शाहजहांपुर केस! वायरल हुआ वीडियो, इसने मांगी गई 5 करोड़ की रंगदारी

शाहजहांपुर केस की जांच कर रही विशेष जांच दल ‘SIT’ मंगलवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के आश्रम पर पहुंची, और एसआईटी पीड़ित परिवार की उपस्थिती में आश्रम के हॉस्टल को खंगाला है।

नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद की मुश्किलें और बढ़ती नजर आ रही है। शाहजहांपुर केस में एक नया मोड़ आया है।

बतातें चलें कि शाहजहांपुर केस की जांच कर रही विशेष जांच दल ‘SIT’ मंगलवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के आश्रम पर पहुंची, और एसआईटी पीड़ित परिवार की उपस्थिती में आश्रम के हॉस्टल को खंगाला है।

इसके साथ ही शाहजहांपुर केस में एक नया मोड़ आया है। बताया जा रहा है कि मंगलवार रात को एक और वीडियो वायरल हुआ है जिसमें एक कार में चार युवक व एक युवती आपस में बातचीत करते नजर आ रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो स्वामी चिन्मयानंद से पांच करोड़ की रंगदारी मांगने के प्रकरण से जुड़ा है।

इसके साथ ही यह वीडियो कब और कहां बना है इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पा रही है। अभी तक इस वीडियो की कोई अधिकारी पुष्टि नहीं हुई है।

यह भी पढ़ें. अजगर की तरह सुस्त हुआ मसूद, भाई बना आतंक का सरगना

सूत्रों के मुताबिक, यह वीडियो 24 अगस्त के बाद बना है। युवती काफी कम ऊंचाई पर हवाई जहाज देखने की बात कह रही है। कहा जा रहा कि वीडियो दिल्ली या आसपास क्षेत्र का है।

कार में बने वीडियो में ड्राइविंग सीट के बगल में बैठा युवक पीछे वाली सीट पर बैठी युवती पर नाराज हो रहा है और कह रहा है कि ‘फोन या मैसेज करने की जरूरत क्या थी। जिसे किया वह कोई छोटा आदमी नहीं है।

इतने में युवती के पास बैठा युवक कहने लगा कि उसने बोला इसलिए मैंने कर दिया।’ बात काटते हुए युवती कहती है, ‘इसने कहा कि फर्जी सिम है, इस चक्कर में मैसेज कर दिया।’

बात खत्म होते ही ड्राइविंग सीट के बगल वाला युवक कहता है कि ‘वह बाप आदमी है। क्या लग रहा है कि वह रुपये दे देगा?’ ड्राइविंग सीट पर बैठा युवक फिर कहता है, ‘मैसेज करने से पहले सोच लेते कि किससे रुपये मांग रहे हो। पता है पांच करोड़ रुपये कितने होते हैं।’

वीडियो में बातचीत के दौरान ड्राइविंग सीट के बगल में बैठा युवक किसी सोनू का नाम भी ले रहा है। वह कह रहा कि ‘अगर सोनू भैया को बता दिया तो पता है क्या होगा? सोनू भैया ने हाथ हटा दिया तो क्या होगा, इसका अंदाजा है तुम लोगों को?’ लगभग एक मिनट 54 सेकंड के वीडियो में सारी बातचीत वायरल हुई है।

बता दें कि स्वामी चिन्मयानंद के प्रवक्ता ओम सिंह ने चौक कोतवाली में 22 अगस्त को मुकदमा दर्ज कराया था कि अनजान नंबर से चिन्मयानंद के फोन पर वाट्सएप मैसेज आया। मैसेज में कहा गया कि पांच करोड़ रुपये नहीं दिए तो तुम्हें बदनाम कर देंगे।

यह भी पढ़ें. एटम बम मतलब “परमाणु बम”, तो ऐसे दुनिया हो जायेगी खाक!

यह है मामला…

पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के कॉलेज में पढ़ने वाली छात्रा ने 24 अगस्त को वीडियो वायरल कर उन पर गंभीर आरोप लगाए थे। मामला सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान में लिया।

कोर्ट के आदेश पर एसआइटी पूरे प्रकरण की जांच कर रही है। छात्रा के पिता की ओर से स्वामी चिन्मयानंद पर अपहरण का मुकदमा, जबकि स्वामी के अधिवक्ता की ओर से अज्ञात के खिलाफ पांच करोड़ की रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज है।

स्वामी चिन्मयानंद एक नजर…

स्वामी चिन्मयानंद का जन्म 3 मार्च 1947 को यूपी के गोंडा जिले में हुआ था। वे अवध के राजघराने से संबंध रखते हैं। युवावस्था में उन्होंने बुद्ध और महावीर से प्रभावित होकर राजघराने से अपने को अलग कर लिया। वो अविवाहित हैं, स्वामी चिन्मयानंद ने लखनऊ यूनिवर्सिटी से एमए की शिक्षा ग्रहण किया है।

इसके साथ ही स्वामी चिन्मयानंद ने तंत्र, फिलॉस्फी और योग में महारत हासिल की है। राजनीति सफर इनका सुहावना रहा है। वाजपेयी सरकार में ये गृहराज्यमंत्री बनाए गए थे।

1991 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के टिकट पर चिन्मयानंद बदायूं से जीत हासिल करके संसद पहुंचे थे। 1998 में इन्होंने मछलीशहर से जीत हासिल की। इसके बाद 1999 के चुनाव में इन्होंने जौनपुर सीट से जीत हासिल की।