राम जन्मभूमि और अयोध्या विवाद, कब और कैसे हुई शुरुआत!

अयोध्या विवाद पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में जारी निर्णायक सुनवाई सम्पन्न हो गयी। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सुनवाई के बाद आदेश सुरक्षित रख लिया है।

लखनऊ: अयोध्या विवाद पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में जारी निर्णायक सुनवाई सम्पन्न हो गयी। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सुनवाई के बाद आदेश सुरक्षित रख लिया है। वर्ष 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने फैसले में विवादित स्थल को सुन्नी वक्फ बोर्ड, रामलला विराजमान और निर्मोही अखाड़ा के बीच तीन बराबर भागों में बांटने का आदेश दिया था। कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की गयी है, जिसपर अब निर्णायक आदेश आना बाकी है।

हिंदुओं की पौराणिक कथाओं और मान्यताओं के अनुसार अयोध्या भगवान श्रीराम की जन्मस्थली है। हिन्दू धर्म में मान्यता है कि अयोध्या में राम जन्मभूमि पर एक भव्य मंदिर विराजमान था। रामलला उसी मंदिर में विराजमान थे। उसी जगह पर मुगल शासक बाबर ने 1528 में मस्जिद का निर्माण करवाया। चूंकि हिंदुओं की यह मान्यता है कि यहां मंदिर थे, जिन्हें तोड़कर बाबर ने मस्जिद का निर्माण करवाया, इसलिए यह मसला वर्षों से विवाद की जड़ रहा है। अयोध्या विवाद देश का एक ऐसा विवाद है, जिसपर पूरे देश की नजरें टिकी हैं।

यह भी पढ़ें…अयोध्या विवाद: फैसले की घड़ी नजदीक, चीफ जस्टिस ने रद्द की विदेश यात्रा

क्या है अयोध्या विवाद और कब-कब क्या हुआ

-सन् 1853 को हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच इस जमीन को लेकर पहली बार विवाद हुआ। उसके बाद से ये विवाद अनवरत जारी है। राजनीतिक, ऐतिहासिक और सामाजिक-धार्मिक विवाद होने के कारण ये मामला कोर्ट में पहुंच गया है।

-1859 में अंग्रेजों ने विवाद को ध्यान में रखते हुए पूजा व नमाज के लिए मुसलमानों को अन्दर का हिस्सा और हिन्दुओं को बाहर का हिस्सा उपयोग में लाने को कहा।

-1949 में अन्दर के हिस्से में भगवान राम की मूर्ति रखी गई। तनाव को बढ़ता देख सरकार ने इसके गेट में ताला लगवा दिया।

यह भी पढ़ें…अयोध्या मामला: आज बंद दरवाजों के पीछे होगी जजों की बैठक

-वर्ष 1950 में गोपाल सिंह विशारद ने फैजाबाद अदालत में भगवान राम की पूजा अर्चना के लिए विशेष इजाजत मांगी थी। उसी साल महंत परमहंस रामचंद्र दास ने हिंदुओं की पूजा जारी रखने के लिए मुकदमा दायर किया।

-निर्मोही अखाड़ा ने विवादित स्थल हस्तांरित करने लिए अपील दायर की।

-1961 में सुन्नी वक्फ बोर्ड भी विवादित स्थल पर मालिकाना हक के लिए कानूनी लड़ाई की जंग में कूद पड़ा और मुकदमा दायर किया।

-अयोध्या विवाद में अब विश्व हिंदू परिषद कूद पड़ा और उसने विवादित स्थल का ताला खोलने और रामजन्मभूमि को स्वतंत्र कराने और एक विशाल मंदिर के निर्माण के लिए अभियान शुरू किया।

यह भी पढ़ें…अयोध्या विवाद: अदालत में ड्रामा, क्यों फाड़ा गया नक्शा

-1984 में विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने बाबरी मस्जिद के ताले खोलने और राम जन्मस्थान को स्वतंत्र कराने व एक विशाल मंदिर के निर्माण के लिए अभियान शुरू किया। एक समिति का गठन किया गया।

-वर्ष 1985 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने विवादित स्थल का ताला खुलवा दिया।

-एक फरवरी 1986 को फैजाबाद के जिला न्यायाधीश ने विवादित स्थल पर हिंदओं को पूजा की इजाजत दे दी। इस घटना के बाद नाराज मुसलमानों ने बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी का गठन किया।

यह भी पढ़ें…राम मंदिर पर बड़ा फैसला: आखिर क्या होगा 23 दिन बाद?

-1989 से यह मुद्दा राजनीतिक हो गया और विश्व हिंदू परिषद के आंदोलन को भाजपा ने समर्थन देकर राम मंदिर आंदोलन को तेज कर दिया।

-वर्ष 1989 में राजीव गांधी ने बाबरी मस्जिद के निकट राम मंदिर के निर्माण के लिए शिलान्यास की इजाजत दे दी।

-राजीव गांधी के बाद राम मंदिर का मुद्दा भाजपा ने लपक लिया और 25 सितम्बर, 1990 को गुजरात के सोमनाथ से अयोध्या तक रथयात्रा निकाली।

यह भी पढ़ें…राम जन्मभूमि विवाद पर सुनवाई पूरी, सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

-1990 में रथयात्रा पर निकले लालकृष्ण आडवाणी को बिहार के समस्तीपुर में गिरफ्तार कर लिया गया था। उस वक्त बिहार के मुख्यमंत्री लालू यादव थे।

-आडवाणी की गिरफ्तारी के बाद भाजपा ने केंद्र की तत्कालीन वीपी सिंह सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था।

-अक्टूबर 1991 में उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने विवादित स्थल के आसपास की 2.77 एकड़ भूमि को अपने अधिकार में ले लिया।

-विवाद इतना बढ़ा कि छह दिसम्बर 1992 को हजारों कार सेवकों ने अयोध्या पहुंचकर बाबरी मस्जिद को गिरा दिया और एक अस्थायी मंदिर बना दिया। इस घटना के बाद देश के विभिन्न हिस्सों में दंगे हुए। इन दंगों में करीब दो हजार लोगों की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें…राम मंदिर विवाद: SC में तीखी बहस, मुस्लिम पक्ष के वकील ने फाड़ा नक्शा

-उसके दस दिन बाद 16 दिसम्बर, 1992 को लिब्राहन आयोग गठित किया गया। आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त मुख्य न्यायाधीश एम.एस. लिब्राहन को आयोग का अध्यक्ष बनाया गया।

-लिब्राहन आयोग को 16 मार्च, 1993 तक यानी तीन महीने में रिपोर्ट देने को कहा गया था, लेकिन आयोग ने रिपोर्ट देने में 17 साल लगाए।

-1993 में केंद्र के इस अधिग्रहण को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती मिली। चुनौती देने वाला शख्स मोहम्मद इस्माइल फारुकी थे लेकिन कोर्ट ने इस चुनौती को ख़ारिज कर दिया कि केंद्र सिर्फ इस जमीन का संग्रहक है। जब मलिकाना हक का फैसला हो जाएगा तो मालिकों को जमीन लौटा दी जाएगी। हाल ही में केंद्र की ओर से दायर अर्जी इसी अतिरिक्त जमीन को लेकर है।

यह भी पढ़ें…राम मंदिर विवाद: CJI बोले- अब बहुत हुआ, बीच में कोई नहीं करेगा टोका-टाकी

-1996 में राम जन्मभूमि न्यास ने केंद्र सरकार से यह जमीन मांगी लेकिन मांग ठुकरा दी गयी। इसके बाद न्यास ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया जिसे 1997 में कोर्ट ने भी ख़ारिज कर दिया।

-2002 में जब गैर-विवादित जमीन पर कुछ गतिविधियां हुईं तो असलम भूरे ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई।

-2003 में इस पर सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने यथास्थिति कायम रखने का आदेश दिया। कोर्ट ने कहा कि विवादित और गैर-विवादित जमीन को अलग करके नहीं देखा जा सकता।

-30 जून, 2009 को लिब्राहन आयोग ने चार भागों में 700 पन्नों की रिपोर्ट प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह और गृह मंत्री पी. चिदम्बरम को सौंपी।

यह भी पढ़ें…राम मंदिर विवाद: जानिए क्या है ‘मोल्डिंग ऑफ रिलीफ’, कोर्ट ने दिए सनवाई के संकेत

-31 मार्च, 2009 को समाप्त हुए लिब्राहन आयोग का कार्यकाल अंतिम बार तीन महीने अर्थात् 30 जून तक के लिए बढ़ाया गया।

-2010 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने निर्णय सुनाया, जिसमें विवादित भूमि को रामजन्मभूमि घोषित किया गया। न्यायालय ने बहुमत से निर्णय दिया कि विवादित भूमि जिसे रामजन्मभूमि माना जाता रहा है, उसे हिंदू पक्ष को दे दिया जाए। न्यायालय ने यह भी कहा कि वहां से रामलला की प्रतिमा को नहीं हटाया जाएगा।

-न्यायालय ने यह भी पाया कि चूंकि सीता रसोई और राम चबूतरा आदि कुछ भागों पर निर्मोही अखाड़े का भी कब्ज़ा रहा है, इसलिए यह हिस्सा निर्माही अखाड़े के पास ही रहेगा।

यह भी पढ़ें…LAC के पास चीन ने चली खतरनाक साजिश, सैनिकों को दे रहा है ये खास ट्रेनिंग

-दो न्यायाधीशों ने यह निर्णय भी दिया कि इस भूमि के कुछ भागों पर मुसलमान प्रार्थना करते रहे हैं, इसलिए विवादित भूमि का एक तिहाई हिस्सा मुसलमान पक्षों को दे दिया जाए लेकिन हिंदू और मुस्लिम दोनों ही पक्षों ने इस निर्णय को मानने से अस्वीकार करते हुए सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया।

-उच्चतम न्यायालय ने 7 वर्ष बाद निर्णय लिया कि 12 अगस्त, 2017 से तीन न्यायधीशों की पीठ इस विवाद की सुनवाई प्रतिदिन करेगी। सुनवाई से ठीक पहले शिया वक्फ बोर्ड ने न्यायालय में याचिका लगाकर विवाद में पक्षकार
होने का दावा किया।

-फैसले के विरोध में मुस्लिम पक्षकारों ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की। वर्तमान में इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में हो रही है।

यह भी पढ़ें…SBI में नौकरी का बड़ा मौका: अब जॉब की टेंशन हुई खत्म, करें यहां तुरंत अप्लाई

किसने क्या दी दलील

बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट अगले महीने फैसला सुनाएगा। हम तो यही कहना चाहते हैं कि कोर्ट फैसला करे। 70 साल का मामला है। याचिका दायर करने वाले ज्यादातर इस दुनिया में नहीं रहे। नई पीढ़ी इस मामले में शामिल है। हम लोग चाहते हैं कि जो सभी पक्षों ने सबूत पेश किया है, उसी के आधार पर शीर्ष अदालत फैसला करे और सभी फैसला स्वीकार करें।

यह भी पढ़ें…इतना कम हुआ पेट्रोल-डीजल का नया रेट, यहां करें चेक

हिन्दू पक्षकार रामजन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष रामविलास वेदांती ने कोर्ट में कहा कि जब राम का जन्म हुआ था तब इस्लाम का जन्म ही नहीं हुआ था। राम का जन्म त्रेता युग में हुआ था और इस्लाम का कलयुग में हुआ। अयोध्या में आज भी राजमहल है।

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने मंगलवार को कहा कि 16 अक्टूबर, 2019 की शाम 5 बजे तक इस मामले की सुनवाई पूरी कर ली जाएगी। जस्टिस गगोई ने बुधवार को शाम पांच बजे तक सुनवाई कर आदेश सुरक्षित कर लिया है। उधर, इस समय अयोध्या में धारा 144 लागू है।