लिए विद्यालयों के प्रतिनिधियों को जानकारी दी। सहायक समाज कल्याण अधिकारी ने बताया कि छात्रवृत्ति की प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने और संस्थानों को जागरूक करने के उद्देश्य से इस कार्यशाला का आयोजन किया  गया है।

उत्तराखंड: समाज कल्याण विभाग में हुए करोड़ों के छात्रवृत्ति घोटाले की पुनरावृत्ति रोकने और प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने के लिए समाज कल्याण विभाग सरकारी और गैर सरकारी संस्थानों को जागरूक कर रहा है। इसके लिए विभाग ने एक कार्यशाला का आयोजन किया। हरिद्वार के ऋषिकुल विश्वविद्यालय ऑडिटोरियम में आयोजित हुई कार्यशाला में समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों सहित जिले भर से सरकारी और गैर सरकारी विद्यालयों संस्थानों के प्रतिनिधि पहुंचे।

ये भी देखें : इंशाल्लाह! पहली बार होगा ऐसा, सलमान-रणवीर में होगी टक्कर

कार्यशाला में विभाग के आईटी एक्सपर्ट ने छात्रवृत्ति में आवेदन करने के लिए विद्यालयों के प्रतिनिधियों को जानकारी दी। सहायक समाज कल्याण अधिकारी ने बताया कि छात्रवृत्ति की प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने और संस्थानों को जागरूक करने के उद्देश्य से इस कार्यशाला का आयोजन किया  गया है।

बीइंग भगीरथ टीम का स्वच्छता अभियान

हरिद्वार में स्वच्छता अभियान चलाने वाली बीइंग भगीरथ टीम  प्लास्टिक सोल्यूशन के नाम से कचरा प्रबंधन की मुहिम चला रही है। बीइंग भगीरथ टीम द्वारा प्लास्टिक की बोतलों व अन्य पुरानी सामग्री से शहर में सौन्दर्यकरण अभियान चलाया जा रहा है।

बीइंग भगीरथ टीम घर से निकलने वाली पुरानी वेस्ट सामग्री से शहर की सुन्दरता को चार चांद लगा रहे हैं। टीम के सदस्यों का कहना है की घरों और आस-पास फ़ैली बोतलों को इकट्ठा कर अघोषित कूड़ा स्थल के पास लगी तारों में प्लास्टिक की बोतलों से फैंसिंग बनाने का कार्य किया गया है।

ये भी देखें : Chandrayaan-2 पर बड़ी खबर! 24 घंटे में मिल सकती है खुशखबरी

उन्होंने बताया की  अभियान चलाते हुए प्लास्टिक बोतलों से शहर के विभिन्न चौराहों पर फैंसिग लगाईं जा रही है परन्तु आम जनमानस से अपेक्षित सहयोग नहीं मिल पा रहा है इसको देखते हुए अब पेंच के माध्यम से प्लास्टिक बोतलों को दीवारों पर लटकाया जा रहा है जो हरिद्वार के लिए एक नई चीज है। मधु भाटिया ने लोगों से अपील भी की कि प्लास्टिक की बोतलों को इधर-उधर ना फेंके हमें फ़ोन करें।