अयोध्या पर फैसला: जानिए क्या है देश भर में सुरक्षा व्यवस्था का हाल

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। सबसे पहले चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ( सीजेआई) रंजन गोगोई ने शिया वक्फ बोर्ड की याचिका खारिज करने की बात बताई थी।

नई दिल्ली: अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। सबसे पहले चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया        ( सीजेआई) रंजन गोगोई ने शिया वक्फ बोर्ड की याचिका खारिज करने की बात बताई थी।

इसके बाद निर्मोही अखाड़े का भी दावा खारिज कर दिया। कोर्ट ने एएसआई की रिपोर्ट के आधार पर कहा कि मस्जिद खाली जमीन पर नहीं बनाई गई थी।

मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने की भी पुख्ता जानकारी नहीं है। आस्था के आधार पर जमीन का मालिकाना हक नहीं दिया जा सकता। फैसला कानून के आधार पर ही दिया जाएगा।

मुस्लिम पक्ष जमीन पर दावा साबित करने में नाकाम रहा है। मुस्लिमों(सुन्नी वक्फ बोर्ड) को दूसरी जगह 5 एकड़ जमीन दी जाए। विवादित जमीन रामलला की है।

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में ये भी कहा है कि केंद्र सरकार तीन महीने में स्कीम लाए और ट्रस्ट बनाए। यह ट्रस्ट राम मंदिर का निर्माण करेगा।

इस फैसले में विवादित जमीन रामजन्मभूमि न्यास को देने का फैसला किया गया है। पांच जजों की बेंच ने यह फैसला सर्वसम्मति से दिया।

ये भी पढ़ें…राम जन्मभूमि और अयोध्या विवाद, कब और कैसे हुई शुरुआत!

यहां जानें देश भर सुरक्षा व्यवस्था का हाल

अयोध्या फैसले को लेकर मुंबई में 40 हजार पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। इसमें रिजर्व पुलिस बल के जवान शामिल हैं। इसके अलावा पूरे शहर की सीसीटीवी से निगरानी की जा रही है। मुंबई के खास जगहों पर भारी संख्या में पुलिस फोर्स को तैनात किया गया है ।


धार्मिक स्थलों की चेकिंग

नोएडा में पुलिस ने धार्मिक स्थलों पर सघन चेकिंग अभियान चलाया। इसके साथ नोएडा में चप्पे-चप्पे पर पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

चेन्नई में 15 हजार पुलिस कर्मी तैनात

अयोध्या विवाद पर फैसले को लेकर सोशल मीडिया पर खास नजर रखी जा रही है। कई राज्यों में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। चेन्नई में 15 हजार पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया है। आज सुबह सभी पुलिसकर्मी राजरथिनम मैदान में इकट्ठा हुए। इसके बाद सभी को शहर के अलग-अलग हिस्सों में तैनात किया गया।

पीएम मोदी और सीएम योगी ने की शांति की अपील

अयोध्या फैसले के मद्देनजर अयोध्या, यूपी समेत देश के तमाम शहरों में सुरक्षा सख्त कर दी गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों से शांति और अमन की अपील की है। देश के तमाम शहरों से आम लोगों ने भी सद्भावना रैली निकालते हुए शांति की अपील की है।

यूपी और जम्मू- कश्मीर में धारा-144 लागू

उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू कर दी गई है। जम्मू कश्मीर में भी धारा 144 लागू है। अलीगढ़ में इंटरनेट पर बैन लगाया गया है, तो देश के कई राज्यों में स्कूल-कॉलेजों में छुट्टी कर दी गई है।

इन राज्यों में स्कूल- कालेज बंद

दिल्ली में सभी निजी स्कूलों को बंद रखने की सलाह दी गई है और सभी सरकारी स्कूल महीने का दूसरी शनिवार होने की वजह से वैसे ही बंद रहेंगे।

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शुक्रवार रात ट्वीट किया,‘‘कल सुबह अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले को देखते हुए सुरक्षा चिंताएं हैं।

सभी सरकारी स्कूल और कई निजी स्कूल कल बंद हैं क्योंकि महीने का दूसरा शनिवार है। हम सभी निजी स्कूलों को भी कल बंद रखे जाने की सलाह दे रहे हैं।”

ये भी पढ़ें…अयोध्या फैसला: CM योगी का सख्त आदेश, यूपी से सटे राज्यों की सीमाएं सील

कर्नाटक सरकार ने अयोध्या फैसले के दिन शनिवार को राज्य स्कूल और कॉलेज बंद रखने के निर्देश दिए हैं। मध्यप्रदेश में भोपाल के जिला प्रशासन ने जिले के सभी स्कूल कॉलेज शनिवार को बंद रखने के आदेश दिए हैं।

भोपाल समेत राज्य के कई जिलों में धारा 144 लगाई गई है। इस दौरान बिना पुलिस के अनुमति के एकत्र होना, हथियार लेकर चलना आदि पर पाबंदी रहेगी।

सभी राज्यों को सुरक्षा एडवाइजरी

गृह मंत्रालय से जुड़े सूत्रों के हवाले से खबर है कि सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या के फैसले को देखते हुए गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को एडवाइजरी भेजी है। सभी राज्यों को फैसले को लेकर अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं।

सूत्रों के मुताबिक अतिरिक्त सुरक्षा के लिए गृह मंत्रालय ने अर्धसैनिक बलों की 40 कंपनियां भेजी है। इन 40 कंपनियों में 4000 पैरा मिलिट्री फोर्स के जवान शामिल हैं।

ये भी पढ़ें…Ayodhya Verdict Live Updates: अयोध्या पर कुछ देर बार सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला